scorecardresearch
 

सीएम गहलोत ने बच्चों संग मनाया धनतेरस, बोले- समझदारी की कमी से मेयर चुनाव पर हुआ विवाद

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि स्थानीय निकाय के मंत्री शांति धारीवाल ने अब सबकुछ साफ कर दिया है कि चुने हुए पार्षद ही अपना मेयर और सभापति चुनेंगे.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (फाइल फोटो- Aajtak) मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (फाइल फोटो- Aajtak)

  • सीएम गहलोत ने सरकारी शिशु गृह में बच्चों संग मनाया धनतेरस
  • स्थानीय निकाय के चुनाव पर सीएम बोले- बेवजह हुआ विवाद

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत शुक्रवार को धनतेरस के मौके पर समाज कल्याण विभाग के शिशु गृह में पहुंचे और अपनी पत्नी सुनीता गहलोत के साथ बच्चों को उपहार बांटे. सीएम गहलोत ने इस मौके पर शिशु गृह के बच्चों के साथ आतिशबाजी भी की.

इसके बाद मीडिया से बातचीत करते हुए गहलोत ने उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट का नाम लिए बिना कहा कि स्थानीय निकाय के चुनाव में बिना चुनाव लड़े मेयर और सभापति बनाने पर विवाद लोगों की समझदारी की कमी की वजह से हुआ है. साथ ही उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने लोगों में भ्रम फैलाया है, जिसकी वजह से बेवजह का विवाद पैदा हो गया.

आगे सीएम गहलोत ने कहा, 'स्थानीय निकाय के मंत्री शांति धारीवाल ने अब सबकुछ साफ कर दिया है कि चुने हुए पार्षद ही अपना मेयर और सभापति चुनेंगे. यह तो समझ की बात है कि अगर चुने हुए पार्षदों में से मेयर और सभापति नहीं चुना गया, तो क्या पार्षद इसका विरोध नहीं करेंगे.'

सचिन पायल ने दी दिवाली की बधाई

इससे पहले उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने अलवर में मीडिया से बातचीत करते हुए सरकार को धन्यवाद दिया कि उनकी बात को तवज्जो दी गई और बिना चुनाव लड़े मेयर और सभापति बनाए जाने के हाइब्रिड फार्मूले को सरकार ने ठंडे बस्ते में डाल दिया. इसे लेकर कुछ दिनों से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच ठनी हुई थी. सचिन पायलट ने दिवाली की शुभकामना देते हुए कहा कि इस त्योहार के मौके पर हमें आपस में राजनीतिक दुश्मनी भूलकर नई शुरुआत करनी चाहिए.

अगड़ों को आरक्षण मामले पर बोले सीएम

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आर्थिक रूप से कमजोर अगड़ों के आरक्षण मामले में कहा, 'हमने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है कि आर्थिक रूप से गरीब अगड़ी जाति के आरक्षण मामले में नियमों में बदलाव किया जाए और केवल आय की ही कैटेगरी रखी जाए. आरक्षण के लिए जमीन और मकान की कैटेगरी हटा दी जाए. इसके पीछे की मंशा यह है कि अगड़ी जातियों के लोगों के पास पुश्तैनी मकान है मगर वह आर्थिक रूप से कमजोर हैं. ऐसे लोगों को आरक्षण से वंचित नहीं करना चाहिए.'

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने स्थानीय निकाय चुनाव में कांग्रेस के जोरदार प्रदर्शन करने की बात कही. उन्होंने कहा कि जिस तरह से हरियाणा में कांग्रेस ने प्रदर्शन किया है उसकी वजह से राजस्थान के कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में भी उत्साह है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें