scorecardresearch
 

साहित्य और सिनेमा वही जो सोने ना दे: अनुराग कश्यप

हिंदी फिल्म डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने 'साहित्य आज तक' के मंच पर 'नया सिनेमा नई ज़ुबान' विषय पर अपने विचार रखे. उन्होंने कहा, मेरा मानना है कि जो आपको सोचने पर मजबूर करे, सोने ना दे वही साहित्य और सिनेमा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें