scorecardresearch
 

उपचुनाव: वोटिंग खत्म, बवाना में 44%, पणजी में 70% वोटिंग, फैसला 28 को

बुधवार को आंध्र प्रदेश में नंदयाल, गोवा में पणजी व वालपोई और दिल्ली में बवाना विधानसभा सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं. इन उपचुनावों के नतीजे 28 अगस्त को आएंगे.

उप चुनाव पर सभी की नजर उप चुनाव पर सभी की नजर

देश के 3 राज्यों में 4 विधानसभा सीटों पर बुधवार को उपचुनाव संपन्न हो गए. चार सीटों में दो सीटों पर पूरे देश की नजर है, इनमें दिल्ली की बवाना और गोवा की पणजी सीट शामिल है. बुधवार को आंध्र प्रदेश में नंदयाल, गोवा में पणजी व वालपोई और दिल्ली में बवाना विधानसभा सीटों पर वोट डाले गए. इन उपचुनावों के नतीजे 28 अगस्त को आएंगे.

बवाना में कम वोटिंग

बवाना में खराब मौसम की वजह से कम वोटिंग हुई. 44 प्रतिशत वोट डाले गए. 2013 और 2015 में बवाना विधानसभा क्षेत्र में मतदान का प्रतिशत क्रमश: 61.14 और 61.83 रहा था. वहीं पणजी और वालपोई यह आंकड़ा 70 प्रतिशत पार कर गया. पणजी में 70% और वालपोई में 79.8% वोट डाले गए.बवाना में शुरू से ही वोटिंग की रफ्तार कम रही. बवाना में 3 बजे तक 35.5% वोटिंग हुई थी. जबकि पणजी में दोपहर 12 बजे तक 34.65% और वालपोई में 40.02% वोट डाले जा चुके थे.

- बवाना में भी वोट डालने पहुंचे लोग

- गोवा के CM मनोहर पर्रिकर ने वोट डाला

 

 

बवाना पर निगाहें

दिल्ली की बवाना विधानसभा सीट पर उपचुनाव में सीधे तौर पर आम आदमी पार्टी, भारतीय जनता पार्टी के बीच टक्कर है. आम आदमी पार्टी के विधायक वेद प्रकाश के इस्तीफे के बाद यह सीट खाली हुई थी, वेद प्रकाश अब बीजेपी में शामिल हो गए हैं. जिसके बाद AAP ने रामचंद्र को मैदान में उतारा है, वहीं कांग्रेस की ओर से सुरेंद्र कुमार चुनाव लड़ रहे हैं. इसी सीट पर प्रचार के दौरान मनोज तिवारी पर हमले की घटना हुई थी.

 

पर्रिकर भी मैदान में

दिल्ली के अलावा सभी की नजरें गोवा में टिकी हुई हैं, यहां पर मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर चुनाव मैदान में हैं. रक्षा मंत्री के पद से इस्तीफा देने के बाद मुख्यमंत्री बने पर्रिकर पणजी से चुनाव लड़ रहे हैं. मनोहर पर्रिकर के खिलाफ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के करीबी माने जाने वाले गिरिश चंदोनकर लड़ रहे हैं. वहीं वालपोई में बीजेपी की ओर से विश्वजीत राणे चुनावी मैदान में हैं, जिनके सामने कांग्रेस के रवि नायक हैं.

इन 3 सीटों के अलावा आंध्रप्रदेश की नंदयाल में भी उपचुनाव हैं. यहां पर वोटिंग के लिए VVPAT का इस्तेमाल किया जा रहा है. इस सीट पर TDP और YSRCP के बीच सीधा मुकाबला है.

आम आदमी पार्टी की वापसी की कोशिश

बता दें कि हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव और निगम चुनावों में आम आदमी पार्टी के लिए उम्मीदों के मुताबिक नतीजे नहीं आ पाए थे. आप इस चुनाव के जरिए एक बार फिर वापसी की उम्मीद करेगी. अब सबकी नजर 28 अगस्त को आने वाले नतीजों पर है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें