scorecardresearch
 

वारदात

एक करोड़पति किन्नर का कैसे हुआ कत्ल? देखें वारदात

12 अप्रैल 2021

आखिरकार दिल्ली में बीते साल किन्नर एकता जोशी के मर्डर की गुत्थी सुलझ गई. पुलिस ने कातिल को धर दबोचा है. दरअसल ये लड़ाई प्रतिस्पर्धा की थी. असल में उत्तर पूर्वी दिल्ली के जीटीबी एनक्लेव की रहनेवाली एकता और अनिता जोशी किन्नरों की दुनिया की वो हस्ती थी, पूरी दिल्ली और आस-पास के इलाके में जिनके नाम का सिक्का चलता था. दोनों खुद अपनी बीसियों चेलों के साथ जीटीबी एनक्लेव की एक ऐसी आलीशान कोठी में रहती थीं, जिसकी कीमत करीब 10 करोड़ रुपये की होगी. वैसे तो इस कोठी की मालकिन अनिता जोशी ही बाकी किन्नरों की गुरु थीं, लेकिन अनिता अब अपनी ये तख्त-ओ-ताज़ अपनी बेटी एकता के हवाले करनेवाली थी. फिर किसने रची कत्ल की साजिश, क्यों हुआ एकता का कत्ल, किसने सुलझाई मर्डर मिस्ट्री, देखें वारदात, शम्स ताहिर खान के साथ.

बेकाबू होकर लौटा है कोरोना संक्रमण?

12 अप्रैल 2021

कोरोना की दूसरी लहर ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. रोज लाख से ज्यादा केस सामने आ रहे हैं. डरने वाली बात ये है कि संक्रमण की दूसरी लहर ना सिर्फ पहले से ज्यादा घातक है. बल्कि इसके लक्षण और शिकार भी नए हैं. ऊपर से चिंता की सबसे बड़ी बात ये है कि भारत में दोबारा कोरोना होने की रफ्तार दुनिया में सबसे ज्यादा है. यानी जो लोग ये सोच रहे थे कि एक बार कोरोना होने के बाद खतरा टल गया, उनके लिए खतरे घंटी है. माना जा रहा है कि अगले चार हफ्ते भारत के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं. देखें खास कार्यक्रम, श्वेता सिंह के साथ.

एंटीलिया साजिश में सचिन वाजे के साथ प्रदीप शर्मा भी शामिल?

09 अप्रैल 2021

मुंबई के पूर्व सुपर कॉप एनकाउंटर स्पेशियलिस्ट और सचिन वाज़े के गुरु प्रदीप शर्मा से आखिर एनआईए क्यों पूछताछ कर रही है? लगातार दो दिनों तक घंटों उनसे क्या पूछाताछ हुई. 2019 में ही पुलिस सेवा से रिटायर हो चुके प्रदीप शर्मा का 2021 की एंटीलिया साज़िश से क्या लेना देना? प्रदीप शर्मा का मनसुख हिरन से क्या रिश्ता? इन सवालों के जवाब हर कोई जानना चाहता है. एनआईए सूत्रों के मुताबिक उनके पास इस बात की पुख्ता जानकारी है कि एंटीलिया के बाहर स्कॉर्पियो में जिलेटिन की जो 20 छड़ें रखी हुई थीं सचिन वाज़े वो छड़ें प्रदीप शर्मा की मदद से ही हासिल की थी. पर सवाल ये है कि प्रदीप शर्मा ने ऐसा क्यों किया? क्या उन्हें सचिन वाज़े की साज़िश के बारे में पहले से पता था या इस साज़िश के साथ वो पहले दिन से खुद भी जुड़े हुए थे? देखें वारदात.

पहले बर्खास्तगी फिर दोबारा बहाली, क्या है सचिन वाजे की असल कहानी, देखें वारदात

08 अप्रैल 2021

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने कुछ वक्त पहले ये इल्ज़ाम लगाया था कि जब शिवसेना के साथ उनकी सरकार थी और वो मुख्यमंत्री थे तब शिवसेना ने सचिन वाज़े को वापस बहाल करने के लिए कहा था. तब एडवोकेट जनरल ने तब कहा था ये ठीक नहीं होगा.क्योंकि सचिन वाज़े को कोर्ट के आदेश पर सस्पेंड किया गया है. और उसके खिलाफ हिरासत में हुई हत्या का मामला चल रहा है. तो ये तो रही कहानी सचिन वाज़े के केस, उसकी बर्खास्तगी, औऱ दोबारा उसकी बहाली की.

मुंबई पुलिस का वसूली गैंग! देखें वारदात

08 अप्रैल 2021

पहले एंटीलिया के बाहर स्कॉर्पियो में आधा-अधूरा बम, इसके बाद महाराष्ट्र के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह का लेटर बम, एनआईए की हिरासत में सचिन वाजे का एक और लेटर बम. कुल मिलाकर एंटीलिया की साजिश हाशिए पर है. सचिन वाजे ने अपने खत में महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख पर आरोप लगाया है बल्कि उन्होंने परिवहन और उपमुख्यमंत्री पर संगीन आरोप लगाया है. एक लेटर बम 20 मार्च को मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने फोड़ा था. अब एक दूसरा लेटर बम फूटा है. इस बार ये लेटर बम फोड़ने वाला कोई और नहीं बल्कि वही सचिन वाजे है जिसने 39 दिन पहले स्कॉर्पियो में बम रखा था. देखें वारदात, शम्स ताहिर खान के साथ.

माफिया डॉन मुख्तार की यूपी वापसी! देखें वारदात

06 अप्रैल 2021

मुख्तार अंसारी के दादा इंडियन नेशनल कांग्रेस के अध्यक्ष रहे. नाना नौशेरा की लड़ाई के हीरो और परमवीर चक्र विजेता रहे. पिता कम्युनिस्ट पार्टी के इज्जतदार नेता रहे. चाचा देश के उप राष्ट्रपति रहे, भाई सांसद रहे, बेटा शॉटगन चैंपियन रहा. ऐसी शानदार विरासत और उस विरासत की तस्वीर है मुख्तार अंसारी. 6 अप्रैल दोपहर क़रीब दो बजे रोपड़ जेल से एक काफिला निकलता है. मंज़िल है करीब हजार किमी दूर यूपी की बांदा जेल. 26 महीने पहले 24 जनवरी 2019 को बांदा जेल से जो कहानी शुरू हुई थी, 26 महीने बाद उसी बांदा जेल में मुख्तार अंसारी की कहानी, दोबारा दस्तक देने जा रही है. पंजाब और यूपी की जेलों के बीच पिछले 26 महीने से जो लड़ाई जारी थी, वो आखिरकार खत्म हो गई. मुख्तार का फिर से वही अब पुराना पता होगा बांदा जेल. तो फिर मुख्तार अंसारी यूपी की जेल से दूर पंजाब की जेल में ही क्यों रहना चाहता था? यूपी और पंजाब की जेलों के बीच ये लड़ाई क्यों शुरू हुई? देखें वारदात, शम्स ताहिर खाने के साथ.

अनिल देशमुख को क्यों गंवानी पड़ी कुर्सी? देखें वारदात

05 अप्रैल 2021

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह की 20 मार्च को लिखी गई चिट्ठी के ठीक 16वें दिन बॉम्बे हाई कोर्ट ने एक याचिका पर फैसला सुनाया. याचिका ये थी कि परमबीर सिंह ने महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर सौ करोड़ महीने की उगाही का संगीन इल्जाम लगाया था. बॉम्बे हाई कोर्ट ने इस पर सुनावई करते हुए कहा कि ये मामला बेहद संगीन है. इल्जाम सीधे गृहमंत्री पर है. पुलिस जिनके अंडर में काम करती है. इसलिए पुलिस निष्पक्ष जांच नहीं कर सकती. लिहाजा, जरूरी है कि इस केस की जांच की इंडिपेंडेंट जांच हो. इसलिए ये कोर्ट ये हुक्म सुनाती है कि सीबीआई बिना एफआईआर दर्ज किए इस मामले की जांच करे और अगले 15 दिनों के अंदर जांच की प्राथमिक रिपोर्ट इस कोर्ट के सामने रखे. उस प्राथमिक रिपोर्ट के बाद ही ये तय होगा कि इस मामले में अनिल देशमुख के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो या ना हो. बस इसी आदेश के बाद अनिल देशमुख का इस्तीफा आता है और वे गृहमंत्री के पद से हट जाते हैं. लेकिन क्या है इस्तीफे की इनसाइड स्टोरी, देखें वारदात, शम्स ताहिर खान के साथ.

इमरान की नीयत में चीनी कम! क्यों नहीं सुध रहा पाकिस्तान?

05 अप्रैल 2021

भारत के कड़े रुख के चलते पाकिस्तान में अक्सर खौफ हाई रहता है लेकिन इन दिनों गजब का कंफ्यूज़न हाई है. ऐसा लगता है जैसे कोई वहां रोज इमरान और उनके मंत्रियों को किसी ड्रामे की स्क्रिप्ट पकड़ा देता है और लग जाती है पूरी पाकिस्तान सरकार डायलॉग रिहर्सल में. लेकिन अगले ही दिन ड्रामा भी बदल जाता है और डायलॉग भी. इस सबके चलते पाकिस्तान जिस रूप में दुनिया के मंच पर आता है वो कॉमेडी ऑफ कन्फ्यूजन बन जाता है. हां इस सबके चलते बार बार उसके मुंह से शराफत के ढोंग का मुखौटा जरूर उतर जाता है. असली चेहरा सामने आ जाता है. देखें खास कार्यक्रम, सईद अंसारी के साथ.

वारदात: एंटीलिया केस में मिली बड़ी कामयाबी, खुल गई सचिन वाजे की मिस्ट्री!

03 अप्रैल 2021

एंटीलिया के बाहर स्कॉर्पियो कार किसने खड़ी की. उसमें जिलेटिन की छड़ें किसने रखी. क्यों रखी. कार किसकी थी. लाया कौन. जिलेटिन किसने खरीदी. कार के मालिक को किसने मारा. कैसे मारा. कहां मार. क्यों मारा. इस साज़िश में कौन-कौन शामिल था. जैसे कई दर्जन सवालों की गुत्थियों को एनआईए ने इन 37 दिनों में धीरे धीरे सुलझा लिया. मगर नहीं सुलझ रही थी. तो उस मिस्ट्री वुमन की मिस्ट्री जो वाज़े के साथ पैसों और पैसे गिनने वाली मशीन लेकर मुंबई के पांच सितारा होटल में दाखिल होते हुए सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई थी. देखें वीडियो.

पहले ही सुलझ जाता एंटीलिया केस, अगर परमबीर सिंह मान लेते एटीएस की बात

01 अप्रैल 2021

एंटीलिया केस की जांच के शुरुआती दिनों में अगर महाराष्ट्र एटीएस की बात तब के मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह मान लेते तो शायद एनआईए को बीच में कूदना ही नहीं पड़ता.महाराष्ट्र एटीएस ही एंटीलिया केस को सुलझा लेती. इससे मुंबई पुलिस की भद्द भी नहीं पिटती. लेकिन ऐसा हुआ नहीं. महाराष्ट्र एटीएस के एक अफसर के मुताबिक जांच के शुरुआती दिनों में ही उन्हें स्कॉर्पियो का सच पता चल चुका था. लेकिन उस समय परमबीर सिंह ने उनकी बात नहीं मानी, जिसकी वजह से इस केस पर इतना हंगामा बरपा. देखें.

वारदात: कतर जेल की में बंद थे ओनिबा शरीक, अब लौटेंगे देश!

31 मार्च 2021

विदेश से भारत लाने के लिए सरकार और एजेंसियां हमेशा कोशिशें करती रही हैं लेकिन शायद ये पहला मौका है, जब विदेश की जेल में बंद एक बेगुनाह हिंदुस्तानी जोड़े को बाइज्जत भारत लाने के लिए सरकार और एजेंसियों ने ऐसी मिसाल पेश की. आजतक की मुहिम आखिरकार रंग लाई. नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो, प्रधानमंत्री दफ्तर, विदेश मंत्रालय और क़तर में भारतीय दूतावास की मेहनत का नतीजा आखिरकार सामने आ गया. पिछले करीब दो साल से कतर की जेल में बंद मुंबई की ओनिबा और शरीक को ऐन होली और शबे बारत के दिन कतर की अदालत ने बाइज्जत बरी कर दिया. अब ओनिबा और शरीक कभी भी भारत डिपोट कर दिए जाएंगे. बहुत मुमकिन है कि वो अगले हफ्ते अपने घर में होंगे. इस बेगुनाही की लड़ाई में आज तक भी साथी बना. देखें वारदात.