scorecardresearch
 

भड़काऊ भाषण: ओवैसी जूनियर पर दर्ज होगा मुकदमा, कोर्ट ने दिया आदेश

अकबरुद्दीन ओवैसी पर 23 जुलाई को भड़काऊ भाषण देने के आरोप है. इस मामले में करीमनगर कोर्ट ने पुलिस को मामला दर्ज करने का आदेश दिया है.

अकबरुद्दीन ओवैसी (फाइल फोटो) अकबरुद्दीन ओवैसी (फाइल फोटो)

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के विधायक अकबरुद्दीन ओवैसी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. अकबरुद्दीन ओवैसी पर 23 जुलाई को भड़काऊ भाषण देने का आरोप है. अब इस मामले में करीमनगर कोर्ट ने पुलिस को मामला दर्ज करने का आदेश दिया है.

पुलिस के एफआईआर दर्ज करने से मना करने के बाद भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के एक वकील ने करीमनगर कोर्ट में गुहार लगाई थी. कोर्ट ने इसके बाद एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया. सारे दस्तावेज देखने के बाद करीमनगर के न्यायिक मजिस्ट्रेट ने तीन थानों को धारा 153 (भड़काऊ भाषण) के तहत मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया.

अकबरुद्दीन ओवैसी पर आईपीसी की धारा 153 बी और 506 (धमकी देना) के तहत मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया गया है. एफआईआर अभी तक नहीं हो पाई है. पुलिस तक कोर्ट की कॉपी पहुंचने के बाद ही प्राथमिकी दर्ज की जाएगी.

गौरतलब है कि करीमनगर में एक सभा को संबोधित करते हुए अकबरुद्दीन ओवैसी ने मॉब लिंचिंग का जिक्र करते हुए कहा था कि उनके 15 मिनट वाले बयान से अभी भी काफी लोग दहशत में हैं. साथ ही उन्होंने लोगों से कहा कि उन्हें आरएसएस, बजरंग दल और बीजेपी से डरने की जरूरत नहीं है. बता दें कि अकबरुद्दीन ओवैसी का एक भाषण काफी सुर्खियों में रहा था.

उन्होंने 2013 में कहा था कि हम (मुसलमान) 25 करोड़ हैं और तुम (हिंदू) 100 करोड़ हो, 15 मिनट के लिए पुलिस हटा दो, देख लेंगे किसमें कितना दम है. अकबरुद्दीन ओवैसी ने अपने इसी बयान को फिर से दोहराया. इससे पहले लोकसभा चुनाव के दौरान अकबरुद्दीन ओवैसी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें