scorecardresearch
 

दिल्ली-मुंबई के बाद अब छोटे शहरों में कोरोना का तेज प्रसार, यूपी-बिहार-झारखंड में सबसे ज्यादा खतरा

कोरोना वायरस कितनी तेज़ी से फैल रहा है, इसको परखने के कई पैमाने हैं जिनमें से एक रिप्रोडक्शन नंबर (R) है. इसके अनुसार, ताज़ा आंकड़े बताते हैं कि उत्तर प्रदेश, झारखंड और बिहार में सबसे तेज़ी से कोरोना वायरस अपने पैर फैला रहा है.  

देश के कई राज्यों में तेज़ी से प्रसार कर रहा कोरोना (फोटो: India Today) देश के कई राज्यों में तेज़ी से प्रसार कर रहा कोरोना (फोटो: India Today)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कई राज्यों में कोरोना वायरस का तेजी से प्रसार
  • यूपी-बिहार समेत कई राज्यों में R वैल्यू ज्यादा

कोरोना वायरस ने बीते कुछ दिनों में भारत में जिस तरह से अपने पैर फैलाए हैं, उसने हर किसी का ध्यान खींचा है. वायरस कितनी तेज़ी से फैल रहा है, इसको परखने के कई पैमाने हैं जिनमें से एक रिप्रोडक्शन नंबर (R) है. इसके अनुसार, ताज़ा आंकड़े बताते हैं कि उत्तर प्रदेश, झारखंड और बिहार में सबसे तेज़ी से कोरोना वायरस अपने पैर फैला रहा है.  

करीब दो हफ्तों तक कोरोना के आंकड़ों को ट्रैक करने के बाद ये पता चलता है कि उत्तर प्रदेश में रिप्रोडक्शन नंबर 2.14, झारखंड में 2.13 और बिहार में 2.09 है. यानी इस जगह पर एक व्यक्ति औसतन इतने लोगों को संक्रमित कर रहा है. आंकड़ों के अनुसार, यूपी में अगर एक व्यक्ति को कोरोना हो रहा है, तो वह  दो से ज्यादा ( औसतन 2.14) लोगों को संक्रमण फैला रहा है. 

अगर R वैल्यू एक से अधिक है, तो वायरस तेज़ी से फैल सकता है और कम है तो ये काबू में हो सकता है. इस वक्त देश में R वैल्यू का औसत 1.32 है, यानी यूपी-झारखंड और बिहार राष्ट्रीय औसत से भी आगे चल रहे हैं. 

यूपी-बिहार-झारखंड में डराने वाला है R वैल्यू का आंकड़ा


चेन्नई के मैथमैटिकल साइंस इंस्टीट्यूट के प्रोफेसर सिन्हा के मुताबिक, भारत में अभी जो R वैल्यू (1.3) है, वो पिछले साल मार्च (1.92) और अप्रैल (1.53) के मुकाबले कम ही है. पिछले साल अप्रैल के बीच में भारत में ये घटकर 1.29 तक पहुंच गई थी. 

यूपी-झारखंड-बिहार में कैसे बढ़ रहे हैं मामले?
अगर साप्ताहिक औसत को देखें, तो इस वक्त यूपी में हर दिन 3000 केस दर्ज हो रहे हैं, जबकि मार्च में ये आंकड़ा 105 तक ही था. ऐसे ही झारखंड के साथ है, जहां पर इस वक्त 870 केस प्रतिदिन आ रहे हैं, जो वहीं पिछले महीने सिर्फ 45 केस का औसत था. बिहार में इस वक्त 732 केस हर रोज़ आ रहे हैं, मार्च में ये आंकड़ा 31 केस का था यानी एक महीने में 24 गुना मामले बढ़ गए हैं.

ये है देश के राज्यों का R वैल्यू का आंकड़ा

तीनों ही राज्यों का आंकड़ा दिखाता है, कि यहां पर R-वैल्यू फिर लॉकडाउन की शुरुआत वाली जगह पहुंच रहा है. पिछले साल लॉकडाउन की शुरुआत के वक्त जैसे मामले फैल रहे थे, अब वही रफ्तार आती दिख रही है. जब 2020 में लॉकडाउन को बढ़ाया गया, तो मामलों में कमी देखी गई थी. 

इन तीन राज्यों से हटकर अगर पूरे देश का आंकड़ा देखें, तो सात अप्रैल तक के आंकड़ों के मुताबिक देश में 36 में से 26 राज्य या केंद्र शासित प्रदेश ऐसे हैं, जहां पर रिप्रोडक्शन वैल्यू 1 से अधिक है. इनमें पश्चिम बंगाल (1.84) और नई दिल्ली (1.69) भी शामिल हैं. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें