scorecardresearch
 

जब रामचंद्र गुहा ने स्टेडियम में वेस्ट-इंडीज के फास्ट बॉलर को बीड़ी पीते देखा

वेस्ट इंडीज ने ग्रीनिज, कालीचरण और लॉयड की बैटिंग की बदौलत पहला टेस्ट मैच जीत लिया. इसके साथ ही उन्हें ऐंडी रॉबर्ट्स की गेंदबाजी का भी बेहतरीन साथ मिला. रॉबर्ट्स के एंटीगुआ के साथी विवियन रिचर्ड बल्ले से सफल नहीं रहे. वो पहली इनिंग्स में 4 और दूसरी में 3 पर आउट हुए. दोनों ही मौकों पर भगवत चन्द्रशेखर ने उन्हें वापस भेजा.

वेस्ट-इंडीज के फास्ट बॉलर Keith Boyce वेस्ट-इंडीज के फास्ट बॉलर Keith Boyce
स्टोरी हाइलाइट्स
  • रामचंद्र गुहा की किताब में हैं क्रिकेट की कई कहानियां.
  • एक इंटरव्यू के चलते बेदी को मिला थी सज़ा.
  • वेस्ट-इंडीज़ का ये बॉलर टी-सेशन में पी रहा था बीड़ी.

रामचंद्र गुहा ने जब 1965 में इस खेल को फॉलो करना शुरू किया था, तब विश्व क्रिकेट में भारत का कद बहुत छोटा था. देश ने तब तक विदेशी धरती पर एक भी टेस्ट मैच नहीं जीता था. कुछ 50 साल बाद जब वो बीसीसीआई में शामिल हुए, भारत इस खेल पर एकछत्र राज कर रहा था. क्रिकेट का कॉमनवेल्थ इस बदलाव की कहानी है. इस किताब के जरिये आप भारत में स्कूल, कॉलेज, क्ल, राज्य और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेले जाने वाले क्रिकेट की नस-नस से वाकिफ हो सकते हैं. ये किताब स्थानीय नायकों, प्रांतीय उस्तादों और अंतर्राष्ट्रीय सितारों की चमकदार तस्वीर पेश करती है.

उन दिनों, जब भारत में 5 दिनों की टेस्ट सीरीज खेली जाती थी, मैच दिल्ली, बॉम्बे, मद्रास, कलकत्ता और कानपुर में खेले जाते थे. इससे होता ये था कि हर जोन के पास एक मैच आता था. मगर वेस्ट इंडीज के खिलाफ इस सीरीज के लिए एम चिन्नास्वामी ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड से दरख्वास्त की और कानपुर का मैच बैंगलोर की झोली में आ गया. 

और इस तरह से चिन्नास्वामी स्टेडियम ने इंडिया और वेस्टइंडीज के बीच खेले जाने वाले पहले टेस्ट की मेजबानी की. इंडिया की तरफ से एक ऐसा खिलाड़ी नहीं खेल रहा था जो बीते 8 सालों से टीम में होता ही होता था—बिशन सिंह बेदी. उन्हें क्रिकेटीय वजहों से नहीं हटाया गया था बल्कि उन्हें इसलिए बाहर बैठना पड़ा था क्योंकि उन्होंने एक टेलीविजन इंटरव्यू में भारतीय क्रिकेट के कुछ नामों की आलोचना कर दी थी. उनकी जगह हरियाणा के बाएं हाथ के स्पिनर राजिन्दर गोयल को लिया गया था लेकिन वो अन्तिम ग्यारह में जगह नहीं बना पाये.

वेस्ट इंडीज ने ग्रीनिज, कालीचरण और लॉयड की बैटिंग की बदौलत पहला टेस्ट मैच जीत लिया. इसके साथ ही उन्हें ऐंडी रॉबर्ट्स की गेंदबाजी का भी बेहतरीन साथ मिला. रॉबर्ट्स के एंटीगुआ के साथी विवियन रिचर्ड बल्ले से सफल नहीं रहे. वो पहली इनिंग्स में 4 और दूसरी में 3 पर आउट हुए. दोनों ही मौकों पर भगवत चन्द्रशेखर ने उन्हें वापस भेजा.

दूसरा टेस्ट दिल्ली में होना था. मैं बेसब्री से इसका इंतजार कर रहा था लेकिन इसका टिकट कहां से आता? मैंने अपने परिवार के कनेक्शन का जुगाड़ लगाकर भारतीय टीम के रिजर्व विकेटकीपर सैयद किरमानी से सम्पर्क किया. वो उसी जगह रहते थे जहां मेरे नाना-नानी रहते थे और उसी कॉलेज में पढ़ते थे जिसमें मेरे सबसे छोटे मामा शंकर पढ़ते थे. मैच से एक शाम पहले मैं किरमानी से मिलने मेडेन्स होटल पहुंचा जहां भारतीय टीम रुकी हुई थी. उन्होंने मुझसे कहा कि उनके पास अगले दिन के टिकट नहीं थे लेकिन उन्होंने मुझसे अगले दिन फिर आने को कहा.

विश्व-हिंदी दिवस गीतः रस बन के बरस जाए भाषा तो वही है

इस मैच में बेदी खेल रहे थे लेकिन कप्तान पटौदी और उपकप्तान गावस्कर, दोनों को चोट की वजह से बाहर बैठना पड़ा. टीम में वरिष्ठता के आधार पर विकेटकीपर फारुख इंजीनियर को कप्तान होना था. मैच शुरू होने से एक रोज पहले, एक रिसेप्शन के दौरान बोर्ड के उप-अध्यक्ष आरपी मेहरा ने इंजीनियर को बता भी दिया था कि वो ही अगले रोज इंडिया की कप्तानी करने वाले थे. लेकिन रात भर में ही ये आदेश बदल दिया गया क्योंकि मद्रास के एम.ए. चिदम्बरम ने उनके फैसले को बदलवा दिया. तमिलनाडु से आने वाले चिदम्बरम चाहते थे कि उनकी ही जमीन के एस वेंकटराघवन इंडिया की कमान संभालें. चूंकि टीम में प्रसन्ना और बेदी को तो होना ही होना था, वेंकटराघवन को टीम में जगह देने के लिए विव रिचर्ड्स के लिए बुरा सपना बन चुके चन्द्रशेखर को प्लेयिंग इलेवन से हटाना पड़ा. 

मैंने पहले दिन का खेल टीवी पर देखा. इंडिया 220 रनों पर आउट हो चुकी थी और दिन का खेल खत्म होने पर वेस्ट इंडीज 1 विकेट खोकर 10 रन बना चुकी थी. उस शाम मैं एक बार फिर मेडेन्स होटल गया जहां किरमानी ने मुझसे कहा कि उनके पास फिर टिकट नहीं था और मैं अगले दिन फिर जाकर तीसरे, चौथे और पांचवें दिन के टिकट के बारे में जान सकता हूं. मैं बेहद दुखी मन से वापस कॉलेज लौटा. लेकिन यहां मुझे खुशी तब मिली जब मेरी क्लास के एक लड़के ने मुझे बताया कि उसके पास एक एक्स्ट्रा टिकट था जो उसके दोस्त के पापा ने दिलवाया था. उसके दोस्त के पापा एजुकेशन मिनिस्ट्री में सेक्रेटरी थे. 

रामचंद्र गुहा
रामचंद्र गुहा

ये टिकट नये-नये बने आरपी मेहरा ब्लॉक का था (जीते-जागते क्रिकेट अधिकारियों के नाम पर भवनों का नाम रखने की रवायत सिर्फ बैंगलोर तक ही सीमित नहीं थी. चेपॉक के मद्रास स्टेडियम का नाम एम.ए. चिदम्बरम के नाम पर रखा जा चुका था. ये स्टैंड साइट-स्क्रीन के ठीक ऊपर था जहां से मैदान का सबसे अच्छा व्यू मिल रहा था. मैं खेल शुरू होने से एक घंटा पहले ही आ गया था. मैं जहां बैठा था, उसके ठीक नीचे इस मैच के कप्तान एस वेंकटराघवन फील्डिंग प्रैक्टिस कर रहे थे. एक ग्राउंड बॉय रोलर पर काफी जोर से गेंदें फेंक रहा था और वेंकट उससे उछलकर आती गेंदों को लपक रहे थे. वो दाहिने, बायें, ऊपर, नीचे कूद रहे थे और गेंद उनके किसी एक हाथ में आकर थम रही थी. ये एक शानदार प्रदर्शन था जो शायद मेरे ही मुनाफे के लिए पेश किया जा रहा था.

जब खेल शुरू हुआ तो बेदी एक छोर से आये और सैयद आबिद अली की मीडियम पेस दूसरे छोर से. आबिद ने बड़ी आशा के साथ ग्रीनिज के सामने गेंद पटकी और ग्रीनिज ने उन्हें स्क्वायर लेग के ऊपर हुक मार दिया. मैंने ऐसा कातिलाना हुक शॉट इससे पहले कभी नहीं देखा था. जैसे कॉलेज में होता था, उससे उलट, गेंद हवा में ऊपर की ओर नहीं बल्कि मैदान के समानान्तर मारी गयी थी. गेंद जमीन से 8 फीट से ऊपर उठी ही नहीं. सीमा-रेखा के पार जाते हुए भी गेंद बेहद नीचे ही थी और जाकर सीमेंट की सीढ़ियों पर जा टकराई. 
ग्रीनिज के साथ नाइटवॉचमैन बैटिंग कर रहा था. ये हजरत थे बायें हाथ से धीमी गेंदें फेंकने वाले सेंट कीट्स के एलेक्वेमेडो टोनितो विले. प्रसन्ना ने इन दोनों को खेल के पहले ही घंटे में निपटाया और फिर कालीचरण और रिचर्ड्स क्रीज पर आ गये. कालीचरण जहां शॉट्स पर शॉट्स मार रहे थे वहीं रिचर्ड्स ने शुरुआत बेहद आराम से की. रिचर्ड्स खुश थे कि चन्द्रशेखर नहीं खेल रहे थे लेकिन फिर भी वो हड़बड़ी नहीं थे. अगले दिन अखबारों ने दावा किया कि रिचर्ड्स ने 5 रनों के स्कोर पर वेंकट की गेंद पर कीपर को कैच दे दिया था लेकिन उन्हें आउट नहीं दिया गया. मुझे ये कतई याद नहीं है लेकिन हां, मैं कालीचरण के वो ख़ूबसूरत लेट कट और लेग साइड में खेली गयी तमाम ग्लाइड नहीं भूला हूं. 

रामचंद्र गुहा कि किताब का अनुवाद
रामचंद्र गुहा कि किताब का अनुवाद

जब कालीचरण 44 रनों पर थे, उन्होंने बेदी को मिड विकेट के ऊपर से मारना चाहा. बल्ले का ऊपरी किनारा लेकर गेंद हवा में उठ गयी. सरदार चिल्लाया—"बृजेश!" उनकी आवाज स्टैंड्स में हम तक पहुंच गयी. पटेल ने वो कैच पकड़ा और वेस्ट इंडीज 4 विकेट खोकर 123 रनों पर पहुंच गयी. दरवाजे तो खुल चुके थे लेकिन उन्हें दौरे पर आई टीम के कप्तान ने आकर बन्द कर दिया. लॉयड अपनी उस विशाल देह के साथ साक्षात् मैदान पर उतरे. उनकी मूंछ और चश्मे ने उनके सभी इरादों को पर्दे में रखा हुआ था. दिसम्बर 1974 में और उसके आस-पास वो दुनिया के सबसे खतरनाक बल्लेबाज थे. (ऑस्ट्रेलिया के बॉलर गैरी गिलमोर से पूछा गया था कि वो लॉयड को कैसे बॉलिंग करने की सोचते हैं तो उन्होंने कहा था—‘हेलमेट लगा के.’) घंटे भरे में ही उन्होंने गेम पलट के रख दिया. वेंकट को पहले पुल मारा और फिर मिड-विकेट के ऊपर छक्का जड़ा. बेदी को करारे स्क्वायर कट मारे गये, लेकिन सबसे खतरनाक शॉट था प्रसन्ना को मारी गयी बैक-फ़ुट ड्राइव. गेंद घास के नतमस्तक तिनकों को रौंदते हुए, बाउंड्री पर पहुंची. 

साहित्य तक टॉप 10- कविताः विद्रोही स्वर के बीच बना रहा प्रेम राग

ओवरों के बीच लॉयड रिचर्ड्स से बात कर रहे थे. वो उस नये लड़के में हिम्मत भर रहे थे. इसके बाद रिचर्ड्स के भी हाथ खुले. उनके शॉट्स में अलग ही क्लास था. वेंकट ने आबिद को अटैक पर लगाया लेकिन रिचर्ड्स ने उन्हें ऑफ-साइड में 2 बार बाउंड्री पहुंचाया. अम्पायर के एक बेहद बकवास फैसले पर लॉयड आउट हुए. और जब तक वो गये, पांसा पलट चुका था. बेदी को छक्के के लिए ऑफ ड्राइव मारने के बाद एक चौके की मदद से रिचर्ड्स अपने शतक तक पहुंचे. उन्हें पहले तो अच्छी ड्राइव मारने वाले बर्नार्ड जूलियन का साथ मिला और फिर स्वीप मारने वाले कीथ बॉयस का. दिन का खेल खत्म होने तक वेस्ट इंडीज ने 6 विकेट के नुकसान पर 378 रन बना लिये थे और मैच उनकी मुट्ठी में था. 

जैसा कि मैंने कहा है, मुझे 1974 में दिल्ली में खेले गये उस मैच के पहले दिन का खेल ज्यादा कुछ याद नहीं है. मैंने वो टीवी पर देखा था.  लेकिन दूसरे दिन का एक-एक मिनट मेरे ज़हन में छपा हुआ है. एक-एक कर के ग्रीनिज, लॉयड, रिचर्ड्स, बॉयस और जूलियन के मारे कुल पांच छक्के. प्रसन्ना और बेदी की कलात्मक गेंदबाजी. दिन भर हुई कमाल की फील्डिंग और वेंकट का कैचिंग प्रैक्टिस के दौरान किया वो प्रदर्शन जिसके गवाह 2 लड़के और एक कौव्वा था. इस सब के अलावा एक और बात है जो मैं कभी भी नहीं भूल पाउंगा. ये वाकया चायकाल के दौरान का था. मैं सूसू करने के लिए नीचे उतर रहा था और कीथ बॉयस के बगल से गुजरा. वो विलिंग्डन पवेलियन की सीढ़ियों पर खड़े बीड़ी पी रहे थे. मैंने ऊपर से नीचे तक उन्हें देखा. उन्होंने चटक सफेद रंग टिप-टॉप किट पहनी हुई थी, शर्ट के बटन खुले थे, फास्ट बॉलर वाले बड़े जूते पहने हुए थे और फास्ट बॉलर वाला ही शरीर भी था. और वो बेहद सलीके से पकड़ी गयी बीड़ी उनपर पूरी फब रही थी. 

बुक क्रिकेट का कॉमनवेल्थ का अंश (लेखक- रामचंद्र गुहा)

पुस्तक – क्रिकेट का कॉमनवेल्थ
लेखक – रामचंद्र गुहा
अनुवादक- केतन मिश्रा
प्रकाशक – हार्पर कॉलिन्स
भाषा ‏-‎ हिंदी
मूल्य – किंडल एडिशन 339 रुपये; पेपरबैक 399 रुपये

क़िताब ख़रीदने के लिये इस लिंक पर क्लिक करें

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×