scorecardresearch
 

लखनऊः पेट्रोल पंप मैनेजर की गोली मारकर हत्या, सुनसान सड़क पर मिली लाश

हत्या की ये वारदात लखनऊ के मोहनलालगंज थाना क्षेत्र की है. जहां भीलमपुर के पास बनी नहर के किनारे पेट्रोल पंप मैनेजर को कुछ अज्ञात बदमाशों ने गोली मार दी. जिससे मौके पर उसकी मौत हो गई. मृतक की पहचान जसवंत सिंह के रूप में हुई है.

पुलिस के हाथ अभी तक कातिल का कोई सुराग नहीं लगा है पुलिस के हाथ अभी तक कातिल का कोई सुराग नहीं लगा है
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पेट्रोल पंप मैनेजर की लाश मिलने से सनसनी
  • लाश के नीचे मिली कंट्रीमेड पिस्टल और कारतूस
  • हमलावरों का सुराग जुटाने की कोशिश में लगी पुुलिस

उत्तर प्रदेश में भले ही कोरोना कहर बरपा रहा हो, लेकिन राजधानी लखनऊ में बदमाशों का आतंक जारी है. जिसके चलते एक पेट्रोल पंप के मैनेजर की गोली मारकर हत्या कर दी गई. मृतक की लाश एक सुनसान सड़क पर मिली. लाश के पास ही एक कंट्रीमेड पिस्टल भी मिली है. पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है. हालांकि अभी तक हमलावरों के बारे में कोई जानकारी पुलिस को नहीं मिल पाई है.

हत्या की ये वारदात लखनऊ के मोहनलालगंज थाना क्षेत्र की है. जहां भीलमपुर के पास बनी नहर के किनारे पेट्रोल पंप मैनेजर को कुछ अज्ञात बदमाशों ने गोली मार दी. जिससे मौके पर उसकी मौत हो गई. मृतक की पहचान जसवंत सिंह के रूप में हुई है. बदमाशों ने उसकी कनपटी पर गोली मारी थी. अभी तक हमलावरों के बारे में कोई जानकारी पुलिस को नहीं मिल पाई है.

एडीसीपी पूर्णेन्दु सिंह ने बताया कि, मृतक का नाम जसवंत सिंह है. जिसकी उम्र 45 वर्ष है. गोली लगने से जसवंत की मौत हो गई. जहां गोली मारी गई, वहां सड़क सूनसान थी और किसी को घटना के बारे में कुछ पता नहीं चला. पुलिस को घटना की सूचना परिजनों के माध्यम से मिली. पूर्णेन्दु सिंह ने बताया कि पुलिस को मौका-ए-वारदात से पर्स, मोबाइल, गाड़ी और कुछ कागज़ बरामद हुए हैं. 

पूर्णेन्दु सिंह ने आगे बताया कि वे पेट्रोल पंप के मालिक और वहां पर कामने वाले लोगों से पूछताछ कर रहे हैं. परिजनों ने किसी भी रंजिश से इनकार किया है. इसमें कोई राजनीति का एंगल भी नहीं दिखाई पड़ रहा है. यह पूरी तरीके से एक अपराधिक घटना है. हम लोग मामले की छानबीन कर रहे हैं और विधिक कार्रवाई करेंगे. पुलिस ने लाश के नीचे से कंट्रीमेड पिस्टल और कारतूस बरामद किया है. पंचनामे के बाद शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है.

उधर, मृतक के भाई धनंजय सिंह का कहना है कि उनकी किसी से कोई लड़ाई नहीं थी. वारदात के वक्त उनके पास पैसे वगैरह भी नहीं थे. जहां उन्हें मारा गया है, वहां आना-जाना नहीं होता है क्योंकि वह जगह पेट्रोल पंप से निकलने के बाद पड़ती है. और वे दूसरी तरफ से घर आते हैं. समझ में नहीं आ रहा है कि वो वहां क्यों गए थे? 

मृतक के भाई धनंजय सिंह ने ये भी बताया कि जब वो (जसवंत सिंह) पेट्रोल पंप से घर के लिए निकले थे. तब 2 घंटे बीत जाने के बाद भी वो घर नहीं पहुंचे और ना ही उनका पता चला. बाद में खबर आई कि ऐसी घटना हो गई है. उनकी किसी से कोई चुनावी रंजिश भी नहीं थी.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें