scorecardresearch
 

देश में सिर्फ 20 फीसदी लोगों ने कोरोना की बूस्टर डोज लगवाई, बड़े राज्य सबसे पीछे

देश में अबतक सिर्फ 20 फीसदी लोगों ने कोरोना की बूस्टर डोज ली है. सबसे कम मेघालय में 8 फीसदी, सबसे ज्यादा अंडमान निकोबार द्वीप समूह 78 फीसदी लोगों ने बूस्टर डोज लगवाई है. इसके अलावा दिल्ली में 21, यूपी में 22, महाराष्ट्र में 13, एमपी में 17, बंगाल में 24, केरल में 13, बिहार में 23 और असम में 16 फीसदी पात्र लोगों को बूस्टर डोज लगाई गई है.

X
फाइल फोटो फाइल फोटो

कोरोना का खतरा अभी खत्म नहीं हुआ है, इसीलिए सरकार लगातार वैक्सीनेशन पर जोर दे रही है. हालांकि अब देश में अब तक पात्र लोगों में से सिर्फ 20 फीसदी ने बूस्टर डोज ली है. इनमें सबसे कम पूर्वोत्तर राज्य मेघालय और इसके बाद झारखंड, नागालैंड, पंजाब और हरियाणा जैसे राज्य हैं.  

देश में 18-59 वर्ष की आबादी करीब 77 करोड़ है. सरकारी आंकड़ों से पता चला है कि इनमें से सिर्फ 12 फीसदी लोगों ने बूस्टर डोज लगवाई है. वहीं 60 साल से ऊपर की आबादी करीब 16.80 करोड़ है, इनमें से 35 फीसदी लोगों ने बूस्टर डोज ले ली है. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि 'कोविड टीकाकरण अमृत महोत्सव' शुरू होने के बाद 15 जुलाई से अब तक कुल 15.66 करोड़ लोगों को बूस्टर डोज दी गई है और 10.39 करोड़ खुराकें दी जा रही हैं. वहीं 18-59 साल के बीच 64,89,99,721 लोग बूस्टर डोज के लिए पात्र थे, 14 जुलाई तक इनमें से सिर्फ 8 फीसदी लोगों ने बूस्टर डोज लगवाई थी.    

सबसे कम मेघालय में लगी बूस्टर डोज 

देश में सबसे कम बूस्टर डोज मेघालय में लगाई गई हैं. यहां 18 साल से ऊपर के पात्र लोगों में से केवल 8 फीसदी लोगों ने डोज ली है. इसके बाद झारखंड-नागालैंड में 9-9 फीसदी और पंजाब-हरियाणा में 10-10 फीसदी है. वहीं प्रमुख राज्यों में कवरेज केवल एक तिहाई है. केंद्र शासित प्रदेश अंडमान और निकोबार द्वीप समूह 78 प्रतिशत के साथ चार्ट में सबसे आगे है और उसके बाद लद्दाख में 59 प्रतिशत है. दिल्ली में ये कवरेज 21 फीसदी है.

इसके साथ ही यूपी में 22 फीसदी कवरेज है. वहीं महाराष्ट्र में 13 फीसदी लोगों ने एहतियाती खुराक ली है. मध्य प्रदेश में 17, पश्चिम बंगाल में 24, केरल में 13, तमिलनाडु-राजस्थान में 14, कर्नाटक में 18, गुजरात में 32, बिहार में 23 और असम में 16 फीसदी पात्र लोगों ने बूस्टर डोज ली है.  

15 जुलाई को शुरू किया था अभियान

केंद्र सरकार ने 15 जुलाई को 18 साल से ऊपर सभी लोगों को सरकारी वैक्सीनेशन सेंटर्स पर मुफ्त बूस्टर डोज देने के लिए 75 दिवसीय विशेष अभियान शुरू किया था. भारत की आजादी की 75वीं वर्षगांठ मनाने के लिए सरकार के आजादी का अमृत महोत्सव के तहत पात्र आबादी के बीच COVID-19 वैक्सीन एहतियाती खुराक को बढ़ावा देने के उद्देश्य से अभियान 'COVID टीकाकरण अमृत महोत्सव' का आयोजन किया जा रहा है. 

92 फीसदी लोगों को लग चुकी डबल डोज 

अधिकारियों ने बताया कि भारत की 98 प्रतिशत वयस्क आबादी को COVID-19 वैक्सीन की कम से कम एक खुराक मिली है, जबकि 92 प्रतिशत को पूरी तरह से टीका लगाया जा चुका है. स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में प्रशासित कुल टीके की खुराक मंगलवार को 212.37 करोड़ को पार कर गई है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें