scorecardresearch
 

UP: पेट्रोल पंपों पर किसानों को डीजल न देने की शिकायत, बवाल मचा तो पुलिस ने मानी गलती

पेट्रोल पंप पर तेल ना देने का मामला यूपी के गाजीपुर से भी आया था. ये आदेश सुहवल व सैदपुर थाने की तरफ से जारी किया गया था, लेकिन सोशल मीडिया पर नोटिस वायरल होने के बाद पुलिस को खूब किरकिरी हुई थी.

नए कृषि कानूनों को लेकर किसानों का प्रदर्शन जारी है (फाइल फोटो) नए कृषि कानूनों को लेकर किसानों का प्रदर्शन जारी है (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ट्रैक्टर रैली निकालने की मिली अनुमति
  • पंप पर तेल ना दिए जाने की शिकायत
  • गाजीपुर पुलिस ने आदेश वापस लिया

कृषि कानूनों के विरोध में किसान 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली निकालेंगे. दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर रैली निकालने की इजाजत दे दी है. इस बीच गाजियाबाद, आगरा, मुरादाबाद से आने वाले किसानों ने शिकायत की है कि कुछ पेट्रोल पंप डीजल नहीं दे रहे हैं. इस शिकायत पर किसान नेता राकेश टिकैत का बयान आया है. राकेश टिकैत ने कहा कि पेट्रोल पंप पर ऐसी समस्या बनी रहती है तो हम हाईवे जाम करेंगे. 

बता दें कि पेट्रोल पंप पर डीजल ना देने का मामला यूपी के गाजीपुर से भी आया था. ये आदेश सुहवल व सैदपुर थाने की तरफ से जारी किया गया था, लेकिन सोशल मीडिया पर नोटिस वायरल होने के बाद पुलिस को खूब किरकिरी हुई. बाद में सफाई देते हुए पुलिस ने अपनी गलती मानी और कहा कि भूलवश इस प्रकार की नोटिस दी गई. इसकी जांच भी होगी. 

गाजीपुर पुलिस की ओर से सोशल मीडिया पर सफाई देते हुए कहा गया कि इस प्रकार का कोई आदेश गाजीपुर में नहीं दिया गया है. थाना सुहवल द्वारा भूलवश इस प्रकार का नोटिस दे दिया गया था, जिसे तत्काल वापस ले लिया गया था. इस लापरवाही के लिए अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण को नोटिस के संबंध में जांच कर रिपोर्ट मांगी गई है. 

देखें- आजतक LIVE TV 
 

वहीं, ट्रैक्टर रैली पर टिकैत ने कहा कि ट्रैक्टर रैली को लेकर हम यहां से अक्षरधाम जाएंगे. अक्षरधाम से वापस आएंगे और फिर आनंद विहार होकर निकल जाएंगे. ये 46 किलोमीटर का रूट है. पुलिस हमारे साथ रहेगी.

308 ट्विटर हैंडल पर नजर 

रैली में साजिश रचने के लिए पाकिस्तान से 308 ट्विटर हैंडल ऑपरेट किए जा रहे थे. इन सभी ट्विटर हैंडल की दिल्ली पूरी पड़ताल कर रही है. साथ ही इन्हें ब्लॉक भी कर दिया गया है. दिल्ली पुलिस के स्पेशल कमिश्नर दीपेंद्र पाठक ने कहा कि हमें कई इंटेलीजेंस इनपुट मिले हैं कि इस ट्रैक्टर रैली को डिस्टर्ब करने की साजिश रची जा रही है. 308 ट्विटर हैंडल पाकिस्तान में बने हैं ताकि लॉ एंड ऑर्डर को खराब किया जा सके और इस ट्रैक्टर परेड को डिस्टर्ब किया जा सके.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें