scorecardresearch
 

UP: बेटी कहीं प्रेमी के साथ भाग न जाए, परिजनों ने गला घोंटकर कर दी हत्या, शव को नहर में फेंका

इटावा में हुई 14 साल की नाबालिग लड़की की हत्या के आरोप में पुलिस ने मृतक लड़की की मां, चाचा समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने नाबालिग की हत्या इसलिए की गई क्योंकि परिजनों को डर था कहीं उनकी बेटी अपने प्रेमी के साथ भाग ना जाए.

X
मां और चाचा ने बेटी की हत्या कर शव नहर में फेंका (फोटो- आजतक) मां और चाचा ने बेटी की हत्या कर शव नहर में फेंका (फोटो- आजतक)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मां ने बेटी की हत्या कर शव नहर में फेंका
  • बेटी के भाग जाने के डर से कर दी हत्या

उत्तर प्रदेश के इटावा से 14 साल की नाबालिग लड़की की हत्या का मामला सामने आया है. पुलिस ने मृतक लड़की की मां, चाचा और अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया है. जबकि इस घटना में शामिल अन्य आरोपी फरार बताया जा रहा है. पुलिस ने बताया कि आरोपियों ने हत्या के बाद लड़की का शव नहर में फेंक दिया था. जसवंतनगर थाना पुलिस ने शव बरामदगी के आठवें दिन तीनों की गिरफ्तार कर घटना का खुलासा किया. यह  पूरा मामला ऑनर किलिंग से जुड़ा हुआ था. 

पुलिस को पूछताछ में मृतक लड़की की मां ने बताया कि वो दिल्ली में अपने परिवार के साथ रहती थी. मोहल्ले में रहने वाले लड़के से उनकी बेटी की दोस्ती हो गई. लड़की को कई बार समझाया पर वो नहीं मानी फिर उसके पिता ने परिवार को गांव भेज दिया. बावजूद इसके दोनों की दोस्ती पर इसका कोई असर नहीं पड़ा और लड़का उससे मिलता रहा. 12 अप्रैल को गांव में दोनों को एक साथ देखा गया और इसकी जानकारी लड़की के परिवार को लग गई. बेटी के प्रेमी के साथ भाग जाने और बदनामी के डर ने उन्होंने बेटी की गला घोंटकर हत्या कर दी. शव को मोटरसाइकिल में ले जाकर नहर में फेंक दिया. 

लड़की का शव 13 अप्रैल को जसवंतनगर थाना क्षेत्र के ग्राम भतौरा नहर पुल में पुलिस को पड़ा मिला था. जिसकी शिनाख्त अरविंद धोबी की पुत्री निवासी ग्राम कछपुरा थाना जसवंतनगर के तौर पर हुई थी. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा. जिसमें पता चला कि लड़की की मौत गला घोंटने से हुई है. शव मिलने के कई दिनों बाद 18 अप्रैल को मृतका की मां रेनू देवी द्वारा अभियुक्तगण भागीरथ तथा शिवसागर पता अज्ञात द्वारा लड़की को बहला फुसलाकर भगा ले जाने तथा हत्या करके शव नहर में फेंक देने का मुकदमा दर्ज कराया गया. 

फोन सर्विलांस और गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस को मृतक लड़की के परिजनों पर शक हुआ. लड़की की मां को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई और सारा मामला खुलकर सामने आ गया. पुलिस टीम द्वारा मुखबिर की सूचना के आधार पर विभिन्न स्थानों से मृतका की मां रेनू देवी, चाचा ब्रजेश कुमार पुत्र मनीराम धोबी निवासीगण कछपुरा और चाचा के साथी दलवीर सिंह उर्फ मोटे पुत्र श्याम सिंह जाटव निवासी नगला बेनीसाल थाना जसवंतनगर को गिरफ्तार किया गया.

इस मामले पर एसपी कपिल देव सिंह ने बताया कि जसवंतनगर के भटौरा पुल के नीचे नहर में एक नाबालिग लड़की का शव मिला था. शव का पोस्टमार्टम कराया गया तो पता चला कि गला घोंटकर हत्या की गई है. मृतका की पहचान होने के बाद बी परिजनों ने पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं कराई थी. जांच के दौरान पुलिस को हत्या में परिजनों की भूमिका नजर आई.  साक्ष्यों के आधार पर  मृतक लड़की की मां चाचा और एक अन्य साथी को गिरफ्तार कर लिया गया है.  पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि उन्हें डर था कि कहीं उनकी बेटी अपने प्रेमी के साथ भाग न जाए. इसलिए उन्होंने उसकी हत्या कर दी. 

(इनपुट- अमित तिवारी)

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें