scorecardresearch
 

सिद्धू मूसेवाला मर्डर केस: लॉरेंस बिश्नोई की 27 जून तक बढ़ाई गई पुलिस रिमांड

सिंगर सिद्धू मूसेवाला ने 2022 में पंजाब में हुए विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस जॉइन किया था. 29 मई को मनसा जिले में अपराधियों ने ताबड़तोड़ गोली मारकर मूसेवाला की हत्या कर दी थी.

X
गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई. -फाइल फोटो गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई. -फाइल फोटो
स्टोरी हाइलाइट्स
  • विशेष जांच दल ने लॉरेंस से लंबी पूछताछ की है: सूत्र
  • हथियार काम न करने पर धमाके से मूसेवाला की हत्या का था प्लान

पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या के मामले में गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई की पुलिस रिमांड बढ़ा दी गई है. गैंगस्टर को पूछताछ के लिए पिछले सप्ताह दिल्ली से पंजाब लाया गया था. जानकारी के मुताबिक, कोर्ट ने बिश्नोई की रिमांड 27 जून तक के लिए लिए बढ़ा दी है. सूत्रों ने बताया कि पुलिस ने बिश्नोई की 10 दिन की रिमांड मांगी थी.

चंडीगढ़ के पास खरार में अपराध जांच एजेंसी के कार्यालय में पूछताछ के लिए गैंगस्टर को भारी पुलिस सुरक्षा के तहत बुलेट प्रूफ वाहन में लाया गया था. बिश्नोई को दिल्ली से लाए जाने के बाद उसे मानसा की एक अदालत में पेश किया गया, जिसने उसे सात दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया था.

विशेष जांच दल ने लॉरेंस से लंबी पूछताछ की है: सूत्र

पिछले हफ्ते यहां जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि लॉरेंस बिश्नोई को सिद्धू मूसेवाला की हत्या के मामले में आरोपी और साजिशकर्ता के रूप में नामित किया गया है. दिल्ली की एक अदालत ने पिछले हफ्ते पंजाब पुलिस को मामले में बिश्नोई को पंजाब ले जाने के लिए ट्रांजिट रिमांड की मंजूरी दी थी. सूत्रों ने बताया कि मूसेवाला हत्याकांड की जांच के लिए गठित विशेष जांच दल ने लॉरेंस बिश्नोई से इस मामले में लंबी पूछताछ की है. 

इससे पहले, पंजाब पुलिस ने कहा था कि मूसेवाला की हत्या बर्चस्व की लड़ाई का परिणाम है और इस हत्याकांड में लॉरेंस बिश्नोई गिरोह शामिल था. दिल्ली पुलिस ने मूसेवाला की हत्या के सिलसिले में रविवार को दो निशानेबाजों सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया था, अधिकारियों ने कहा था कि उनमें से एक घटना के समय कनाडा के गैंगस्टर गोल्डी बरार के संपर्क में था.

हथियार काम न करने पर धमाके से मूसेवाला की हत्या का था प्लान

गिरफ्तार किए गए तीनों लोगों के पास से आठ ग्रेनेड, एक अंडर बैरल ग्रेनेड लांचर, नौ इलेक्ट्रिक डेटोनेटर, एक असॉल्ट राइफल के साथ 20 कारतूस, तीन पिस्टल, 36 राउंड और एक एके सीरीज असॉल्ट राइफल का एक हिस्सा जब्त किया गया था. दिल्ली दिल्ली पुलिस ने कहा था कि हथियार काम नहीं करने की स्थिति में आरोपी धमाका कर मूसेवाला की हत्या की फिराक में थे. 

गिरफ्तार किए गए आरोपियों की पहचान हरियाणा के सोनीपत निवासी प्रियव्रत उर्फ ​​फौजी (26), राज्य के झज्जर जिले के कशिश (24) और पंजाब के भटिंडा निवासी केशव कुमार (29) के रूप में हुई है. पुलिस ने कहा कि प्रियव्रत शूटरों की टीम में शामिल था और घटना के समय गोल्डी बरार के संपर्क में था. पंजाब पुलिस ने पिछले हफ्ते कहा था कि मामले में मुख्य साजिशकर्ता लॉरेंस बिश्नोई समेत 10 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है.

ये भी पढ़ें

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें