scorecardresearch
 

यूपी: 2 घंटे तक एंबुलेंस का इंतजार करते रहे इतिहासकार योगेश प्रवीण, अस्पताल में मौत

योगेश प्रवीण के परिवार ने आरोप लगाया है कि उनकी तबीयत खराब होने के बाद वो लोग काफी देर से एंबुलेंस का इंतजार कर रहे थे. परिवारवालों ने बताया कि प्रवीण को तेज बुखार आया, सांस उखड़ गई जिसके बाद एंबुलेंस बुलाई गई लेकिन काफी देर तक एंबुलेस नहीं आई.

इतिहासकार योगेश प्रवीण.(फोटो- ट्विटर) इतिहासकार योगेश प्रवीण.(फोटो- ट्विटर)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • योगेश प्रवीण के निधन पर राजनीतिक हस्तियों ने जताया शोक
  • परिवार ने लगाया एंबुलेंस के आने में देरी का आरोप
  • बलरामपुर अस्पताल के डॉक्टरों ने मृत घोषित किया

प्रख्यात इतिहासकार पद्मश्री योगेश प्रवीण का सोमवार को निधन हो गया. वह लखनऊ के इतिहास को लेकर अपने काम के लिए काफी जाने जाते थे. बीते साल उन्हें पद्मश्री पुरस्कार दिया गया था. तबीयत खराब होने के बाद उन्हें बलरामपुर अस्पताल ले जाया गया था.यहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

इतिहासकार प्रवीण के परिवार ने आरोप लगाया है कि उनकी तबीयत खराब होने के बाद वे लोग काफी देर से एंबुलेंस का इंतजार कर रहे थे. उन्होंने बताया कि प्रवीण को तेज बुखार आया,सांस उखड़ी जिसके बाद एंबुलेंस बुलाई गई लेकिन काफी देर तक एंबुलेस नहीं आई. परिजनों ने निजी वाहन से उन्हें बलरामपुर हॉस्पिटल पहुंचाया जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया. उनकी मौत के बाद शोक की लहर दौड़ गई. तमाम राजनीतिक हस्तियों ने सोशल मीडिया के जरिए योगेश प्रवीण के परिवार के प्रति संवेदना जाहिर की है.

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्विटर पर लिखा है,'' प्रख्यात लेखक एवं इतिहासकार, श्री योगेश प्रवीण के निधन के समाचार से मुझे गहरी वेदना हुई है. वे लखनऊ के इतिहास, कला और संस्कृति के न केवल बहुत अच्छे जानकार थे बल्कि लखनऊ उनके भीतर हमेशा धड़कता रहता था. योगेश प्रवीण जी को उनकी कृतियों के माध्यम से हमेशा याद किया जाएगा. ॐ शान्ति!''

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने भी योगेश प्रवीण के निधन पर दुख प्रकट किया है. उन्होंने लिखा है, ''मशहूर इतिहासकार पद्मश्री योगेश प्रवीण जी का निधन अपूरणीय क्षति. लखनऊ के इतिहास पर किया आपका विशेष काम सदैव स्मरणीय रहेगा.शत-शत नमन एवं भावभीनी श्रद्धांजलि.शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना, दिवंगत आत्मा को शांति दे भगवान.''

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें