scorecardresearch
 

Coronavirus in India: देश में कोरोना की लहर थम रही है या खतरा बढ़ रहा है? 10 फैक्ट में समझें ग्राउंड पर क्या है हालात

Coronavirus in India: देश में कोरोना के मामलों में एक बार फिर तेजी आ गई है. देश के कई जिलों में संक्रमण दर 10 फीसदी के पार चली गई है. एक्टिव मरीजों की संख्या भी 50 हजार के पार चली गई है.

X
देश में पॉजिटिविटी रेट 2 फीसदी के पार है. (फाइल फोटो-PTI) देश में पॉजिटिविटी रेट 2 फीसदी के पार है. (फाइल फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दिल्ली में संक्रमण दर 7% तो मुंबई में 11% के पार
  • देश में एक्टिव मरीजों की संख्या 50,000 के पार
  • मुंबई में 99.5% सैम्पल में ओमिक्रॉन सब-वैरिएंट

Coronavirus in India: देश में एक बार फिर से कोरोना की रफ्तार बढ़ने लगी है. हालांकि, 24 घंटे में कोरोना के नए मामलों में थोड़ी गिरावट जरूर आई है. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, 24 घंटे में कोरोना के 6,594 नए मामले सामने आए हैं. 

हालांकि, चिंता की बात ये है कि एक्टिव केस तेजी से बढ़ रहे हैं. देश में अब कोरोना का इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 50 हजार के पार पहुंच गई है. 

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच एक्सपर्ट ये भी कह रहे हैं कि घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि ज्यादातर मरीजों में हल्के लक्षण हैं और वो जल्दी ठीक भी हो जा रहे हैं. देश में कोरोना से कैसे हालात हैं? 10 फैक्ट्स से समझें...

सात बातें, जो बढ़ाती हैं चिंता

1. संक्रमण दर बढ़ती जा रही

एक डराने वाली बात ये भी है कि संक्रमण दर भी तेजी से बढ़ती जा रही है. राजधानी दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट 7 फीसदी के पार चला गया है. मुंबई में 11 फीसदी, तो केरल में 13 फीसदी के पार है. देश में भी संक्रमण दर 2 फीसदी के पार है. 

हालांकि, जब तक पॉजिटिविटी रेट 5 फीसदी के अंदर है तब तक संक्रमण को काबू में माना जाता है. विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि 5 फीसदी से ज्यादा पॉजिटिविटी रेट होने पर संक्रमण को बेकाबू माना जाता है. रविवार को स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया था कि देश के 17 जिलों में संक्रमण दर 10 फीसदी से ज्यादा है. वहीं, 24 जिले ऐसे हैं जहां संक्रमण दर 5 से 10 फीसदी के बीच है.

2. दिल्ली-मुंबई में बिगड़ रहे हालात

दिल्ली और मुंबई, दोनों ही जगह कोरोना से हालात बिगड़ते जा रहे हैं. यहां पर कोरोना की चौथी लहर आने के संकेत दिखने लगे हैं. दिल्ली में सोमवार को कोरोना के 614 नए मरीज सामने आए हैं. चिंता की बात ये है कि पॉजिटिविटी रेट बढ़कर 7.06% पर आ गया. रविवार को पॉजिटिविटी रेट 4% के करीब था. हालांकि, रविवार की तुलना में सोमवार को टेस्ट भी आधे ही हुए. 

इसी तरह मुंबई में भी कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है. मुंबई में लगातार 7 दिन से एक हजार से ऊपर मरीज सामने आ रहे हैं. सोमवार को 1,118 नए मरीज सामने आए, जबकि रविवार को 1,803 मामले सामने आए थे. यहां पर पॉजिटिविटी रेट 11.61% पर आ गया है. यानी, हर 100 टेस्ट में से 11 से ज्यादा संक्रमित मिल रहे हैं. एक्टिव केस भी बढ़कर 11,331 हो गए हैं.

ये भी पढ़ें-- Explainer: जानिए कितने खतरनाक हैं ओमिक्रॉन के BA.4 and BA.5 वैरिएंट

केंद्र ने राज्यों को टेस्टिंग बढ़ाने को कहा है. (फाइल फोटो-PTI)

3. ओमिक्रॉन के सब-वैरिएंट्स फैला रहे संक्रमण

देश में अभी भी ओमिक्रॉन डोमिनेंट वैरिएंट बना हुआ है. अब इसके सब-वैरिएंट्स संक्रमण फैला रहे हैं. महाराष्ट्र में 28 मई को ओमिक्रॉन के दो सब-वैरिएंट्स BA.4 और BA.5 से संक्रमित मरीज मिले थे. अब मुंबई में जीनोम सिक्वेंसिंग में सामने आया है कि ओमिक्रॉन के सब-वैरिएंट्स संक्रमण फैला रहे हैं.

मुंबई के 202 सैम्पल में से 201 में ओमिक्रॉन के सब-वैरिएंट्स मिला था, जबकि एक में डेल्टा वैरिएंट मिला था. ओमिक्रॉन के सब-वैरिएंट्स से संक्रमित 201 मरीजों में से तीन में BA.4 और एक में BA.5 की पुष्टि हुई है. 

4. वैक्सीनेटेड भी हो रहे संक्रमित

कोरोना की नई लहर में एक चिंता की बात ये भी सामने आ रही है कि अब वैक्सीनेटेड भी चपेट में आ रहे हैं. हालांकि, तीसरी लहर में भी कई मरीज सामने आए थे, जो वैक्सीन की दोनों डोज लेने के बाद भी संक्रमित हो गए थे. 

बीएमसी ने जिन 202 मरीजों के सैम्पल की जीनोम सिक्वेंसिंग की थी, उनमें से दो मरीज ऐसे थे, जिन्हें वैक्सीन की एक डोज लगी थी, जबकि 129 यानी 64% मरीज दोनों डोज ले चुके थे. वहीं, 71 मरीज ऐसे थे जिन्होंने वैक्सीन नहीं ली थी. 

हालांकि, वैक्सीन लेने वालों में गंभीर बीमारी का खतरा भी कम है. बीएमसी के मुताबिक, वैक्सीन ले चुके 129 मरीजों में से सिर्फ 9 को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत पड़ी और उसमें से एक ही मरीज को आईसीयू में भर्ती कराया गया. वहीं, वैक्सीन नहीं लेने वाले 71 मरीजों में से 9 को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जिनमें से दो को आईसीयू में भर्ती कराया गया और एक की मौत भी हो गई.

5. दिल्ली में जीनोम सिक्वेंसिंग के आदेश

दिल्ली में बढ़ते संक्रमण के बीच सोमवार को उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने जीनोम सिक्वेंसिंग बढ़ाने के आदेश दिए हैं. सोमवार को बैठक में उन्होंने अधिकारियों से दिल्ली में कोरोना मरीजों के सैम्पल की जीनोम सिक्वेंसिंग कराने को कहा है, ताकि नए वैरिएंट का जल्दी से पता लगाया जा सके. 

सरकारी केंद्रों पर अभी भी कोरोना की जांच मुफ्त ही हो रही है. (फाइल फोटो-PTI)

6. स्वास्थ्य मंत्री ने चेताया- कोविड अभी गया नहीं

बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच सोमवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ बैठक की. इस बैठक में उन्होंने फिर चेतावनी देते हुए कहा कि अभी कोरोना गया नहीं है, इसलिए सभी जरूरी प्रोटोकॉल का पालन करना जरूरी है.

मंडाविया ने कहा कि कुछ राज्यों और जिलों में पॉजिटिविटी रेट बढ़ रहा है, लेकिन उसकी तुलना में टेस्टिंग नहीं हो रही है. उन्होंने कहा कि टेस्टिंग बढ़ाने की जरूरत है, ताकि ज्यादा से ज्यादा मरीजों की पहचान की जा सके और संक्रमण को फैलने से रोका जा सके. उन्होंने ये भी कहा कि नए वैरिएंट का पता लगाने के लिए जीनोम सिक्वेंसिंग पर फोकस करना जरूरी है.

7. एक्टिव केस 50 हजार के पार

कोरोना के संक्रमण में तेजी आने के साथ ही एक्टिव केस भी तेजी से बढ़ने लगे हैं. जून शुरू होने से पहले तक देश में कोरोना का इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 19 हजार से भी कम थी, लेकिन अब ये संख्या 50 हजार के पार पहुंच गई है. 24 घंटे में ही एक्टिव मरीजों की संख्या में ढाई हजार से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है. अभी देश में कोरोना का इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 50,548 है.

सबसे ज्यादा एक्टिव केस महाराष्ट्र और केरल में हैं. यहां देश के कुल 65 फीसदी से ज्यादा एक्टिव मरीज हैं. महाराष्ट्र में 17,480 तो केरल में 15,872 एक्टिव मरीज हैं. इसके बाद कर्नाटक में 3688, दिल्ली में 2561 और हरियाणा में 1685 एक्टिव मरीज हैं.

ये भी पढ़ें-- Corona: वैक्सीन न लगवाने वालों में भी ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर बढ़ जाती है इम्यूनिटी!, स्टडी में खुलासा

केंद्र सरकार ने निगरानी बढ़ाने के निर्देश दिए हैं. (फाइल फोटो-PTI)

तीन बातें, जो देती हैं थोड़ी राहत

1. अभी घबराने की जरूरत नहीं

वैक्सीनेशन पर बनी नेशनल टेक्नीकल एडवाइरी ग्रुप (NTAGI) के चेयरमैन डॉ. एनके अरोड़ा ने न्यूज एजेंसी को बताया कि अभी कोरोना का नया वैरिएंट नहीं आया है, देश में अभी ओमिक्रॉन के सब-वैरिएंट्स BA.2 के अलावा BA.4 और BA.5 मौजूद हैं. 

उन्होंने कहा कि गर्मियां की छुट्टियां होने से घूमना-फिरना बढ़ा है, ट्रैवल रिस्ट्रिक्शंस भी हट गए हैं, जिस वजह से संक्रमण तेज हो रहा है. उन्होंने बताया कि अभी जो संक्रमित हो रहे हैं, वो वैक्सीनेटेड हैं और उनमें सामान्य कोल्ड और फ्लू जैसी बीमारी हो रही है.

2. पैरासिटामोल से ठीक हो रहे मरीज

मुंबई स्थित जेजे अस्पताल में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. सुनील भैंसारे ने न्यूज एजेंसी को बताया कि भले ही कोरोना के मामलों में तेजी आई है, लेकिन मरीजों में हल्के लक्षण दिख रहे हैं. उन्होंने कहा कि मुंबई देश की आर्थिक राजधानी है. यहां विदेशी यात्रियों का आना-जाना लगा रहता है. यहां से कोरोना से जुड़ी सारी पाबंदियां भी हटा ली गईं है, जिस वजह से संक्रमण बढ़ रहा है.

भैंसारे इस समय सेंट जॉर्ज अस्पताल में कोविड फैसिलिटी को भी संभाल रहे हैं. उनका कहना है कि यहां 19 मरीज भर्ती हैं, जिनमें से ज्यादातर या तो कैदी हैं या फिर पुलिस कस्टडी में रह रहे आरोपी हैं. उन्होंने बताया कि किसी भी मरीज को ऑक्सीजन सपोर्ट की जरूरत नहीं है. अगर उन्हें किसी भी तरह की शिकायत रहती है, तो  भी उन्हें पैरासिटामोल और जरूरी इलाज दिया जा रहा है. 

3. ये कोरोना की हल्की लहर है

मुंबई स्थित ग्लोबल हॉस्पिटल में सीनियर कंसल्टेंट डॉ. मंजुषा अग्रवाल ने न्यूज एजेंसी को बताया कि नई लहर में मरीज 48 से 72 घंटे में ठीक हो जा रहे हैं. उन्होंने बताया कि किसी भी मरीज को रेमडेसिविर की जरूरत नहीं पड़ रही है. मरीजों को कोई बड़ी समस्या भी नहीं रही है, जो बताता है कि वैक्सीन असरदार साबित हुई है.

संक्रमण बढ़ने के बाद बावजूद डॉ. अग्रवाल कहतीं हैं कि चिंता करने जैसी कोई बात नहीं है, क्योंकि ये 'हल्की लहर' है. उन्होंने कहा कि ये कोरोना की बाकी लहरों की तुलना में 'हल्की लहर' जरूर है, लेकिन सारे कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना जरूरी है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें