scorecardresearch
 

घुटनों के लिए भी खतरनाक है मोटापा

घुटनों का दर्द एक समस्या है जिसे मोटापा और अधिक बढ़ाने का काम करता है. अध्ययन के मुताबिक, अगर जोड़ों के दर्द को अनदेखा कर दिया जाए तो आगे चलकर ये गंभीर रूप ले सकता है. ऐसे में समस्या बढ़े, उससे पहले ही मोटापे को लेकर सावधान हो जाना चाहिए.

मोटापे से पड़ता है घुटनों पर असर मोटापे से पड़ता है घुटनों पर असर

क्या आप ये जानते हैं कि मोटापे के चलते आपके घुटने भी खराब हो सकते हैं? एक अध्ययन के अनुसार, मोटापे से परेशान लोगों में घुटने से जुड़ी समस्या काफी अधिक होती है. पर वो चाहें तो वजन कम करके घुटनों के दर्द से कुछ राहत पा सकते हैं.

घुटनों का दर्द एक समस्या है जिसे मोटापा और अधिक बढ़ाने का काम करता है. अध्ययन के मुताबिक, अगर जोड़ों के दर्द को अनदेखा कर दिया जाए तो आगे चलकर ये गंभीर रूप ले सकता है. ऐसे में समस्या बढ़े, उससे पहले ही मोटापे को लेकर सावधान हो जाना चाहिए.

इस अध्ययन के तहत मोटापे और घुटनों के दर्द के बीच संबंध का अध्ययन किया गया. इसके लिए शोधकर्ताओं ने करीब 500 मोटे लोगों पर परीक्षण किया. इनमें से ज्यादातर लोगों का कहना था कि उन्हें घुटनों में दर्द रहता है. अध्ययन के दौरान इन लोगों को तीन समूहों में बांट दिया गया. पहले समूह में उन लोगों को रखा गया जो वजन घटाने के लिए कुछ भी नहीं कर रहे थे वहीं दूसरे समूह में उन्हें रखा गया जिन्होंने अध्ययन के दौरान कुछ वजन घटाया. वहीं तीसरे समूह में उन लोगों को रखा गया जिनसे ये कहा गया कि उन्हें इस अध्ययन के लिए मौजूदा वजन का 10 फीसदी घटाना पड़ेगा.

चार साल तक चले इस अध्ययन में ये बात सामने आई है कि वजन घटाकर, घुटनों को खराब होने से रोका जा सकता है. जिन लोगों ने अपने वजन का दस फीसदी घटाया उन्होंने महसूस किया कि अब उन्हें घुटनों से जुड़ी समस्याएं कुछ कम हैं.

इस समूह के अलावा अन्य दो समूहों ने बहुत ही कम वजन घटाया और जिनका वजन बिल्कुल नहीं घटा उन्हें अपने घुटनों में कोई फर्क नहीं महसूस हुआ. इस अध्ययन से ये स्पष्ट है कि अगर आपको अपने घुटनों को खराब होने से बचाना है तो वजन कम करने पर अभी से ध्यान देना शुरू कर दीजिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें