scorecardresearch
 

Mirchi Baba: मोबाइल में पोर्न क्लिप, ज़बान पर इंकलाब.. हैरान कर देगी इस ढोंगी बाबा की करतूत

कल तक जिस बाबा के चरणों में बडे बडे लोटा करते थे. कल तक जिस बाबा के इशारे भर से मुश्किल से मुश्किल काम चुटकियों में हो जाता था. कल तक जिस बाबा का पूरे सूबे में अलग ही रौला था, आज उस मिर्ची बाबा के सितारे गर्दिश में हैं.

X
मिर्ची बाबा के खिलाफ अब कई महिलाएं शिकायत लेकर सामने आ रही हैं मिर्ची बाबा के खिलाफ अब कई महिलाएं शिकायत लेकर सामने आ रही हैं

दूसरों के दुख दूर करने का दावा करने वाला और दूसरों के आंसू पोंछने का दम भरने वाला मिर्ची बाबा फिलहाल खुद जेल में दहाड़े मार-मार कर रो रहा है. इस ढोंगी बाबा की पोल खुलते ही सारी हेकड़ी निकल गई. विश्वास और आस्था के नाम पर अपने भक्तों की आंखों में मिर्च झोंकने वाले मिर्ची बाबा की एक एक करतूत अब सामने आ रही है. पुलिस की मानें तो तंत्र मंत्र के नाम पर मिर्ची बाबा अब तक ना मालूम कितनी ही महिलाओं को अपना शिकार बना चुका है.

गर्दिश में सितारे
कल तक जिस बाबा के चरणों में बडे बडे लोटा करते थे. कल तक जिस बाबा के इशारे भर से मुश्किल से मुश्किल काम चुटकियों में हो जाता था. कल तक जिस बाबा का पूरे सूबे में अलग ही रौला था, आज उस बाबा के सितारे गर्दिश में हैं. किसी के रातों-रात अर्श से फ़र्श पर आ गिरने की सच्चाई क्या होती है, भोपाल के मिर्ची बाबा को देख कर ये आसानी से समझा जा सकता है. 

सलाखों के पीछे परेशान ढोंगी बाबा
महामंडलेश्वर स्वामी वैराग्यनंद गिरि जी महाराज उर्फ़ मिर्ची बाबा. जी हां, कल तक पूरे मध्य प्रदेश में ये नाम ही काफी था. बाबा ने गेरुआ चोला ओढ़ कर वैराग्य का नाटक करते हुए मध्य पदेश के सियासी गलियारों में ऐसी पैठ बनाई थी कि सूबे का बडा से बडा सियासतदान बाबा के सामने हाथ बांधे खडा रहता था. लेकिन अब बाबा रेप के आरोप में ऐसे फंसे हैं कि सारी बाबागिरी हवा हो गई है. ऐशो आराम की जिंदगी से दूर सलाखों के पीछे एक-एक पल निकालना मुश्किल हो रहा है. मिर्ची बाबा को भोपाल पुलिस ने ग्वालियर से हिरासत में लिया था. इसके बाद गिरफ्तारी भोपाल में हुई और आखिरकार अदालत ने 22 अगस्त तक के लिए बाबा को सलाखों के पीछे पहुंचाने का हुक्म दिया. लेकिन जेल पहुंचते ही बाबा की सारी हेकड़ी हवा हो गई.

दलील और सबूत बाबा के खिलाफ
मिर्ची बाबा जेल पहुंचते ही फूट-फूट कर रोने लगे. जेल के मुलाजिमों से लेकर साथी कैदियों तक से खुद के बेगुनाह बताते रहे. ये समझाने की कोशिश करते रहे कि जिस महिला ने उस पर रेप के इल्ज़ाम लगाए हैं, उसे तो वो जानता तक नहीं है और उसे झूठा फंसाया गया है. लेकिन क़ानून और अदालत इमोशन से कहां चलते हैं? यहां तो सारी हक और दलील सबूतों के पैमाने पर ही तौले जाते हैं और फिलहाल ये सबकुछ बाबा के खिलाफ़ है. 

रातभर जेल में रोता रहा मिर्ची बाबा
बाबा के खिलाफ रेप का इल्ज़ाम लगानेवाले महिला ने बाबा की ऐसी-ऐसी कारस्तानियों का खुलासा किया है कि बाबा को करीब से जाननेवाले लोगों को भी उसके इस चेहरे के बारे में जान कर सांप सूंघ जाएगा. जेल में बाबा को सोने के लिए दो चादरें और तीन कंबल दिए गए. लेकिन कल तक जो शख्स मखमल के गुदगुदे बिस्तर पर नींद लेता रहा हो, उसे भला खुरदरी फर्श और चुभने गडनेवाले कंबल के साथ नींद कैसे आती? सो बाबा की पहली रात आंकों में ही निकल गई. बाबा को नींद नहीं आई और वो रात भर रोता रहा. जेल सूत्रों की मानें तो सुबह जब लोग बाबा को जगाने पहुंचे, तो सूजी हुई आंखों के साथ पहले ही हैरान परेशान अपने बैरक में बैठा था.

कैदी नंबर 1949 है मिर्ची बाबा
वैसे तो बाबा फिलहाल मुल्जिम हैं. उन्हें मुजरिम करार नहीं दिया गया है. यानी उनका जुर्म अभी साबित नहीं हुआ है. लेकिन जेल के नियम कानूनों के मुताबिक उन्हें दूसरे विचाराधीन कैदियों की तरह ही एक रजिसटेशन नंबर भी दिया गया है. और ये नंबर है 1949. फिलहाल ये नंबर ही मिर्ची बाबा की यही नई पहचान है और फिलहाल ये मिर्ची बाबा 200 दूसरे कैदियों के साथ विचाराधीन कैदियों के वार्ड में जेल में बंद है. ये तो रही जेल में बंद मिर्ची बाबा की मौजूदा हालत की बात.

 
महिलाओं के आने पर दरवाजे बंद
सूत्रों की मानें तो अब बाबा की रोज की जिंदगी से जुडी ऐसी-ऐसी कहानियां सामने आने लगी हैं कि मामले की जांच कर रहे पुलिसवालों के लिए भी उसकी जनम कुंडली के इन तमाम पहलुओं की पड़ताल करना अब जरूरी हो गया है. बाबा के आस-पड़ोस के लोगों का कहना है कि बाबा भोपाल में अपने डुप्लेक्स में अक्सर संदिग्ध लोगों से घिरा रहता था. मिनाल रेसीडेंसी में उसके मकान में ना सिर्फ बड़े-बड़े और रसूखदार लोग उससे मिलने आते थे, बल्कि कई बार लडकियां और महिलाएं भी उसके पास अकेली ही आती थी. और हद तो ये है कि जब भी कोई महिला उसले मिलने आती, बाबा अपने घर के दरवाजे फौरन बंद कर लिया करता था.

महिलाओं से अकेले में मिलता था मिर्ची बाबा
यहां गौर करनेवाली बात ये है कि बाबा ने जिस महिला बच्चा होने की दवाई देने के लिए अपने पास मिलने बुलाया था, उसे भी बाबा ने अपने पास अकेले ही मिलने के लिए बुलाया था. और उसके इस अकेलेपन का फायदा उठा कर बाबा ने उसके साथ बलात्कार किया. महिला ने अपनी शिकायत में बताया है कि बाबा ने उससे पहले अपने आश्रम के ग्राउंड फ्लोर पर मुलाकात की और फिर उसे कुछ दवाइयां और भभूत देते हुए ऊपर अपने कमरे में जाकर उसे खा लेने को कहा. जिन्हें खाने के बाद महिला का सिर चकराने लगा. उसे नशा सा होने लगा और फिर उसके साथ बाबा ने उसी हाल में रेप किया. 

खास बात ये है कि वैसे तो बाबा ने अपने इस तथाकथित आश्रम में कई सीसीटीवी कैमरे लगा रखे थे, लेकिन जहां बाबा महिलाओं से मुलाकात करते थे, वहां कोई सीसीटीवी कैमरा नहीं था. यानी ऊपर के कमरे में कोई सीसीटीवी कैमरा नहीं लगा था और बाबा ने महिला के साथ वहीं बलात्कार किया था.

मोबाइल फोन में पॉर्न फिल्मों के क्लिप  
उधर, ग्वालियर में जब पुलिस ने बाबा को हिरासत में लिया, तो सबसे पहले उसके मोबाइल फ़ोन की जांच की. लेकिन पुलिसवाले तब हैरान रह गए, जब उन्होंने गेरुआ वस्त्र पहननेवाले इस मिर्ची बाबा के मोबाइल फोन में अश्लील सामग्री देखी. पुलिस की मानें तो बाबा के मोबाइल फोन में कई पॉर्न फिल्मों के क्लिप मिले. कुछ वीडिय क्लिप भी मिले. यही नहीं कई महिलाओं के नाम भी मोबाइल फोन में सेव्ड थे, जिन्हें बाबा ने उसके पति के नाम के आगे बीवी लिख कर सेव कर रखा था. पुलिस सूत्रों की मानें तो बाबा के फोन में पांच नंबर ऐसे मिले, जिन्हें उसने फौजी की बीवी के नाम से सेव कर रखा था. 

मिर्ची बाबा का असली नाम है राकेश दुबे
एक पुरानी कहावत है कि हर पापी का एक भविष्य होता है और हर संत का एक अतीत. तो महामंडलेश्वर स्वामी वैराग्यानंद गिरी उर्फ मिर्ची बाबा का अतीत भी कम उतार चढाव भरा नहीं है. मिर्ची बाबा का असली नाम राकेश दुबे है. ये पहले एक ऑयल मिल में मजदूर हुआ करता था. लेकिन आज उसे सारी दुनिया महामंडलेश्वर के रूप में जानती है. ये भिंड जिले के गोहद से गुजरनेवाली नेशनल हाईवे से 6 किमी दूर मौजूद बिरखड़ी गांव का रहनेवाला बताया जाता है. गांव वालों की मानें तो ये कुल चार भाई हैं और इनमें मिर्ची बाबा यानी राकेश दुबे तीसरे नंबर पर है. 

पहले ऑयल मिल में मजदूरी करता था ढोंगी बाबा
मिर्ची बाबा मिर्ची बाबा बनने से पहले ऑयल मिल में मजदूरी किया करता था. फिर उसने मजदूरी छोड़ दी और अपने हिस्से की जमीन बेच कर ट्रक खरीदा और ट्रांसपोर्ट का काम कर लिया. लेकिन इस धंधे में उसे नुकसान हुआ और इसके बाद वो अहमदाबाद चला गया. वहां इसने प्राइवेट फैक्ट्री में फिर से मजदूरी कर ली. लेकिन इसके बाद वो सार्वजनिक जीवन से दूर हो गया. और जब दोबारा उसे जानने वाले लोगों को उसके बारे में पता चला, तब तक वो राकेश दुबे से मिर्ची बाबा बन चुका था. उसका नाम अब वैराग्यनंद गिरि हो गया था. चूंकि वो मिर्ची की धूनी जलाने का ड्रामा करता था. इसलिए लोग उसे मिर्ची बाबा कह कर पुकारने लगे थे.

बाबा ने ऐसे किया था शक्ति प्रदर्शन
गेरुआ कपड़े पहन लेने के बावजूद मिर्ची बाबा कुछ सालों के बाद अपने घर की तरफ लौटा. अब वो गांवों में भागवत कथा का आयोजन करने लगा था. उसने भिंड, मुरैना, ग्वालियर में घूम-घूमकर कई जगह भागवत का आयोजन किया. और इस तरह वो नेताओं से अपने रिश्ते जोडने लगा. उनके करीब आने लगा. इसके बाद जब उसे पिता की मौत हो गई तो उसने 20 हजार से अधिक लोगों को श्राद्धकर्म में बुलाया और एक तरह से पिता के श्राद्ध को ही अपने पहले शक्ति प्रदर्शन का जरिया बना लिया. इसी शक्ति प्रदर्शन के चलते पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मिर्ची बाबा को खास मान सम्मान देना शुरू किया. सूत्र बताते हैं कि दिग्विजय सिंह ने ही मिर्ची बाबा को राजधानी भोपाल का रास्ता दिखाया और मिनाल रेजीडेंसी का डुपलेक्स भी मिर्ची बाबा को अपने सियासी कनेक्शन के चलते ही मिला था.

पांच क्विंटल लाल मिर्ची से हवन 
बाबा के बारे में कहा जाता है कि साल 2018 विधानसभा चुनाव में बाबा खुल कर कांगेस के सपोर्ट में आ गए. कम्प्यूटर बाबा के बाद के बाद मिर्ची बाबा की भी कई सीनियर कांगेसी नेताओं से छनने लगी. लेकिन इसका बाद जब उन्होंने साल 2019 में लोकसभा चुनाव के दौरान वो कांगेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह की जीत के लिए पांच क्विंटल लाल मिर्ची का हवन किया, तो रातों-रात चर्चे में आ गए. नाटक देखिए कि तब मिर्ची बाबा ने ऐलान किया था कि अगर दिग्विजय सिंह चुनाव नहीं जीते तो वो जल समाधि ले लेंगे. हुआ भी वही. दिग्विजय सिंह को शिकस्त मिली. तब बाबा ने जल समाधि लेने के लिए भोपाल कलेक्टर से इजाजत भी मांगी. जो नहीं मिली और बात आई-गई हो गई. लेकिन बाबा ने कई साल खामोश रहने के बाद ऐसा गुल खिलाया कि वो सीधे जेल ही पहुंच गया.

रेप के मामले में ऐसे फंसा ढोंगी बाबा
मामला ग्वालियर का है. रायसेन की रहेवाली 28 साल की एक महिला की शादी को चार साल हो गए थे, लेकिन घर में अब तक किलकारी नहीं गूंजी थी. वो कई जगह झाड-फूंक करवा चुकी थी, कई लोगों से राय ले चुकी थी. लेकिन रास्ता नहीं खुल रहा था, तभी पड़ोस की महिलाओं ने उसे बाबा वैराग्यनंद उर्फ मिर्ची बाबा के बारे में बताया. उसे बताया गया कि बाबा के पास ऐसी चमत्कारिक शक्ति है कि बाबा के दवा देते ही गोद भर जाती है. फिर महिला ने बाबा की कई तस्वीरें और पोस्टर भी दीवारों पर देखे, जहां बाबा का नंबर लिखा था और फिर ऐसे ही एक नंबर के ज़रिए वो बाबा के संपर्क में आई, फिर तो इसके बाद जो कुछ हुआ. वो बहुत बडा धोखा था. जिसके बारे में महिला ने अपनी तहरीर में तफ्सील से लिखा है. महिला की शिकायत के बाद ही पुलिस ने मिर्ची बाबा को गिरफ्तार कर जेल भेजा है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें