scorecardresearch
 
टेक न्यूज़

WhatsApp डिलीट करने का खोज रहे हैं कारण? इन वजहों से अभी कर दें

WhatsApp
  • 1/8

WhatsApp अभी काफी विवाद में चल रहा है. फेसबुक स्वामित्व वाले इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप की भी सर्विस अभी छह घंटे तक डाउन रही थी. इसके अलावा इसकी प्राइवेसी पॉलिसी पर भी लगातार सवाल उठते रहे हैं. प्राइवेसी पसंद करने वालों के लिए WhatsApp एक अच्छा मैसेजिंग प्लेटफॉर्म नहीं माना गया है. 

WhatsApp
  • 2/8

क्या आप WhatsApp को डिलीट करना चाहते हैं? लेकिन, इसके लिए आपको कोई एक कारण नहीं मिल रहा है तो यहां पर हम आपको इसको डिलीट करने के कई कारण बता रहे हैं. 
 

WhatsApp
  • 3/8

सबसे पहला कारण है इसे फेसबुक ने खरीद लिया है. फेसबुक और डेटा प्राइवेसी को लेकर काफी सवाल उठते रहे हैं. इस वजह से फेसबुक से जो भी रिलेटेड है वो प्राइवेसी के हिसाब से सही नहीं होता है. एक रिपोर्ट के अनुसार इंस्टाग्राम सबसे ज्यादा डेटा कलेक्ट करता है. 

WhatsApp
  • 4/8

2014 में जब फेसबुक ने वॉट्सऐप को खरीदा था तब से इसकी प्राइवेसी पॉलिसी पर लगातार सवाल उठ रहे हैं. वॉट्सऐप को लेकर विवाद तब खड़ा हुआ जब इसने इस साल नई प्राइवेसी पॉलिसी जारी किया. इसके जरिए वॉट्सऐप बिजनेस के लिए फेसबुक और एडवरटाइजर के साथ यूजर्स के कुछ डेटा को शेयर करना चाहता था. 

WhatsApp
  • 5/8

इसके बाद यूजर्स इसके अल्टरनेटिव मैसेजिंग ऐप्स के तरफ जाने लगे. कंपनी ने फिर कई बार अपनी प्राइवेसी पॉलिसी को समझाने की कोशिश की लेकिन ये लोगों का विश्वास नहीं जीत पाया. वॉट्सऐप बहुत ज्यादा डेटा रीड करता है. 

WhatsApp
  • 6/8

सभी ऐप्स को काम करने के लिए डेटा के एक्सेस की जरूरत पड़ती है. लेकिन वॉट्सऐप कुछ ज्यादा ही डेटा एक्सेस करता है. ऐपल ऐप स्टोर पर दिखाया गया है वॉट्सऐप आपके बेसिक्स डेटा के अलावा शॉपिंग हैबिट, फाइनेंशियल इंफो, यूसेज डेटा और डिवाइस डिटेल्स को कलेक्ट करता है. 

WhatsApp
  • 7/8

एकतरफ वॉट्सऐप कहता है ये सेफ्टी, सिक्योरिटी और इंटीग्रिटी के लिए जरूरी जानकारी फेसबुक के साथ शेयर करता है. दूसरी तरफ, ये मार्केटिंग के लिए फेसबुक के साथ डेटा शेयर करने की बात को नकार देता है. टेक्निकली एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन चैट को सेफ रखता है लेकिन बार-बार पॉलिसी चेंज यूजर्स के मन में संदेह पैदा करता है. 

WhatsApp
  • 8/8

अभी हाल ही में ये डाउन रहा था. इसके साथ फेसबुक और इंस्टाग्राम भी डाउन रहे थे. इस वजह से लोगों को कम्युनिकेट करने में काफी दिक्कत आई थी. अगर एक सर्विस का यूज सभी करेंगे तो फ्यूचर में भी इस तरह की दिक्कत आ सकती है. ऐसे में जरूरी है इसके अल्टरनेटिव की ओर भी देखा जाए.