scorecardresearch
 

लखनऊः सोशल मीडिया पर हनी ट्रैप का खेल, 2 महिलाओं समेत 5 गैंग मेंबर गिरफ्तार

लखनऊ पुलिस के मुताबिक यह गिरोह पेशेवर तरीके से अलग-अलग सोशल मीडिया साइट पर महिलाओं के नाम से फेक अकाउंट बनाता था. फिर अपने आसपास के लोगों को चिन्हित कर उनसे दोस्ती की जाती थी. फिर फोन नंबर लेकर शुरू होता था मीठी-मीठी बातों का सिलसिला.

गैंग की महिलाएं लोगों को अपने जाल फंसाती थी गैंग की महिलाएं लोगों को अपने जाल फंसाती थी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • हजरतगंज थाना पुलिस ने किया हनी ट्रैप गैंग का पर्दाफाश
  • गैंग की महिला सदस्य सोशल मीडिया पर फंसाती थी शिकार

लखनऊ पुलिस ने सोशल मीडिया के ज़रिए लोगों को अपने प्रेम जाल में फंसाकर ब्लैकमेलिंग और ठगी करने वाले एक हनी ट्रैप गैंग का पर्दाफाश कर दिया है. पुलिस ने इस गैंग से जुड़ी 2 महिलाओं समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया है. हैरानी की बात ये है कि आरोपियों के कब्जे से पुलिस की वर्दी भी बरामद हुई है.

लखनऊ पुलिस के मुताबिक यह गिरोह पेशेवर तरीके से अलग-अलग सोशल मीडिया साइट पर महिलाओं के नाम से फेक अकाउंट बनाता था. फिर अपने आसपास के लोगों को चिन्हित कर उनसे दोस्ती की जाती थी. फिर फोन नंबर लेकर शुरू होता था मीठी-मीठी बातों का सिलसिला. 

जब सामने वाले शख्स इन पर भरोसा करने लगता था. तो फोन पर बात करने वाली गैंग की महिला सदस्य अपने शिकार को जाल में फंसाकर मिलने के लिए अपनी जगह पर बुलाती थी. जहां गैंग की दोनों महिलाएं अश्लील बातों के जाल में फंसाकर अपने शिकार के कपड़े उतरवा देती थी.

जहां ये सब चल रहा होता था, तभी गैंग के तीन पुरुष सदस्य पुलिस की वर्दी में वहां एंट्री मारते थे. फिर शिकार का अश्लील वीडियो बना लेते थे. पुलिस को देखकर इनके चंगुल में फंसा शिकार हाथ जोड़ने लगता था. फिर शिकार बने शख्स को ब्लैकमेल किया जाता था. वीडियो वायरल करने की धमकी देकर उससे लाखों रुपये की वसूली की जाती थी.

पुलिस ने हनी ट्रैप गैंग के जिन सदस्यों को गिरफ्तार किया है, उनकी पहचान पंकज गुप्ता, अतुल सक्सेना और अजीजुल हसन सिद्दीकी के रूप में हुई है. इनके साथ दो महिलाएं भी पकड़ी गई हैं, जिनका काम शिकार को फंसाना होता था. डीसीपी मध्य सोमेन वर्मा और एडीसीपी मध्य चिरंजीव नाथ सिन्हा के नेतृत्व में हजरतगंज पुलिस ने इस गैंग का पर्दाफाश किया है. 

पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों के पास से दो दारोगा की वर्दी, एक कांस्टेबल की वर्दी, एक एयर पिस्टल, एक इयोन कार, 6 मोबाइल फोन और वसूले गए 4800 रुपये भी बरामद किए हैं. पुलिस अब इन पांचों आरोपियों से पूछताछ की है. ताकि ये पता लगाया जा सके कि इस गैंग ने कितने लोगों को अपना शिकार बनाया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें