scorecardresearch
 

वाराणसी बीजेपी प्रवक्ता से अमित शाह ने की बात, क्या है मायनें?

पांडे ने आजतक को बताया उन्होंने वाराणसी में चल रहे विकास कार्यों की जानकारी लेने के साथ ही कोरोना केस के बारे में भी जाना. गृहमंत्री ने कोरोना नियंत्रण व संक्रमण की ताजा स्थिति पूछने के साथ ही प्रदेश प्रवक्ता से पूछा कि वहा संसाधन की कमी तो नहीं है. 

अमित शाह ने वाराणसी का लिया हाल (फाइल फोटो) अमित शाह ने वाराणसी का लिया हाल (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • क्या वाराणसी से साधी जाएगी राजनीति
  • अमित शाह ने फोन कर जिले का जाना हाल
  • अधिकारियों के कार्यों का लिया जाएजा

पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कोरोना की दूसरी लहर का काफी असर देखने को मिला था. हालांकि अब हालात ठीक हो रहे हैं. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को वाराणसी के बीजेपी (भारतीय जनता पार्टी) नेताओं से फोन पर बातचीत की है. वाराणसी के बीजेपी प्रदेश प्रवक्ता अशोक पांडेय और अमित शाह के बीच रविवार दोपहर को करीब 10 मिनट की बातचीत हुई. 

पांडे ने आजतक को बताया उन्होंने वाराणसी में चल रहे विकास कार्यों की जानकारी लेने के साथ ही कोरोना केस के बारे में भी जाना. गृहमंत्री ने कोरोना नियंत्रण व संक्रमण की ताजा स्थिति पूछने के साथ ही प्रदेश प्रवक्ता से पूछा कि वहा संसाधन की कमी तो नहीं है. 

अंत में अमित शाह ने वाराणसी के अधिकारियों के कामकाज का भी जिक्र किया. उन्होंने पूछा कि कमिश्नर, डीएम का काम ठीक चल रहा है न? सूत्रों के मुताबिक, संगठन को लेकर भी प्रवक्ताओं की ओर से चर्चा हुई है जो पार्टी में ऊपरी पद चाहते हैं पर मिल नहीं पाया है.

अभी मंगलवार को ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी के एक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (CHC) को गोद लिया है. वाराणसी के सेवापुरी ब्लॉक के हाथी बाजार स्थित सीएचसी को सीएम की ओर से गोद लेने से आसपास के गांव में काफी खुशी है. इस अस्पताल के कायाकल्प के लिए सरकारी अमला तेजी से जुट गया है.

वाराणसी के जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि सीएचसी हाथी बाजार काफी महत्वपूर्ण अस्पताल है. इस क्षेत्र की स्वास्थ्य व्यवस्थाओं की जरूरतों को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उदाहरण प्रस्तुत कर जनपद में पहले सीएचसी हाथी बाजार को गोद लिया है. उन्होंने बताया कि आमतौर पर सीएचसी 30 बेड के होते हैं लेकिन यहां पर मात्र 15 से 20 बेड हैं. बेडों की संख्या बढ़ाने का काम शुरू हो चुका है. 

और पढ़ें- वाराणसी: ...जब 1896 में जन्मे 125 साल के स्वामी शिवांनद वैक्सीन लगवाने पहुंचे

जिलाधिकारी ने बताया कि डॉक्टर समेत सभी पैरामेडिकल स्टाफ को बढ़ाया जा रहा है. इसके लिए नए विज्ञापन निकाले जाएंगे. इस सीएचसी के स्टाफ़ जो कहीं और ड्यूटी पर लगाए गए हैं. उनको भी मुक्त किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि यदि तीसरी लहर आएगी तो बच्चों का भी यहां इलाज हो सकेगा. इस सीएचसी में लेवल-2 के भी दो बेडों की सुविधा रहेगी. कोविड के बाद भी ये सुविधा आम जनमानस के लिए उपलब्ध रहेगी. हाथी बाजार सीएचसी अब एफआरयू (फस्ट रेफरल यूनिट) अस्पताल हो जाएगा.

कोरोना से बेहाल था वाराणसी

वाराणसी में मार्च के महीने में सरकार ने कहा कि कोविड से केवल तीन मौतें दर्ज की गईं. वहीं नगर निगम ने 739 मौतों के प्रमाण पत्र जारी किए. अप्रैल महीने में भी सरकार के 176 कोविड मौतों के आंकड़ों से उलट बनारस नगर निगम ने 887 मौतों के प्रमाणपत्र जारी किए. मई के महीने में 16 मई तक ही 1265 मौतें रजिस्टर की गईं.

जाहिर है उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाला है. गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पीएम मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकत की थी. ऐसे में क्या ये माना जाए कि वाराणसी बीजेपी प्रभारी से बातचीत के जरिए चुनावी तैयारी की शुरुआत हो चुकी है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×