scorecardresearch
 

अयोध्या विवाद: 'आज तक' पर बोले दोनों पक्षकार- दूर रहें स्वामी और हाजी महबूब जैसे लोग

अयोध्या के हिंदु-मुस्लिम एक मंच पर आए. इस दौरान महंत ज्ञानदास ने कहा कि सुब्रमण्यम स्वामी ने राम मंदिर मामले को उलझा दिया है. उन्होंने कहा कि सुब्रमण्यम स्वामी इस मामले पर अपना मुंह बंद रखें. हिंदु और मुसलमान दोनों ही पक्षों ने कहा कि इस मामले पर केंद्र सरकार दोनों पक्षों से अलग-अलग बात करे.

एक मंच पर आए हिंदु-मुसलमान एक मंच पर आए हिंदु-मुसलमान

राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट की सलाह के बाद 'आज तक' ने बड़ी पहल की. इस पहल में अयोध्या में मुस्लिम-हिंदू दोनों पक्षों को एक साथ बैठाकर बातचीत कराई. पक्षकारों ने कहा कि सुब्रमण्यम स्वामी या हाजी महबूब जैसे बाहरी लोगों को विवाद से दूर रखें.

अयोध्या के हिंदु-मुस्लिम एक मंच पर आए. इस दौरान महंत ज्ञानदास ने कहा कि सुब्रमण्यम स्वामी ने राम मंदिर मामले को उलझा दिया है. उन्होंने कहा कि सुब्रमण्यम स्वामी इस मामले पर अपना मुंह बंद रखें. हिंदु और मुसलमान दोनों ही पक्षों ने कहा कि इस मामले पर केंद्र सरकार दोनों पक्षों से अलग-अलग बात करे. इकबाल अंसारी ने कहा, हम चाहते हैं कि मंदिर-मस्जिद का विवाद खत्म होना चाहिए. इस मामले को कट्टरपंथियों ने उलझा दिया है.

इस मुद्दे को सुलझाने के लिए रखी ये चार शर्तें...
शर्त 1- उसी 2.77 एकड़ जमीन पर बने राम मंदिर-मस्जिद.

शर्त 2- पहल आगे बढ़ाने के लिए केंद्र नुमाइंदे भेजे.

शर्त 3- सुब्रमण्यम स्वामी और हाजी महबूब जैसे लोग दूर रहें.

शर्त 3- अयोध्या में दोनों पक्षकार एक साथ बैठे.

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर मामले को कोर्ट के बाहर ही बातचीत से सुलझाने का निर्देश दिया है. कोर्ट ने कहा है कि अगर बातचीत से हल नहीं निकलता है तो कोर्ट मध्यस्थता के लिए तैयार है. कोर्ट के इस फैसले पर अयोध्या के साधु संतों ने खुशी जताई और उन्होंने कहा है कि दूसरे पक्ष से बातचीत करने को तैयार हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें