scorecardresearch
 

Moose Wala हत्याकांड के बाद उत्तर भारत में और एक्टिव क्यों हुए गैंग? देखें वारदात

Moose Wala हत्याकांड के बाद उत्तर भारत में और एक्टिव क्यों हुए गैंग? देखें वारदात

29 मई को जब पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला का कत्ल हुआ, तो सभी निगाहें लॉरेंस विश्नोई और गोल्डी बराड़ की तरफ मुड़ गई. क्योंकि ये लॉरेंस विश्नोई ही था, जो शुरू से सिद्धू मूसेवाला को जान से मारने की धमकी दे रहा था. ऊपर से कत्ल के फ़ौरन बाद कनाडा में बैठे उसके साथी गोल्डी बराड़ ने सोशल मीडिया पर मूसेवाला के कत्ल की ज़िम्मेदारी ले ली. क़ायदे से होना तो ये चाहिए था कि इतने बड़े हाई प्रोफ़ाइल मर्डर के बाद पंजाब समेत पूरे उत्तर भारत में गैंग्स और गैंगस्टरों पर शामत आ जाती, पुलिस का क्रैकडाउन शुरू हो जाता, ताबड़तोड़ गिरफ्तारियां होती, अगर कहीं कोई गैंगस्टर पुलिस को चुनौती देता तो एनकाउंटर जैसी कार्रवाई होती, लेकिन यहां हुआ ठीक उल्टा. देखें वारदात.

After the murder of Punjabi singer Sidhu Moose Wala Police should have taken action against the gangs and gangsters of North India including Punjab, there should have been quick arrests, and if a gangster challenged the police, there would have been an encounter-like action, but the exact opposite happened. Watch Vardat.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें