scorecardresearch
 

मुंबई पुलिस ने थाने में की दरिंदगी, सामने आई तस्वीर

मुंबई पुलिस पर जब-तब इल्जाम लगते रहे हैं कि वो बेवजह लोगों को उठाती है, पीटती है उनका तमाशा बनाती है. कुछ महीने पहले इसी मुंबई पुलिस पर प्रेमी जोड़ों को भी जबरदस्ती तंग करने के इल्जाम लगे.

X

मुंबई पुलिस पर जब-तब इल्जाम लगते रहे हैं कि वो बेवजह लोगों को उठाती है, पीटती है उनका तमाशा बनाती है. कुछ महीने पहले इसी मुंबई पुलिस पर प्रेमी जोड़ों को भी जबरदस्ती तंग करने के इल्जाम लगे. जिसके लिए बाद में तब के पुलिस कमिश्नर को माफी भी मांगनी पड़ी. हालांकि लगता है कि मुंबई पुलिस सुधरने को तैयार नहीं. कम से कम हाल में सामने आई तस्वीर तो यही बता रही है. एक पुलिस स्टेशन के अंदर आधी रात के ड्रामे की ये वो तस्वीर है जिसके सामने आने के बाद अब पुलिस को जवाब देते नहीं बन रहा.

आधी रात का वक्त होने के बावजूद मुंबई के अंधेरी पुलिस स्टेशन में इस वक्त खासी भीड़ है. थाने में दूसरे फरियादियों के साथ-साथ एक कपल भी मौजूद है, जिनसे पुलिस के लोग अलग-अलग पूछताछ कर रहे हैं. इस पूछताछ के दौरान लड़की रह-रह कर पुलिसवालों से माफी मांगती है और जाने देने की गुहार लगाती है. वो कहती है कि आइंदा वो इधर नहीं आएगी, चुपचाप ये यहां से चली जाएगी लेकिन लड़की की फरियाद पुलिसवालों पर कोई असर नहीं करती. पूछताछ जारी रहती है और फिर दोनों अपनी-अपनी पहचान बताने लगते हैं. बताते हैं कि वो टेक महिंद्रा में काम करते हैं और ट्रेन लेकर घर जाने वाले हैं लेकिन पुलिसवाले दोनों की नहीं सुनते. बल्कि जवाब देने पर एक महिला पुलिसकर्मी लड़की से बदसलूकी शुरू कर देती है और कभी आई-कार्ड दिखाने पर उसका हाथ झटक देती है तो कभी पूछताछ कर रहा अफसर चेयर समेत लड़की को धक्का दे देता है.

चीखती रही लड़की लेकिन नहीं रुकी पुलिस
लड़की की फरियाद इन पुलिसवालों को कुछ इतनी ज्यादा नगवार गुजरती है वो अचानक ही दोनों पर टूट पड़ते हैं. पुलिस दरअसल लड़के को हवालात में बंद करना चाहती है. और यहीं से शुरू होता है लड़की के चीखने-चिल्लाने और पुलिस के मारपीट करने का बर्बर सिलसिला. अचानक लड़की की आवाज और भी तेज हो जाती है और इस मारपीट से गुस्सा कर वो गाली दे बैठती है. गाली सुन कर पुलिसवालों का पारा सातवें आसमान पर जा पहुंचता है फिर वो दोनों कि ऐसी धुनाई करते है कि उसे देखना भी मुश्किल है.

लेडी और जेंट्स पुलिसवाले दोनों पर एक साथ टूट पड़ते हैं. अब लड़की अपने बचाव के आखिरी हथियार के तौर पर ये बताती है कि उसकी मां पार्लियामेंट में काम करती है. उन्हें नहीं छोड़ने पर वो सारे पुलिसवालों से बात करेगी, लेकिन लड़की की शेखी पर पुलिसवाले अब उसकी खिल्ली उड़ाने लगते हैं. हंसने लगते हैं लेकिन दोनों को पीटने और खींचने का सिलसिला चलता रहता है. और तब लड़की रोने लगती है. हद तो तब हो जाती है, जब पुलिसवालों की पिटाई से लड़की के मुंह से खून आने लगता है.

आखिर क्या था उनका कसूर?
ऐसे ही बुरी तरह पीटते हुए पुलिसवाले जहां लड़के को ले जाकर जबरन हवालात में बंद कर देते हैं, वहीं लड़की को खींच कर अलग कर लिया जाता है. अब लड़की फिर से अपनी मां के पार्लियामेंट में काम करने की बात कहते हुए उन्हें फोन करने की बात कहने लगती है. लेकिन पुलिसवाले अब भी उसकी हंसी उड़ाते हैं. अब तो एक पुलिसवाला तो यहां तक कहता है कि अगर उसकी मां पार्लियामेंट में काम करती है, तो उसका बाप पार्लियामेंट में मिनिस्टर है. सवाल ये है कि 20-22 साल के उम्र के इस जोड़े का आखिर कसूर क्या है? आखिर क्यों पुलिस तमाम फरियाद और गुजारिशों के बावजूद उन्हें जाने देने को तैयार नहीं है? और आखिर उन्हें इस तरह थाने में मारपीट कर हवालात में बंद कर दिया जाता है.

वर्दी के रौब में पुलिस ने जिस जोड़े को आधी रात को थाने में बुरी तरह पीटा, उसका जुर्म बस इतना था कि दोनों चलते-चलते थाने के बाहर सड़क किनारे किसी बात पर बहस करने लगे. वो भी बस जुबानी बहस. कोई मारपीट नहीं ना ही कोई हंगामा या तमाशा. अब ये तो ये पुलिस वाले ही बताएंगे कि सड़क पर तकरार करना किस दफा में कौन सा जुर्म है?

दरअसल, एक कॉल सेंटर में काम करनेवाला ये जोड़ा सोमवार शाम को अपनी ड्यूटी पूरी कर घर लौट रहा था लेकिन दोनों के बीच रास्ते में ही किसी बात को लेकर अनबन हो गई. अभी दोनों अंधेरी थाने से थोड़ी दूर मेट्रो स्टेशन के गेट पास खड़े हो कर कहासुनी कर ही रही थे कि ड्यूटी पर तैनात दो कांस्टेबलों ने उन्हें घेर लिया और हंगामा करने के जुर्म में थाने चलने को कहने लगे. दोनों ने थाने जाने से मना किया और चुपचाप घर चले जाने की बात कही लेकिन पुलिस तो पुलिस ठहरी. वो जबरन दोनों को थाने ले आई और इसके बाद जो कुछ हुआ, वो अब सबके सामने है.

चोरी से रिकॉर्ड किया घटना का वीडियो
सूत्रों की मानें तो उस रात दोनों के साथ मारपीट करने के बाद पुलिस ने उन्हें झूठे मुकदमे में फंसाने की तैयारी में थी लेकिन थाने में ही किसी काम से गए एक एनजीओ के मेंबर ने चोरी-छिपे ये पूरा वाकया अपने मोबाइल फोन पर शूट कर लिया और जब पुलिसवालों को ये कहानी आम कर देने की धमकी दी, तब जाकर पुलिसवालों ने दोनों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का अपना इरादा बदला. अपने बचाव में पुलिसवालों ने जो दलील पेश की, वो भी कम चौंकाने वाला नहीं था. पुलिस ने ऑफ कैमरा ये कहा कि दोनों ने उस रात शराब पी रखी थी और आधी रात को सड़क पर शराब पीकर हंगामा करने के जुर्म में ही उन्हें थाने में लाया गया था. हालांकि हवालात में बंद लड़का बाद में भी पुलिसवालों से ही शिकायत करता कि उनके साथ बेवजह मारपीट की गई.

गले नहीं उतरी पुलिस की दलील
तस्वीरों में देख कर तो कम से कम ऐसा नहीं लगता कि दोनों ने शराब पी रखी है और शराब पीकर कोई हंगामा कर रहे हैं बल्कि अगर तस्वीरों पर जाएं, तो जहां लड़का चुपचाप अपनी जगह पर बैठा नजर आता है, वहीं लड़की तो बार-बार माफी मांगते हुए उन्हें जाने देने की गुजारिश कर रही है. जाहिर है, अगर दोनों ने शराब पी थी, तो पुलिस उनकी मेडिकल जांच करवा सकती थी लेकिन इस तरह मारपीट करने की क्या जरूरत थी? फिलहाल इस सवाल का पुलिस के पास कोई जवाब नहीं है. ये और बात है कि मीडिया के सवालों के बाद अब पुलिस के आला अफसरों ने इस मामले में एक डीसीपी लेवल की इनक्वायरी सेट अप कर दी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें