scorecardresearch
 

राम मंदिर को बीजेपी नहीं भक्त बनाएंगे : स्वरूपानंद सरस्वती

द्वारका और शारदा के पीठाधीश और ज्योतिषपीठाधीश्वर शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती का कहना है कि राम मंदिर का निर्माण समर्थकों और भक्तों की ओर से किया जाएगा ना कि किसी राजनीतिक दल की ओर से.

शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती

द्वारका और शारदा के पीठाधीश और ज्योतिषपीठाधीश्वर शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती का कहना है कि राम मंदिर का निर्माण समर्थकों और भक्तों की ओर से किया जाएगा ना कि किसी राजनीतिक दल की ओर से. आज तक/इंडिया टुडे से खास बातचीत में राम मंदिर निर्माण को लेकर खुल कर अपनी राय रखी.

शंकराचार्य ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के जजों को ये गौर करना चाहिए था कि हाईकोर्ट के आदेश के बाद किसी दखल या बातचीत की जरूरत नहीं है. बाबर के अयोध्या आने का कोई सबूत नहीं है इसलिए अस्तित्व पर ही सवाल है.

शंकराचार्य के मुताबिक कोई भी राजनीतिक दल राम मंदिर को बनाने में ना तो समर्थ हुआ है और ना ही आगे भी होगा. बीजेपी राम मंदिर नहीं बना सकती. इसे बनाया जा सकता है जब वो सत्ता में हो. लेकिन सत्ता में जो भी आता हैं वो 'धर्मनिरपेक्ष' होता है. और एक निष्पक्ष सरकार मंदिर का निर्माण नहीं कर सकती.

शंकराचार्य ने कहा कि बीजेपी ने अब यूपी में सरकार बनाई है लेकिन वो साथ ही निष्पक्ष सरकार है. बीजेपी अब महज एक राजनीतिक दल नहीं हैं. अब वो कैसे एक समुदाय या धर्म के लिए जिम्मेदारी ले सकते हैं.

शंकराचार्य के मुताबिक सवाल ये है कि क्या बीजेपी या कोई अन्य सरकार उस क्षेत्र में एक पत्थर भी रख सकती है. देश के राष्ट्रपति का एक किराएदार हैं और वो किराया देता है. यहां तक कि राष्ट्रपति भी उस किराएदार को नहीं हटा सकते. इस मामले में भी वहां सरकार है और केस कोर्ट में है. ऐसी स्थिति में वो कुछ नहीं कर सकते. नरसिंह राव सरकार के वक्त भी जमीन अधिगृहीत की गई थी लेकिन कुछ खास प्रगति नहीं की जा सकी थी.

शंकराचार्य ने कहा कि अयोध्या की जमीन पर यथास्थिति बरकरार है. मुद्दा ये है कि क्या वो राम लला की जमीन है या नहीं. हाईकोर्ट ने इसे सर्टिफाई किया है. अब इस मुद्दे पर बातचीत, चुनाव या राजनीति की आवश्यकता नहीं है. सुन्नी सेंट्रल बोर्ड के तर्क का निपटारा हो चुका है, इसलिए ये अब राम लला भूमि है.

शंकराचार्य के मुताबिक राम जन्म भूमि पुर्नोद्धार कमेटी है. हमारा वकील इस मुद्दे पर बहस कर रहा है, ऐसा करते महीनों हो गए हैं. न्यायिक दखल अब आवश्यक सीमा से बाहर जा रहा है. मुस्लिम संतुष्ट नहीं हैं इसलिए वो इस मामले को अदालत में खींच रहे हैं. शंकराचार्य ने कहा कि राम मंदिर को समर्थक और भक्त ही बनाएंगे ना कि कोई राजनीतिक दल.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें