scorecardresearch
 

भारत के इस शहर में सेक्स को लेकर बदल रहा पुराना चलन, सरकारी सर्वे में हुआ खुलासा

नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे-5 की एक रिपोर्ट सामने आई है. इस रिपोर्ट के मुताबिक भारत में बर्थ कंट्रोल और सेफ सेक्स के लिए कंडोम का इस्तेमाल काफी ज्यादा बढ़ गया है. बर्थ कंट्रोल के लिए लोग अब पुराने तरीकों के बजाय नए तरीके का ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं.

X
Photo Credit: Getty Images
Photo Credit: Getty Images
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 3 सालों में कंडोम के इस्तेमाल में बढ़ोतरी
  • बर्थ कंट्रोल के लिए लोग कर रहे मॉर्डन तरीके का इस्तेमाल

अनचाही प्रेग्नेंसी से बचने के लिए भारत में लोग कई तरीके अपनाते हैं. मार्केट में कई ऐसे गर्भनिरोधक मौजूद हैं जिससे अनचाहे गर्भ से बचा जा सकता है. हाल ही में एक सर्वे में पता चला है कि भारत में अनचाहे गर्भ से बचने के लिए पुरुषों में कंडोम का इस्तेमाल भी बढ़ा है. 

नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे ने हाल ही में अपनी पांचवी रिपोर्ट जारी की है. इस रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि भारत में अनचाही प्रेग्नेंसी को लेकर अब लोग काफी सतर्क होने लगे हैं. इसके लिए गर्भनिरोधकों का इस्तेमाल भी बढ़ने लगा है.

साल 2016 में किए गए एक सर्वे में महाराष्ट्र के विदर्भ के 11 जिलों में इन गर्भनिरोधकों का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या 72 फीसदी थी. नई रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि यहां अब 78 फीसदी वयस्क अनचाही प्रेग्नेंसी को रोकने के लिए कंडोम जैसे गर्भनिरोधकों का इस्तेमाल कर रहे हैं. 

बर्थ कंट्रोल का इस्तेमाल करने में महाराष्ट्र में नागपुर शहर सबसे ऊपर है. यहां 84 फीसदी लोगों की ओर से गर्भनिरोधकों का इस्तेमाल किया गया. नागपुर में पिछले तीन सालों में बर्थ कंट्रोल के लिए कंडोम का इस्तेमाल दोगुना हो गया है. यहां कंडोम का इस्तेमाल 7.1 फीसदी से बढ़कर 14.1% फीसदी हो गया है. वहीं, अगर बात महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र की करें तो यहां कंडोम का इस्तेमाल करने वालों की संख्या में 3 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है. 

सर्वे में यह बताया गया है पुराने उपायों के बजाय अब बर्थ कंट्रोल के लिए मॉर्डन तरीके जैसे कंडोम का इस्तेमाल काफी बढ़ गया है. साल 2016 की नेशनल फैमिली हेल्थ सर्विस की चौथी रिपोर्ट में बताया गया था कि सेफ सेक्स और बर्थ कंट्रोल के लिए विदर्भ में कंडोम का इस्तेमाल करने वाले एडल्ट्स की संख्या 7.1 फीसदी थी जिसमें अब 3 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज हुई है. नए सर्वे के मुताबिक, बड़े शहरों के अलावा छोटे शहरों और गांवों में भी लोग सेफ सेक्स के लिए कंडोम का इस्तेमाल कर रहे हैं. 

इस दौरान, विदर्भ में महिलाओं की ओर से ली जाने वाली बर्थ कंट्रोल पिल्स के आंकड़ों में गिरावट देखी गई है. साल 2016 में यह आकंड़ा 2.4 फीसदी था जो कि अब कम होकर 1.7 फीसदी रह गया है. 

इस रिपोर्ट पर सेक्स रोग विशेषज्ञ डॉ. संजय देशपांडे ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि इस सर्वे से ये बात पता चलती है कि कंडोम का इस्तेमाल सिर्फ सेफ सेक्स के लिए नहीं बल्कि प्री- मैरिटल सेक्स के लिए भी बढ़ा है. बर्थ कंट्रोल के लिए शादीशुदा लोग कई तरीके अपनाते हैं जबकि कंडोम का इस्तेमाल शादी से पहले या बाद में कोई भी कर सकता है. इस लेटेस्ट सर्वे से इस बात का पता चलता है कि सिर्फ सेफ सेक्स ही नहीं बल्कि शादी से पहले सेक्स के लिए भी कंडोम का इस्तेमाल बढ़ा है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें