scorecardresearch
 

MP: ट्रांसफर कराने के नाम पर ऐंठता था रुपये, खुद को मंत्री का OSD बताता था, पुलिस ने किया गिरफ्तार

मध्य प्रदेश पुलिस ने उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव के ओएसडी विजय बुदवानी के नाम पर लोगों को ठगने वाले एक शख्स को गिरफ्तार कर लिया गया है. आरोपी का नाम शैलेंद्र पटेल है जो लोगों से ट्रांसफर करवाने के नाम पर रुपये ऐंठता था.

आरोपी शैलेंद्र पटेल आरोपी शैलेंद्र पटेल
स्टोरी हाइलाइट्स
  • खुद को मंत्री का ओएसडी बताता था
  • ट्रांसफर के नाम पर ऐंठता था पैसे

मध्यप्रदेश पुलिस ने एक ऐसे शातिर ठग को गिरफ्तार किया है जो शिवराज सरकार के एक मंत्री का ओएसडी बन लोगो को ट्रांसफर करवाने का लालच देता था और उनसे रुपये ऐंठता था. 

उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव के ओएसडी विजय बुदवानी ने साइबर सेल भोपाल को एक लिखित शिकायत दी थी कि कोई शख्स उनके नाम का इस्तेमाल कर कॉलेज के प्रोफेसरों को फोन कर ट्रांसफर का लालच देकर उनसे रकम ऐंठ रहा है. 

मंत्री के ओएसडी विजय बुदवानी को कुछ दिन पहले एक महिला प्रोफेसर ने कॉल किया और अपने ट्रांसफर के बारे में बात की तो ओएसडी ने ऐसी किसी जानकारी से इंकार कर दिया. इसपर महिला प्रोफेसर ने बताया कि उन्होंने शैलेंद्र पटेल नाम के एक शख्स को बकायदा 75 हज़ार रुपये भी दे दिये हैं. इसपर ओएसडी में उन्हें बुलाया तो पता चला कि एक शख्स लैंडलाइन फोन से कॉल कर खुद को उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव का ओएसडी बताया और उसके बाद ट्रांसफर के बदले उनसे 75 हज़ार रुपये ले लिए. महिला प्रोफेसर ने बकायदा वो बैंक एकाउंट नंबर भी दिखाया जिसमें रकम भेजी गई थी. 

ये भी पढ़ें-- MP: BJP ने लोकसभा और विधानसभा उपचुनाव की तैयारी शुरू की, विधायकों-सांसदों को सौंपी जिम्मेदारी

मामले की गंभीरता को देखते हुए उच्च शिक्षा मंत्री के ओएसडी ने साइबर सेल को लिखित शिकायत के साथ ही लैंडलाइन नंबर, एक मोबाइल वॉट्सऐप और महिला प्रोफेसर द्वारा बताए गए बैंक खाते का नंबर आईएफएससी कोड के साथ सौंप दिया. इसपर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने शैलेन्द्र पटेल नाम के युवक को भोपाल में गिरफ्तार कर लिया है. 

पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वो लैंडलाइन फोन से बात करता था ताकि लोगों को लगे कि वो स्टाफ में ही काम करता है लेकिन रुपये देने के लिए जब बैंक की जानकारी देनी होती थी तो वो मोबाइल से बात करता था. फिलहाल पुलिस आरोपी से यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि क्या उसने किसी और मंत्री का भी नाम इस्तेमाल कर और कितने लोगों को चुना लगाया है और क्या उसके साथ कोई और भी इस गोरखधंधे में शामिल है? 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें