scorecardresearch
 

हेल्थ सेक्टर को PM मोदी का संदेश- कोरोना काल के बाद भारत की ओर देख रही दुनिया, भविष्य की करें तैयारी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को स्वास्थ्य क्षेत्र के बजट से जुड़े एक वेबिनार को संबोधित किया. पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया आज भारत को उम्मीद की नजर से देख रही है, ऐसे में भारत को खुद को तैयार करना होगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो: PIB) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो: PIB)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • स्वास्थ्य क्षेत्र के बजट पर स्पेशल वेबिनार
  • पीएम मोदी बोले- भविष्य के लिए तैयार रहे भारत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को स्वास्थ्य क्षेत्र के बजट से जुड़े एक वेबिनार को संबोधित किया. पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया आज भारत को उम्मीद की नजर से देख रही है, ऐसे में भारत को खुद को तैयार करना होगा. कोरोना काल के बाद दुनिया बदल रही है और इसकी अगुवाई अब भारत को करनी होगी.

पीएम मोदी ने यहां अपने संबोधन में कहा कि सरकार ने इस बार बजट के बाद हर क्षेत्र के लोगों से विशेष तरीके से बात की, ताकि 1 अप्रैल से बजट को तुरंत लागू किया जा सके. पीएम मोदी ने कहा कि इस बार हेल्थ सेक्टर को जितना बजट मिला है, वो ऐतिहासिक है जो कि देशवासी को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा देने के लिए प्रतिबद्ध है.

'पिछला साल अग्नि परीक्षा की तरह बीता'
पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि पिछला साल एक अग्नि परीक्षा की तरह था, देश के हेल्थ सेक्टर ने अनेकों की जिंदगी को बचाया है. कुछ महीने के अंदर ही देश ने ढाई हजार लैब बनाई, आज सरकार-प्राइवेट सेक्टर के साथ के दम पर 21 करोड़ टेस्ट हो गए हैं.

अपने संबोधन में पीएम मोदी बोले कि हमें भविष्य की चुनौतियों से भी निपटना होगा, वैक्सीन से लेकर वेंटिलेटर तक और अन्य सभी मेडिकल सुविधाओं को तैयार करना होगा. पीएम ने कहा कि देश में आधुनिक सिस्टम तैयार करने के लिए पीएम आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना को लाया गया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार का जोर हेल्थकेयर पर निवेश के साथ देश के अलग-अलग इलाकों तक सुविधाएं पहुंचाने का भी है. इसके जरिए स्वास्थ्य के साथ-साथ रोजगार के अवसर भी बढ़ते हैं. पीएम ने कहा कि दुनिया में भारत के हेल्थ सेक्टर पर भरोसा एक नए स्तर पर पहुंच गया है, आने वाले वक्त के लिए हमें तैयार करना है. 

पीएम मोदी ने कहा कि आने वाले वक्त में दुनिया में भारतीय डॉक्टर, नर्स और अन्य स्वास्थ्यकर्मियों की डिमांड बढ़ने वाली है. साथ ही दुनिया के लोग भारत में मेडिकल छात्रों की संख्या बढ़ेगी, इस लिहाज से भारत में भी मेडिकल छात्रों की संख्या को बढ़ाया जाएगा. पीएम ने कहा कि दुनिया को जिन मेडिकल सामानों की जरूरत है, वो भारत को तैयार करना चाहिए.


पीएम मोदी ने कहा कि भारत को स्वस्थ रखने के लिए हम 4 मोर्चों पर एक साथ काम कर रहे हैं. पहला मोर्चा है, बीमारियों को रोकने का, दूसरा मोर्चा गरीब से गरीब को सस्ता और प्रभावी इलाज देने का है. आयुष्मान भारत योजना और प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र जैसी योजनाएं यही काम कर रही हैं. इसके अलावा तीसरा मोर्चा है, हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर और हेल्थ केयर प्रोफेशनल्स की क्वालिटी में बढ़ोतरी करने का है, चौथा मोर्चा है, समस्याओं से पार पाने के लिए मिशन मोड पर काम करना है. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत 2025 तक टीबी को खत्म करेगा, कोरोना काल का जो अनुभव है वो इस मिशन में हमारी मदद करेगा. पीएम बोले कि कोरोना काल में भारत के आयुर्वेद को दुनिया ने माना है, भारत के मसाले-काढ़े आज दुनिया में फेमस हो रहे हैं और ऐसे में इसे बढ़ावा देने की जरूरत है. पीएम मोदी ने कहा कि प्राइवेट सेक्टर भी भारत के हेल्थ क्षेत्र में बड़ी भूमिका निभा सकता है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें