scorecardresearch
 

बड़े अपराध

महंत नरेंद्र गिरि की मौत ने साधु संतों को परेशान कर दिया है

महंत नरेंद्र गिरि केस: डर के साए में हैं कई साधु संत, क्या है बोधगया-वाराणसी कनेक्शन?

23 सितंबर 2021

बोधगया मठ के महंत रमेश गिरि अपनी जान जाने के डर से बोधगया के मठ में नहीं रहते हैं. महंत रमेश गिरि को डर है कि बोधगया मठ में असामाजिक तत्व उनकी जान ले सकते हैं. पिछले आठ 10 महीनों से वह अपनी जान को बचाते हुए इधर-उधर भटक रहे हैं.

हाल ही में महंत नरेंद्र गिरि का सुसाइड नोट वायरल हो गया है

'लड़की संग फोटो वायरल कर बदनाम करेगा आनंद गिरि' सामने आया महंत नरेंद्र गिरि का सुसाइड नोट

21 सितंबर 2021

8 पेज के इस सुसाइड नोट के पेज 2 पर लिखा है कि मैं आत्महत्या करने जा रहा हूं. मेरी मौत के जिम्मेदार आनंद गिरि, अद्या प्रसाद तिवारी, संदीप तिवारी पुत्र अद्या प्रसाद तिवारी होंगे. इसके अलावा उन्होंने सुसाइड नोट में कई अहम बातें लिखी हैं.

फाइल फोटो

तालिबान ने एजाज अहंगर को किया रिहा, आतंकी बनाने में माहिर

20 सितंबर 2021

खुफिया सूत्रों ने आजतक को बताया कि एजाज काफी तेज दिमाग वाला आतंकी माना जाता है. वह युवाओं को कट्टरपंथ के रास्ते पर ले जाने में माहिर है. उसने अफगानिस्तान में भी कई फिदायीन तैयार किए हैं. वह सोशल मीडिया के जरिए आतंकी बनाने में माहिर है.

ISI अंडरवर्ल्ड टेरर मॉड्यूल

ISI अंडरवर्ल्ड टेरर मॉड्यूल के तार हवाला रैकेट से जुड़े, खंगाला जा रहा मनी ट्रेल

18 सितंबर 2021

बताया जा रहा है कि समीर कालिया, लाला और कुछ अन्य आतंकियों को अनीस इब्राहिम ने हवाला के जरिये पैसे भेजे थे. जांच एजेंसियों के पास अभी तक 3 से 4 लाख रुपये हवाला के जरिये समीर तक पहुंचने के सबूत मिले हैं. 

ये आतंकी गठजोड़ भारत में तबाही मचाने की फिराक में था

बहुत पुराना है ISI और अंडरवर्ल्ड का रिश्ता, जानें- आतंकी मॉड्यूल की इनसाइड स्टोरी

17 सितंबर 2021

वो पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई और अंडरवर्ल्ड का डी गैंग ही था, जिसने 1993 में सीरियल ब्लास्ट करके भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई को दहला दिया था. एक बार फिर ये दोनों मिलकर हिंदुस्तान के खिलाफ खौफनाक साजिश रच रहे थे.

टेरर मॉड्यूल केस में बड़ा खुलासा ( सांकेतिक फोटो)

टेरर मॉड्यूल: दुबई में मास्टमाइंड का ठिकाना, बेटे ने PAK में ली थी ट्रेनिंग

16 सितंबर 2021

पुलिस के अनुसार इस पूरे कांड का असली मास्टमाइंड पाकिस्तान में ट्रेनिंग लेने वाला ओसामा का पिता उसैदुर रहमान है. आजतक को मिली जानकारी के मुताबिक ओसामा का पिता अभी दुबई में है मौजूद है और वहां पर मदरसा चलाता है

शिवाजी के कत्ल को हादसा बनाने में कोई कमी नहीं छोड़ी गई थी

बदला लेने के लिए रची कत्ल की ऐसी साजिश, कातिल का राज जानकर पुलिस भी हैरान

13 सितंबर 2021

अब पुलिस के रडार पर पहली बार शीतल थी. लेकिन सिर्फ़ रडार पर थी. सबूत कुछ नहीं था. अब पुलिस ने बड़ी खामोशी से शीतल के बारे में जानकारी इकट्ठा करनी शुरू कर दी. पुलिस ने शीतल के मोबाइल और सोशल मीडिया में भी झांकना शुरू कर दिया. कोशिश रंग लाई.

अफगानिस्तान में महिलाओं पर जुल्म ज्यादती के मंजर फिर से आम होने लगे हैं

अफगानिस्तान: सरकार बनते ही तालिबान का असली चेहरा सामने, फिर बरसने लगे कोड़े

10 सितंबर 2021

अफग़ानिस्तान में तालिबान में नई सरकार तो बन गई, लेकिन सरकार में शामिल चेहरों को देख कर दुनिया हक्की-बक्की रह गई. फिलहाल ज़्यादातर मुल्कों को तो समझ में नहीं आ रहा है कि आख़िर वो तालिबान की इस नई सरकार का क्या करे? उसे मान्यता दे या फिर उसे सीधे-सीधे खारिज कर दें.

तालिबान की सरकार में कई कुख्यात आतंकियों को मंत्री बनाया गया है

अफगानिस्तान में तालिबान की दहशतगर्द सरकार, प्रधानमंत्री समेत ये मंत्री हैं मोस्ट वॉन्टेड आतंकी

09 सितंबर 2021

दुनिया में ऐसी सरकार की शायद ही कोई दूसरी मिसाल हो. ग़ज़ब की सरकार है और कमाल की कैबिनेट. अब चूंकि अभी कैबिनेट की पहली मीटिंग नहीं हुई है या हुई भी हो, तो कोई तस्वीर सामने नहीं आई. वरना ये देखना दिलचस्प होता कि कैबिनेट की मीटिंग में टेबल पर सिर्फ़ फ़ाइलें ही रखी थीं या एके-47 भी? क्योंकि उसी के दम पर तो ये सरकार तक पहुंचे हैं. पर सरकार की बात करें तो उससे पहले इस सरकार से आपका तार्रुफ़ कराते हैं.

दिल्ली हाई कोर्ट ने इस मामले में फेसबुक और गूगल को कड़ा निर्देश दिया है

दिल्ली HC का आदेश, 'आजतक' के नाम पर चल रहीं 25 फर्जी वेबसाइट्स को करें ब्लॉक

07 सितंबर 2021

'आजतक' ब्रांड की मूल कंपनी लिविंग मीडिया इंडिया लिमिटेड ने अदालत के समक्ष तर्क दिया था कि गुमनाम वेबसाइटें, खुद को 'आजतक' के रूप में दिखाने और पेश करने की कोशिश कर रही थीं, आम जनता को धोखा दे रही थीं. लोगों को गुमराह किया जा रहा था कि ये गुमनाम साइटें 'आजतक' ब्रांड से जुड़ी हुई थीं.

अब तालिबानी सरकार की कमान मुल्ला बरादर के हाथों में होगी

अफगानिस्तानः 19 साल 10 महीने 25 दिन बाद लौटी अमेरिकी फौज, अब तालिबान के सामने है ये चुनौती

03 सितंबर 2021

अमेरिकी सैनिकों के जाने बाद का काबुल भी सहमा सा है. वहां दुकान बाज़ार पहले की तरह खुले तो हैं. मगर रौनक गायब है. लोगों की आमोदरफ़्त तो है, लेकिन महिलाओं का कहीं नामों-निशान तक नहीं है. गरज़ ये कि तालिबान ने अपने आने से पहले ही महिलाओं को अपने-अपने घरों से बाहर ना निकलने की खुली धमकी दे रखी है.

ईडी ने सुकेश की पत्नी लीना से भी लंबी पूछताछ की है

इनसाइड स्टोरीः जेल से लोगों को चूना लगाता रहा महाठग, रईसी देखकर रह जाएंगे दंग

01 सितंबर 2021

आपने कई सारे ठग देखें हैं, लेकिन ऐसे ठग नहीं देखे होंगे. ऐसे ही ठग हैं सुकेश चंद्रशेखर और उसकी फिल्म स्टार बीवी लीना मारिया पॉल. सुकेश फिलहाल सलाखों के पीछे है. जबकि उसकी बीवी एजेंसियों की रडार पर. बाकी दुनिया की नज़र में ये दोनों बड़े बिज़नेसमैन और सिने स्टार हैं, लेकिन ईडी समेत तमाम एजेंसियों की नज़र में ये एक महाठग जोड़ी है.

दुनिया में ये पांच आतंकी संगठन सबसे ज्यादा खूंखार माने जाते हैं

तालिबान समेत दुनिया के वो 5 आतंकी संगठन, जिन्होंने ताकत के लिए खून से लाल किए अपने हाथ

30 अगस्त 2021

अफगानिस्तान तो सिर्फ एक बहाना है, सच तो ये है कि बुराई का कोई वक्त, कोई दौर नहीं होता. जापान से लेकर जर्मनी तक, रूस से लेकर हिंदुस्तान तक और अब सीरिया से खुरासान तक. अपने-अपने वक्त में इन सभी जगहों पर बुराईयों की इबारत लिखी जा चुकी है. खून के दाग अगर घुड़सवारों पर है तो व्हाइट कॉलर वाले भी दूध के धुले नहीं हैं.

तालिबान की चाक चौबंद व्यवस्था के बावजूद काबुल धमाकों से गूंज उठा

अफगानिस्तान को बर्बाद कर सकती है इन आतंकी संगठनों की आपसी दुश्मनी

27 अगस्त 2021

हमले की बात अमेरिका भी जानता था और ब्रिटेन को भी पता था. ऑस्ट्रेलिया भी इस बारे में कह चुका था और तो और काबुल पर काबिज तालिबान भी जानता था. सबके जानते हुए भी आखिरकार गुरुवार की शाम काबुल में वो हो गया, जिसे टालने के लिए दुनिया की बड़ी ताकतें लगी हुई थीं.

काबुल एयरपोर्ट पर अभी अमेरिका समेत कई देशों के सैनिक मौजूद हैं

अफगानिस्तान: कहानी में 4 ट्विस्ट, काबुल एयरपोर्ट पर होगा किसका कब्ज़ा?

26 अगस्त 2021

अफ़ग़ानिस्तान से अमेरिकी फ़ौज की वापसी की फ़ाइनल तारीख यानी 31 अगस्त जैसे-जैसे क़रीब आती जा रही है, वहां फंसे लोगों और उनके अपनों की धड़कनें तेज़ होती जा रही हैं. तालिबान वहां जल्द से जल्द अपनी सरकार बनाना चाहता है. साथ ही वो ये भी चाहता है कि उससे पहले अमेरिका वहां से अपना बोरिया बिस्तर पूरी तरह से समेट ले.

अफगानिस्तान में चंद ही चेहरे हैं, जिनके इर्द गिर्द अब सारी सियासत घूम रही है

अफगानिस्तान: वो चेहरे, जिनके दम पर खेली जा रही शह- मात की बाज़ी

25 अगस्त 2021

एक तरफ पंजशीर के शेर का बेटा अहमद मसूद, पुराने वॉर लॉर्ड अब्दुल रशीद दोस्तम, पूर्व उप राष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह और मिलशिया नेता अता मोहम्मद नूर हैं. और दूसरी तरफ आतंकी संगठन तालिबान, पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई, राष्ट्रपति अशरफ गनी के भाई हशमत गनी अहमदज़ई और तालिबान का नया दोस्त पूर्व गवर्नर गुल आग़ा शेरजई है.