scorecardresearch
 

Mangal Transit 2022: मंगल का मकर राशि में प्रवेश, इन 3 राशि वालोंं की बढ़ सकती है मुश्किल

मंगल की चाल से लोगों की जिंदगी पर बड़ा प्रभाव पड़ता है. मंगल का मकर राशि में प्रवेश होगा. 7 अप्रैल को मंगल कुंभ राशि में प्रवेश कर जाएंगे. ज्योतिषियों की मानें तो इस गोचर के दौरान कर्क, धनु और कुंभ राशि के जातकों को थोड़ा संभलकर रहने की सलाह दी जाती है.

X
Mangal Rashi Parivartan 2022: मंगल का मकर राशि में प्रवेश, इन 3 राशियों के लोग हो जाएं सावधान Mangal Rashi Parivartan 2022: मंगल का मकर राशि में प्रवेश, इन 3 राशियों के लोग हो जाएं सावधान
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 7 अप्रैल को कुंभ राशि में प्रवेश कर जाएंगे मंगल
  • मंगल के मकर राशि में जाने के बाद 3 राशि वाले रहें सावधान

ग्रहों के सेनापति मंगल का 26 फरवरी को राशि परिवर्तन होने जा रहा है. मंगल की चाल से लोगों की जिंदगी पर बड़ा असर पड़ता है. मंगल 7 अप्रैल को कुंभ राशि में प्रवेश कर जाएंगे. ज्योतिषियों की मानें तो इस गोचर के दौरान कर्क, धनु और कुंभ राशि के जातकों को थोड़ा संभलकर रहने की सलाह दी जाती है. आइए जानते हैं सभी राशियों पर इस गोचर का कैसा असर होने जा रहा है.

मेष- मंगल पहले और आठवें घर का स्वामी है और करियर, नाम और प्रसिद्धि के दसवें घर में गोचर कर रहा है. इस गोचर अवधि के दौरान करियर के लिहाज से आपको अपने प्रयासों में सफलता तो हासिल होगी. आर्थिक मोर्चे पर समय शानदार रहने वाला है. हालांकि सलाह दी जाती है कि कोई भी बड़ी खरीदारी या बड़ा निवेश करने से बचें. प्रेम जीवन सुखमय और आनंदमय बना रहेगा.

वृषभ- मंगल बारहवें और सातवें भाव का स्वामी है और भाग्य, आध्यात्मिकता, उच्च शिक्षा और पिता के नवम भाव में गोचर कर रहा है. इस अवधि में आपकी आमदनी में वृद्धि हो सकती है. किसी लंबी यात्रा पर जाने का मौका भी मिल सकता है. करियर के लिहाज से आपके व्यवसाय के संबंध में लाभ कमाने का एक अच्छा समय साबित होगा. वहीं विवाहित जोड़ों को रिश्तो में कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.

मिथुन- मिथुन राशि के लिए, चंद्र राशि मंगल छठे और ग्यारहवें घर का स्वामी है और जादू, अचानक हानि/लाभ और विरासत के आठवें घर में गोचर कर रहा है. गोचर की यह अवधि आर्थिक रूप से आपके लिए स्थिर और सुरक्षित रहने वाली है. हालांकि आपको किसी को भी निवेश की देने से बचने की सलाह दी जाती है. अन्यथा आप को नुकसान उठाना पड़ सकता है. करियर के लिहाज से यह समय अवधि आपके लिए थोड़ी कठिन साबित हो सकती है.

कर्क- मंगल दसवें और पांचवें भाव का स्वामी है और विवाह और साझेदारी के सप्तम भाव में गोचर कर रहा है. इस गोचर अवधि में आपको अपने करियर की राह में कुछ समस्याएं उठानी पड़ सकती हैं. लोगों के साथ किसी भी तरह की बहस करने से बचें. इसके अलावा व्यापारी वर्ग के जातकों को भी यह समय तनावपूर्ण लग सकता है. इस दौरान कोई भी नया स्टार्टअप या नया प्रोजेक्ट शुरू ना करें.

सिंह- मंगल चतुर्थ और नवम भाव का स्वामी है और छठे भाव में ऋण, शत्रु और रोग के भाव में गोचर कर रहा है. करियर के मोर्चे पर नौकरी में आप का प्रदर्शन धीरे-धीरे बेहतर होगा और सफलता प्राप्त करने की दिशा में आपके प्रयासों की सराहना की जाएगी. छठे भाव में मंगल शत्रु का नाश करने वाला है, इसलिए आपको चिंता ना करने की सलाह दी जाती है, क्योंकि मंगल की यह स्थिति जल्दी आपके जीवन से दुश्मनों को हटा देगी.

कन्या- मंगल तीसरे और आठवें भाव का स्वामी है और प्रेम, रोमांस और संतान के पंचम भाव में गोचर कर रहा है. इस गोचर अवधि के दौरान करियर मोर्चे पर आपको कुछ चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है. आपकी पदोन्नति और वेतन वृद्धि में और देरी होने की आशंका है. वहीं गोचर की यह अवधि व्यवसायी जातकों के लिए औसतन साबित होगी और उन्हें इस अवधि के दौरान वांछित लाभ नहीं प्राप्त होगा.

तुला- मंगल द्वितीय और सप्तम भाव का स्वामी है और इस समय वह माता आराम और विलासिता के चतुर्थ भाव में गोचर कर रहा है. इस समय अवधि के दौरान आप अपनी नौकरी में ज्यादा व्यस्त रहने वाले हैं. ऐसे में सलाह यही दी जाती है कि अपने प्रयासों में कोई भी कमी ना आने दें, इस दौरान आपको वेतन वृद्धि, पदोन्नति, इनाम, मान सम्मान प्राप्त होने की प्रबल संभावना बन रही है. यदि आप एक व्यवसायी हैं तो नई संपत्ति खरीदने की भी संभावनाएं हैं.

वृश्चिक- मंगल पहले और छठे भाव का स्वामी है और भाई-बहन, दस्तावेज, छोटी यात्रा और साहस के तीसरे भाव में गोचर कर रहा है. मंगल ग्रह का यह गोचर आपके लिए बेहद ही अनुकूल रहने वाला है क्योंकि इस दौरान आप अपनी कड़ी मेहनत और प्रयास से अपने जीवन के हर एक क्षेत्र में सफलता हासिल करेंगे. नौकरी या करियर के चलते छोटी दूरी की यात्रा करनी पड़ सकती है हालांकि आपकी ये यात्राएं आपके लिए फलदायी साबित होंगी. आपके भाइयों के साथ आपके संबंध बेहद ही खुशनुमा और शानदार रहने वाले हैं.

धनु- मंगल पंचम और बारहवें भाव का स्वामी है और धन, धन, परिवार और वाणी के दूसरे भाव में गोचर कर रहा है. आपके घर के सदस्यों के साथ संपत्ति संबंधित कुछ विवादों का सामना करना पड़ सकता है. ऐसे में सलाह दी जाती है कि अपनी वाणी पर संयम रखें. विरोधी और प्रतिद्वंदी आप पर दबाव बनाने की कोशिश करेंगे और आप की छवि खराब करने का प्रयत्न कर सकते हैं. करियर को लेकर जितना हो सके सावधान रहें. वित्त या किसी भी तरह के निवेश के संबंध में कोई भी निर्णय लेने से पहले सोच विचार कर लें.

मकर- मंगल 11वें और चौथे घर का स्वामी है और पहले घर में गोचर कर रहा है जो आत्म, व्यक्तित्व और आत्मविश्वास का प्रतीक है. मंगल का यह गोचर आपके व्यापार में कुछ बदलाव लेकर आ सकता है और मुमकिन है कि आपका स्वभाव थोड़ा आक्रामक हो जाएगा. इसलिए आप को शांत और धैर्यवान रहने की सलाह दी जाती है. आपको कुछ तनाव का सामना करना पड़ सकता है. कोई नई संपत्ति खरीदने या अपनी मौजूदा संपत्ति में नवीनीकरण आदि कराने के लिए यह समय उपयुक्त है.

कुंभ- मंगल दसवें और तीसरे भाव का स्वामी है और खर्च, अस्पताल में भर्ती, विदेश यात्रा/निपटान और मोक्ष के द्वादश भाव में गोचर कर रहा है. इस समय अवधि के दौरान आपकी से छोटी दूरी की यात्रा पर जा सकते हैं. हालांकि यह यात्रा आपके लिए ज्यादा फलदायी नहीं साबित होगी. इस दौरान आपके वरिष्ठ लोगों का व्यवहार भी आपके प्रति कठोर हो सकता है. नौकरी बदलने की स्थानान्तरण आदि के लिए यह समय अनुकूल नहीं है.

मीन- मीन राशि के लिए मंगल नवम और द्वितीय भाव का स्वामी है और लाभ, इच्छा और सामाजिकता के एकादश भाव में गोचर कर रहा है. मीन जातकों के लिए मंगल गोचर काल की अवधि सकारात्मक रहने वाली है. इस अवधि के दौरान आपको अपने दोस्तों, स्वास्थ और भाग्य काम भरपूर साथ मिलेगा. आपको लंबे समय से जिस पदोन्नति और वृद्धि का इंतजार था वह हासिल हो सकती है. आपको अपने वरिष्ठों से पुरस्कार और सम्मान भी प्राप्त हो सकता है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें