scorecardresearch
 

प्रियंका गांधी ने डॉ. कफील की पत्नी को फोन कर जाना हाल, दिया अपना निजी नंबर

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी लगातार डॉ. कफील खान के साथ संपर्क बनाए हुए हैं. इस कड़ी में प्रियंका ने शुक्रवार को डॉ. कफील खान की पत्नी शबिस्ता खान को फोन कर उनके परिवार का हालचाल पूछा और अपना निजी मोबाइल नंबर भी दिया और कहा कि जरूरत पड़े तो बेझिझक उन्हें फोन करें. 

डॉ. कफील खान डॉ. कफील खान
स्टोरी हाइलाइट्स
  • प्रियंका गांधी के संपर्क में डॉ. कफील खान
  • प्रियंका ने कफील खान को जयपुर भेजा है
  • कफील खान की पत्नी को प्रियंका ने दिया फोन नंबर

उत्तर प्रदेश की मथुरा जेल से साढ़े सात महीने बाद हाईकोर्ट के आदेश पर बाहर आए डॉ. कफील खान को कांग्रेस पूरी तरह से साधकर अपने साथ रखना चाहती है. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी लगातार कफील से संपर्क बनाए हुए हैं. इस कड़ी में प्रियंका ने शुक्रवार को डॉ. कफील खान की पत्नी शबिस्ता खान को फोन कर उनके परिवार का हालचाल पूछा और अपना निजी मोबाइल नंबर भी दिया और कहा कि जरूरत पड़े तो बेझिझक उन्हें फोन करें. 

डॉ. कफील खान मथुरा की जेल से बाहर आने के बाद कांग्रेस नेताओं के साथ गुरुवार को जयपुर पहुंचे. वहीं, पर कफील खान के परिवार के सदस्य भी पहुंचे हैं. कफील खान की मां, पत्नी, बच्चे और भाई फिलहाल जयपुर के एक रिजॉर्ट में ठहरे हुए हैं. गुरुवार को प्रियंका गांधी ने कफील खान से बातचीत की थी और शुक्रवार को उनकी पत्नी से बात करके हालचाल लिया है. 

कफील खान को मथुरा जेल के गेट से लेकर जयपुर के रिजॉर्ट तक ले जाने वाले उत्तर प्रदेश कांग्रेस अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के चेयरमैन शाहनवाज आलम ने प्रियंका गांधी से बात कराया है. शुक्रवार को सुबह साढ़े दस बजे महासचिव प्रियंका गांधी ने डॉ. कफील की पत्नी शबिस्ता खान से बात की. इस दौरान प्रियंका ने कफील की बुजुर्ग मां और उनके बच्चों की खैरियत जानी. प्रियंका ने उनको अपना निजी नम्बर भी दिया और कहा कि जब भी कोई जरूरत हो वो उन्हें बेझिझक फोन करें. 

प्रियंका गांधी के निर्देश पर मथुरा से डॉ. कफ़ील को शाहनवाज़ आलम व अन्य कांग्रेस नेता राजस्थान लेकर आए हैं. गुरुवार को कफील खान ने खुद कहा है कि प्रियंका गांधी ने हमारी बहुत मदद की है. कांग्रेस ने हमारी रिहाई के लिए बहुत संघर्ष किया है. प्रियंका की सलाह पर ही वो राजस्थान गए हैं. इस बात को कफील खान खुद भी स्वीकार कर रहे हैं कि प्रियंका गांधी के कहने पर जयपुर आए हैं. वह कहते हैं कि राजस्थान में कांग्रेस की सरकार है, इसलिए हम यहां सुरक्षित रह सकते हैं. हमारे परिवार को भी ऐसा ही लग रहा है, क्योंकि यूपी जाएंगे तो कोई न कोई केस लगाकर फिर हमें जेल में डाल दिया जाएगा. 

दरअसल, योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में यूपी में सरकार बनने के बाद से डॉ. कफील खान तीन बार जेल जा चुके हैं. पहली बार अगस्त 2017 में गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी की वजह से बच्चों की मौत हो गई थी, जिसके लिए डॉ. कफील को निलंबित कर जेल में डाल दिया गया था, करीब 9 महीने जेल में रहे थे. इसके बाद 2018 में उन्हें एक 9 साल पुराने मामले में बहराइच से गिरफ्तार किया गया था, इस दौरान दो महीने जेल में रहे. तीसरी बार उन्हें फरवरी 2020 में अलीगढ़ से गिरफ्तार किया गया था, सीएए-एनआरसी के विरोध प्रदर्शन के दौरान भड़काऊ भाषण देने के मामले में योगी सरकार ने एनएसए लगा दिया था. ऐसे में अब कोर्ट के आदेश पर 8 महीने बाद जेल से रिहाई हुई है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें