scorecardresearch
 

ई-मेल आईडी सिक्योर रखने के लिए उठाएं ये कदम, वरना हैक होने पर हाथ मलते रह जाएंगे

इन स्टेप्स को फॉलो कर के आप अपनी ईमेल आईडी को सिक्योर कर सकते हैं. इसके बाद हैकर्स के लिए आपकी आईडी हैक करना आसन नहीं होगा.

इन तरीकों को अपनाकर बचाएं अपनी ईमेल आईडी इन तरीकों को अपनाकर बचाएं अपनी ईमेल आईडी

ईमेल आईडी यूज करना लोगों की जरूरतों में से एक है. ईमेल आईडी पर कई तरह की संवेदनशील जानकारियां भी होती हैं जिन्हें आप किसी के साथ शेयर नहीं करना चाहते. पर कई बार आपकी आईडी हैक हो जाती है, कई बार लोग आपके पासवर्ड का अंदाजा लगा लेते हैं और आप उसे किसी शातिर हैकर की करतूत समझकर छोड़ देते हैं.

आमतौर पर लोग अपने आईडी का पासवर्ड अपना मोबाइल नंबर, बर्थ डे, या गर्लफ्रेंड/बॉयफ्रेंड के नाम पर बनाते हैं, जिनको एक नन्हा हैकर यानी साइबर हैकि‍ंग की शुरुआत करने वाला भी आसानी से क्रैक कर लेता है.

हर साल 100 कमजोर पासवर्ड कि लिस्ट जारी होती है जिनमें एक नंबर पर 123456789 पासवर्ड होता है. इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि हैकर्स को इनके एकाउंट्स हैक करना कितना आसान है. गूगल समेल सभी ईमेल सर्विसेज लोगों को सलाह देती हैं कि अपने पासवर्ड में स्पेशल कैरेक्टर और कोई नंबर जरूर यूज करें. हालांकि अधि‍कतर लोग इसे गंभीरता से नहीं लेते हैं.

लेकिन कई बार पासवर्ड मजबूत होने के बावजूद आईडी हैक हो जाता है. ऐसा आपके साथ न हो इसलिए यहां बताए गए टिप्स को ध्यान में रखें. इन टिप्स को तब भी फॉलो करें जब आपने पासवर्ड में स्पेशल कैरेक्टर्स और नंबर्स जोड़े हों.

रिकवरी डिटेल
ईमेल एकाउंट में अपना सही मोबाइल नंबर और दूसरी ईमेल आईडी दर्ज करके रखें, जिसका आप इस्तेमाल कर रहे हैं. ये दोनों आपको एकाउंट हैक होने पर रिकवरी में मदद करेंगे. इसके अलावा सिक्योरिटी आंसर ऐसा दें जो आपको याद रहे.

सिक्योर पासवर्ड
अपने पासवर्ड में एक अपर केस, एक लोअर केस, एक स्पेशल कैरेक्टर और एक न्यूमेरिक की जरूर रखें. ऐसा नहीं करेंगे तो हैकर्स बहुत आसानी से आपके ईमेल आईडी में सेंध लगा लेंगे.

टू स्टेप ऑथेन्टिकेशन
जीमेल सहित लगभग सभी बड़ी ईमेल सर्विस सिक्योरिटी के लिए टु स्टेप ऑथेन्टिकेशन का ऑप्शन देती हैं. चाहें तो इसे इनेबल कर लें. इसके लिए सिक्योरिटी सेटिंग्स में जाकर अपना मोबाइल नंबर दर्ज करें. इससे हर बार लॉग-इन करने के लिए आपके मोबाइल पर वेरिफिकेशन की भेजी जाएगी जिसके जरिए ईमेल लॉग-इन होगा.

फालतू मेल अटैचमेंट ना खोलें
हैकर्स अटैचमेंट के जरिए मैलवेयर भेजते हैं. आप जैसे ही अटैचमेंट खोलते हैं आपके कंप्यूटर्स में कुछ मैलवेयर ठिकाना बना लेते हैं. फिर धीरे-धीरे वे आपके बिहेवियर को पढ़कर आपकी लॉग-इन डिटेल अपने आका यानी हैकर्स को भेजते हैं.

पब्लिक वाईफाई ना यूज करें
कोई आपको बिल्कुल फ्री वाई फाई दे, ऐसा मुमकिन नहीं. इसलिए कुछ पैसे देकर डेटा पैक रिचार्ज कराएं. पब्लिक वाईफाई के जरिए हैकर्स पैकेट ट्रेसर से आपके बारे में इंफॉर्मेंशन निकाल लेतें हैं. आगे से किसी पड़ोसी का भी वाईफाई यूज करने से बचें. क्या पता वह आपके पासवर्ड जानने के लिए फ्री वाईफाई दे रहा हो!

लॉग-इन करते रहें
क्योंकि कई बार इस बात की खबर भी नहीं होती और आपका ईमेल आईडी दूसरा शख्स यूज करता है. अगर आप लगातार अपना ईमेल चेक नहीं करेंगे तो आपको इस बात का पता भी नहीं चल पाएगा.

SMS एलर्ट रखें ऑन
ईमेल आईडी की सिक्योरिटी सेटिंग्स में एसएमएस एलर्ट को ऑन रखें ताकि जैसे ही कोई आपकी आईडी खोलने की कोशिश करे, आपके पास तुरंत मैसेज आ जाए.

एक्टिविटी देखते रहें
ईमेल सेटिंग्स में जाकर लास्ट एक्टिविटी देखते रहें. इससे आपको यह पता चलेगा कि आपकी आईडी पिछली बार किस लोकेशन से और किस समय यूज की गई थी. इसमें ब्राउजर का नाम और किस ऑपरेटिंग सिस्टम से आपकी आईडी खोली गई थी, की भी जानकारी मिलेगी.

लॉग आउट/ पासवर्ड
कहीं भी अपनी ईमेल आईडी खोले तो इस बात को सुनिश्चि‍त कर लें कि वहां Remember Password वाले बॉक्स पर चेक का निशान न हो. इसके अलावा कंप्यूटर छोड़ने से पहले यह भी तय कर लें कि आपकी आईडी अच्छी तरह लॉगआउट हो गई हो.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें