scorecardresearch
 

नोएडाः हनी ट्रैप में फंसाकर बंधक बनाने वाले गैंग का पर्दाफाश, 2 महिलाओं समेत 7 गिरफ्तार

पुलिस को नोएडा निवासी तौसीफ ने सूचना देकर बताया कि उसके भाई नसरत के फोन पर कोई फोन आया था और उसे एफएनजी रोड पर बुलाया था. रात में फोन से पता चला कि उनके भाई नसरत को मुरादनगर गाजियाबाद में कुछ लोगों ने बन्धक बना रखा है.

इस मामले में नोएडा पुलिस ने 2 महिलाओं समेत 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया है इस मामले में नोएडा पुलिस ने 2 महिलाओं समेत 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया है
स्टोरी हाइलाइट्स
  • महिलाओं ने जाल में फंसाकर बनाया था बंधक
  • बंधक के घरवालों से मांगी थी फिरौती
  • नोएडा पुलिस ने मुरादनगर से कराया मुक्त

यूपी के नोएडा में पुलिस ने एक हनी ट्रैप गैंग का पर्दाफाश किया है. पुलिस ने गैंग के कब्जे से एक बंधक को भी मुक्त कराया है. जिसे वसूली के लिए पकड़ा गया था. पुलिस ने इस गिरोह में काम करने वाली 2 महिलाओं समेत कुल 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. इनके कब्जे से बंधक बनाए गए शख्स की कार, मोबाइल फोन और नकदी बरामद हुई है.

मामला नोएडा के थाना फेस-2 का है. जबकि आरोपियों की गिरफ्तारी गाजियाबाद के मुरादनगर में  कब्रिस्तान के पास एक किराए के मकान से की गई. पकड़े गए हनी ट्रैप गैंग के सदस्यों की पहचान मतीन, वकील, राशिद, इमरान, अशरफ, रोशन और शबनम के रूप में हुई है. पुलिस गिरोह के कब्जे से नसरत नामक शख्स को मुक्त कराया है, जो नोएडा के ककराला का रहने वाला है. 

पुलिस को नोएडा निवासी तौसीफ ने सूचना देकर बताया कि उसके भाई नसरत के फोन पर कोई फोन आया था और उसे एफएनजी रोड पर बुलाया था. रात में फोन से पता चला कि उनके भाई नसरत को मुरादनगर गाजियाबाद में कुछ लोगों ने बन्धक बना रखा है और उसके साथ मारपीट हो रही है. किसी महिला के साथ बलात्कार के झूठे मामले फंसाने और उसका आपत्तिजनक वीडियो बनाने के नाम पर 2 लाख रुपये की मांग की जा रही है.

देखेंः आज तक Live TV

इस शिकायत को गंभीरता से लेते हुए नोएडा पुलिस ने योजना बनाई. और गाजियाबाद के मुरादनगर में कब्रिस्तान के पास एक मकान में दबिश देकर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. साथ ही पीड़ित नसरत को भी सकुशल मुक्त करा लिया. पुलिस ने आरोपियों के पास से पीड़ित का मोबाइल फोन, उनकी टोयटा इनोवा कार और घटना में इस्तेमाल किए गए 3 मोबाइल फोन और 20 हजार रुपये की नकदी बरामद की है.

पुलिस के अनुसार यह गैंग अपने शिकार को हनी ट्रैप में फांसता था. इसके बाद अपने शिकार को किडनैप करके उससे भारी-भरकम रकम वसूला करता था. इस गैंग के सदस्य लड़कियों के माध्यम से पीड़ित का अश्लील वीडियो और फोटो अपने कैमरे में कैद कर लेते थे. उसी के आधार पर पीड़ित को ब्लैकमेल किया जाता था. अब पुलिस इस गैंग से जुड़े अन्य आरोपियों की तलाश कर रही है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें