scorecardresearch
 

प्रोटेस्ट, पदयात्रा और जनता दरबार... कांग्रेस के चिंतन शिविर में मोदी सरकार को घेरने की रणनीति हुई तैयार

आम चुनाव 2024 से पहले कांग्रेस देश भर में नरेंद्र मोदी सरकार की नीतियों की विफलता को लेकर जनता के सामने जाना चाहती है. कांग्रेस इस मुद्दे पर राहुल गांधी के नेतृत्व में सड़क पर उतरने का मन बना चुकी है.

X
कांग्रेस नेता राहुल गांधी (फोटो- पीटीआई) कांग्रेस नेता राहुल गांधी (फोटो- पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • साल भर धरना-प्रदर्शन करेगी कांग्रेस पार्टी
  • चुनाव से पहले कांग्रेस का जन-जागरण अभियान
  • सड़क पर निकलेंगे राहुल गांधी

उदयपुर के चिंतन शिविर में कांग्रेस ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ बड़े पैमाने पर धरना प्रदर्शन, पदयात्रा और जनता दरबार शुरू करने की योजना बनाई है. राहुल गांधी समेत पार्टी के दूसरे बड़े नेता इस धरना-प्रदर्शन का हिस्सा होंगे और आम चुनाव से पहले जनता को कांग्रेस से जोड़ने की कोशिश करेंगे. एक साल तक चलने वाले इस कार्यक्रम के जरिए कांग्रेस बेरोजगारी के मुद्दे को जनता के सामने जोर-शोर से लेकर जाना चाहती है और अपने पक्ष में जनमत तैयार करना चाहती है. 

सूत्रों के अनुसार साल भर चलने वाले इस अभियान में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के अलावा राहुल गांधी भी शामिल होंगे. कांग्रेस का ये अभियान जन जागरण 2.O का हिस्सा है. यूथ कांग्रेस ने भी इस तर्ज पर देश भर में यात्राएं आयोजित करने का प्रस्ताव दिया है.

रिपोर्ट के अनुसार यूथ कमेटी ने प्रस्ताव दिया है कि देश भर में लोगों को पार्टी से जोड़ने के लिए कांग्रेस को कश्मीर से कन्याकुमारी तक बेरोजगारी के मुद्दे पर आंदोलन करना चाहिए. इस आंदोलन में राहुल गांधी समेत पार्टी के दूसरे नेताओं को शिरकत करना चाहिए.  

चिंतन शिविर के दौरान आंदोलन कमेटी के चेयरपर्सन दिग्विजय सिंह ने साल भर चलने वाले अभियान की विस्तृत रूप-रेखा प्रस्तुत की. दिग्विजय सिंह के इस प्रस्ताव पर चिंतन शिविर में लंबी बातचीत हुई. 

पार्टी के वरिष्ठ नेता ने आजतक से बातचीत में कहा, "इस प्रस्ताव पर लगभग सहमति बन चुकी है. आंदोलन पूरे देश में निकाला जाएगा, इसमें समय समय पर राहुल गांधी के अलावा पार्टी के दूसरे नेता शिरकत करेंगे. लोगों से सीधा संवाद स्थापित करने के लिए ये एक बड़ा कदम है."

बता दें कि उदयपुर में चिंतन शिविर के दूसरे दिन पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने महासचिवों, स्टेट इंचार्ज, पीसीसी चीफ और अलग अलग राज्यों के विधायक दल के नेताओं से बात की थी. इसी दौरान जन जागरण अभियान 2.O पर चर्चा हुई थी. इस मीटिंग में राहुल गांधी मौजूद थे. कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व की मौजूदगी में उन मुद्दों पर चर्चा हुई जिसे केंद्र के खिलाफ आंदोलन के दौरान उठाया जाएगा. 

बता दें कि कांग्रेस ने इससे पहले 14 नवंबर से 29 नवंबर 2021 के बीच केंद्र सरकार के खिलाफ व्यापक प्रदर्शन अभियान लॉन्च किया गया था. इस आंदोलन का मकसद लोगों को पार्टी से जोड़ना था. इस दौरान पार्टी ने किसानों की स्थिति, नौकरी, महंगाई, आर्थिक मंदी जैसे मुद्दों पर केंद्र सरकार को घेरा था. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें