scorecardresearch
 

Prayagraj Violence: फरार चल रहे सपा और AIMIM नेताओं की संपत्ति होगी कुर्क

Prayagraj Violence: AIMIM ज़िला अध्यक्ष शाह आलम, सपा पार्षद फज़ल खां, जीशान रहमानी, उमर खालिद और आशीष मित्तल की संपत्ति कुर्क करने की तैयारी की जा रही है. इन पर हिंसा भड़काने का आरोप है.

X
Prayagraj Violence (File Photo) Prayagraj Violence (File Photo)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • नेताओं पर हिंसा को भड़काने का है आरोप
  • कोर्ट ने जारी किया है गैर जमानती वारंट

प्रयागराज हिंसा पर योगी सरकार सख्त हो गई है. अब आरोपियों की संपत्ति कुर्क करने का फरमान जारी हुआ है. पुलिस की माने तो समाजवादी पार्टी (सपा), ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के नेताओं की संपत्ति कुर्क की जाएगी. इन सभी आरोपियों के खिलाफ कोर्ट से गैर जमानती वारंट भी जारी है.

AIMIM ज़िला अध्यक्ष शाह आलम, सपा पार्षद फज़ल खां, जीशान रहमानी, उमर खालिद और आशीष मित्तल की संपत्ति कुर्क करने की तैयारी की जा रही है. इन पर हिंसा भड़काने का आरोप है. सभी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं और इनके खिलाफ कोर्ट से गैर जमानती वारंटी जारी है. फरार होने की वजह से पुलिस ने इनकी संपत्ति कुर्क करने का फैसला किया है.

इससे पहले अटाला हिंसा के मुख्य आरोपी जावेद पंप को देवरिया जेल में शिफ्ट कर दिया गया. इसके अलावा 9 अन्य आरोपियों की भी जेल बदली गई थी. पुलिस ने इनको अलग-अलग जनपदों की जेल में भेजा था. एसएसपी अजय कुमार के मुताबिक, ये आरोपी जेल में रहकर गड़बड़ी फैला सकते थे इसलिए इनको अन्य जनपदों में शिफ्ट किया गया है.

मुख्य आरोपी जावेद पंप को देवरिया जेल, पेश इमाम अहमद अली को कानपुर जेल, फैज खान को गौतम बुद्ध नगर जेल, मोहम्मद परवेज को फतेहगढ़ जेल, फैजान को बुलंदशाहर जेल, साहब उर्फ मोहम्मद अहमद को अलीगढ़ जेल, इमरान अहमद को आगरा जेल और आरिफ अली को झांसी जेल में भेजा गया है

गौरतलब है कि 10 जून को शहर के अटाला इलाके में हुए बवाल और पथराव के मामले में पुलिस अब तक 97 आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है. इनमें से 10 बंदियों को दूसरे जनपदों की जेल में शिफ्ट कर दिया गया है. इनमें बड़ी मस्जिद का इमाम भी शामिल है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें