scorecardresearch
 

सिर्फ टाइगर बचाने से क्या होगा सरकार...इन जीवों के लिए भी कुछ करिए

देश में टाइगर की आबादी बढ़कर 2967 हो गई है. इनके लिए देश में बड़ी मुहिम चलाई गई. लेकिन क्या देश में सिर्फ बाघ ही हैं जिनके लिए इतने सुरक्षा उपाय किए गए. बाकी खत्म होते जीव-जंतुओं के लिए भी लोगों और सरकार को कुछ करना होगा.

घड़ियाल की आबादी भी कम होती जा रही है. (फोटो-CJ Sharp) घड़ियाल की आबादी भी कम होती जा रही है. (फोटो-CJ Sharp)

देश में अभी टाइगर जिंदा है और रहेगा भी, क्योंकि इनकी आबादी बढ़कर 2967 हो गई है. इनके लिए देश में बड़ी मुहिम चलाई गई. नए और अत्याधुनिक तरीके अपनाए गए ताकि ये सुरक्षित रह सकें. नतीजा सकारात्मक रहा. लेकिन क्या देश में सिर्फ बाघ ही हैं जिनके लिए इतने सुरक्षा उपाय किए गए. देश में जीव-जंतुओं का विशाल खजाना है. आपको बता दें देश में कई ऐसे जानवर और हैं, जिन्हें बचाना जरूरी है. नहीं तो, ये लुप्त हो जाएंगे...जैसे धरती से डायनासोर खत्म हो गए. इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजरवेशन ऑफ नेचर के अनुसार देश में करीब 682 जंतु ऐसे हैं जो या तो गंभीर रूप से विलुप्त होने की कगार पर हैं या उन्हें लुप्त माना जा सकता है. इसके अलावा स्तनधारी, पौधे, पक्षियों, सरिसृप जैसी 1000 प्रजातियां खतरे की सूची में शामिल हैं.

आइए...जानते हैं ऐसे ही कुछ जीव-जंतुओं के बारे में जिनके लिए टाइगर जैसी मुहिम चलानी पड़ेगी

डॉल्फिन- आबादी करीब 2000 ही बची है

भारत में डॉल्फिन गंगा और सिंधु नदी में मिलती है. देश में ये इनकी आबादी करीब 2000 ही बची है. भारत सरकार ने 5 अक्टूबर 2009 को डॉल्फिन को भारत का राष्ट्रीय जलीय जीव घोषित किया है. ये डॉल्फिन केवल शुद्ध और मीठे पानी में जीवित रहती है. इन्हें आमतौर पर लोग सूंस कहते हैं, क्योंकि ये सांस लेते समय ऐसी ही आवाज निकालती हैं. गंगा नदी की डॉल्फिन की आंखें नहीं होतीं, पर इसके सूंघने की शक्ति बेहज तेज होती है. इनके विलुप्त होने का मुख्य कारण गंगा में बढ़ता प्रदूषण, बांधों का निर्माण एवं शिकार है.

घड़ियाल - पतले मुंह वाला यह जीव खत्म होने की कगार पर

मगरमच्छ की ही प्रजाति गेविएलिस से आता है घड़ियाल. यह केवल उत्तरी भारत की नदियों में मिलता है. इसका मुंह पतला और लंबा होता है. इनकी आबादी 300 से 900 के बीच है. यह समय के साथ 20-25 फुट तक लंबा हो जाता है. इसकी ऊपरी त्वचा कड़ी और मजबूत होती है. यह मगरमच्छ की तरह हिंसक नहीं होता. यह सिर्फ मछलियों को खाता है. इंसानों और अन्य जानवरों पर हमला न के बराबर ही करता है. यह अपनी पूंछ से वार करता है. घड़ियाल पानी में काफी देर तक रहता है लेकिन सांस लेने के लिए सतह पर आता है. यह पानी और जमीन दोनों पर तेजी से चल लेता है.

गिद्ध - अब तो बहुत ही कम दिखते हैं ये पक्षी

कत्थई और काले रंग का भारी पक्षी है. देखने की क्षमता तेज होती है. यह बहुत ऊंचाई से शिकार को देख लेता है. देश में 3 तरह के गिद्ध मिलते हैं. इनकी चोंच हल्की टेढ़ी और मजबूत होती है. गिद्ध मृत जीवों का सड़ा-गला मांस खाते हैं. चट्टानों पर रहते हैं. जनवरी-फरवरी में मादा गिद्ध एक या दो अंडे देती है. इस पक्षी के लुप्त होने का कारण पशुओं को दी जाने वाली दर्दनिवारक दवा है. यदि किसी पशु को मरने से पहले वह दवा दी गई है तो उसके मांस को खाने से गिद्ध के गुर्दे काम करना बंद कर देते हैं. वह मर जाता है.

भारतीय बस्टर्ड - सोन चिरैया का वजूद भी खतरे में हैं

खूबसूरत ग्रेट इंडियन बस्टर्ड पक्षी को सोन चिरैया या सोनपक्षी भी कहते हैं. देश में ग्रेट इंडियन बस्टर्ड जैसा वजनदार कोई दूसरा पक्षी नहीं है. इसका भार 10 किलोग्राम तक होता है. यह गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और महाराष्ट्र में मिलता है. यह बेहद शर्मीला होता है. घास में छुपकर रहना पसंद करता है. बस्टर्ड एक सर्वाहारी पक्षी है, जो अनाजों फलों के साथ कीट पतंगों को भी खाता है. इसे 1981 में राजस्थान का राज्य पक्षी घोषित किया गया था.

पेंगोलिन - गेंद की तरह मुड़ा हुआ प्राणी

भारतीय पेंगोलिन भारत के अलावा नेपाल, श्रीलंका और पाकिस्तान में भी मिलते हैं. पेंगोलिन की पूंछ मोटी और लंबी होती है. यह एक कीटभक्षी स्तनधारी जीव है, जो मिट्टी के टीलों को पंजों से खोद कर चींटियों और दीमक को खाता है. मलयालम भाषा में पेंगोलियन का अर्थ गेंद की तरह मुड़ा गोल हो जाने वाला जीव होता है. पेंगोलिन के शरीर की लंबाई 51 से 75 से.मी. तक होती है. इसका वजन 10 से 16 किलो के बीच होता है. इसके दांत नहीं होते. यह किसी भी खतरे को देखकर गोल हो जाता है.

गैंडा - एशियाई गैंडों में भारतीय गैंडा सबसे शानदार

गैंडे की 5 प्रजातियां मिलती हैं, जिनमें से दो अफ्रीका में तथा तीन दक्षिण एशियाई देशों में मिलती हैं. एशियाई गैंडों में भारतीय गैंडा ही सबसे बड़ा और शानदार होता है. इनकी औसत लंबाई 12 फीट और ऊंचाई 5 से 6 फीट तक होती है. मादा गैंडे का वजन 1500 किलो और नर गैंडे का वजन करीब 2000 किलो तक होता है. गैंडे के मुंह के ऊपर एक या डेढ़ फुट ऊंचा सींग होता है. इनके कान बड़े होते हैं. इनके नाखून हाथी जैसे होते हैं. इसकी खाल काफी मजबूत होती है. घास के घने जंगलों में गैंडे रहते हैं. इसकी औसत उम्र 100 साल होती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें