scorecardresearch
 

तेलंगाना में कांग्रेस को एक और झटका, अब AICC प्रवक्ता दसोजू श्रवण ने किया इस्तीफे का ऐलान

कांग्रेस में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. पार्टी असंतुष्ट नेताओं की बगावत बढ़ती जा रही है. उत्तर भारत हो या फिर दक्षिण भारत वरिष्ठ नेता पार्टी छोड़कर बीजेपी जॉइन कर रहे हैं. पिछले दिनों हरियाणा में कुलदीप बिश्नोई ने, पंजाब में सुनील जाखड़ ने तो तेलंगाना में विधायक कोमातिरेड्डी राजगोपाल रेड्डी ने कांग्रेस छोड़कर बीजेपी जॉइन कर ली है.

X
तेलंगाना के वरिष्ठ कांग्रेस नेता दसोजू श्रवण ने इस्तीफे का ऐलान किया तेलंगाना के वरिष्ठ कांग्रेस नेता दसोजू श्रवण ने इस्तीफे का ऐलान किया

तेलंगाना कांग्रेस को लगातार झटके लग रहे हैं. AICC के प्रवक्ता और तेलंगाना के वरिष्ठ कांग्रेस नेता दसोजू श्रवण ने भी पार्टी से इस्तीफा देने की घोषणा कर दी है. अब दासोजू श्रवण के बीजेपी में जाने की अटकलें लगाई जा रही हैं.

मालूम हो कि मुनूगोडू से कांग्रेस विधायक कोमातिरेड्डी राजगोपाल रेड्डी ने इस हफ्ते की शुरुआत में ही कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया था. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने उन्हें बातचीत करने के लिए दिल्ली बुलाया था लेकिन उन्होंने निमंत्रण स्वीकार नहीं किया था. इसके बाद उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात भी की थी. चर्चा है कि वे बीजेपी जॉइन कर सकते हैं. 

कांग्रेस के और नेता बीजेपी में होंगे शामिल

तेलंगाना बीजेपी के प्रवक्ता नटराजू वेंकट सुभाष ने 2 अगस्त को दावा किया था कि कांग्रेस और तेलंगाना राष्ट्र समिति यानि टीआरएस के कई विधायक आने वाले दिनों में बीजेपी में शामिल हो सकते हैं.

उन्होंने कहा था कि टीआरएस के विधायक अपने विधानसभा क्षेत्रों में जाने से डर रहे हैं क्योंकि केसीआर ने उनसे झूठे वादे किए हैं. करीब 15 से 18 टीआरएस विधायक और कांग्रेस के 5 विधायक अपनी मर्जी से बीजेपी में शामिल होंगे.’

सर्वे में दावा: चुनाव में बीजेपी को मिलेगा फायदा

तेलंगाना में अगले साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने हैं. यहां सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस), विपक्षी कांग्रेस और बीजेपी मुख्य पार्टियां हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हाल में निजी तौर पर कराए गए सर्वे के अनुसार अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में टीआरएस को 38.88 प्रतिशत, बीजेपी को 30.48 प्रतिशत, कांग्रेस को 23.71 प्रतिशत और अन्य को 6.91 प्रतिशत वोट मिल सकता है.

टीआरएस राज्य में फिर से बड़ी पार्टी बन सकती है लेकिन उसका वोट 8 फीसदी तक गिर सकता है जबकि बीजेपी का वोट शेयर 23.5 फीसदी बढ़ने की बात सामने आई है. 

2018 में टीआरएस ने 119 विधानसभा सीटों में से 88 सीटें जीती थीं. वहीं कांग्रेस के खाते में 19 सीटें और बीजेपी के खाते में केवल एक सीट आई थी. वहीं एक अन्य एजेंसी के सर्वे में आगामी चुनाव में टीआरएस को 39.5 प्रतिशत, कांग्रेस को 31 प्रतिशत और बीजेपी को 21 प्रतिशत वोट मिल सकते हैं.

हरियाणा-पंजाब में लग चुका है कांग्रेस को झटका

- हरियाणा के दिग्गज नेता और पूर्व मुख्यमंत्री भजनलाल के बेटे और चार बार के विधायक रहे कुलदीप बिश्नोई ने अपने समर्थकों के साथ कांग्रेस छोड़कर गुरुवार को बीजेपी जॉइन कर ली.

उन्हें पार्टी मुख्यालय में राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नेड्डा, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की उपस्थिति में सदस्यता दिलाई गई. हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भजन लाल के कुलदीप बिश्नोई छोटे बेटे हैं.

- पंजाब कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रहे सुनील जाखड़ इसी साल मई में बीजेपी में दामन थामा है. सुनील जाखड़ कांग्रेस में विभिन्न पदों पर रहे. अबोहर विधानसभा से तीन बार विधायक रहे जाखड़ पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता भी रह चुके हैं.

सुनील जाखड़ ने 2017 में बीजेपी सांसद विनोद खन्ना के निधन के बाद गुरदासपुर लोकसभा उपचुनाव जीतकर सांसद रहे. गांधी परिवार के करीबी नेता में सुनील जाखड़ को गिना जाता था, लेकिन चरणजीत सिंह चन्नी को सीएम बनाए जाने के चलते वो नाराज चल रहे थे. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें