scorecardresearch
 

केरलः गोल्ड स्मगलिंग केस में कांग्रेस-बीजेपी ने किया प्रदर्शन, लाठीचार्ज में कई घायल

सचिवालय में आग लगने की घटना के खिलाफ कोझिकोड में प्रदर्शन कर रहे यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया. कांग्रेस कार्यकर्ता कोझिकोड पुलिस प्रमुख के कार्यालय की ओर मार्च कर रहे थे, इस दौरान पुलिस ने उन्हें रोका. बाद में पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया. प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया कि आग की घटना गोल्ड स्मगलिंग मामले में सबूत नष्ट करने की साजिश थी.

त्रिवेंद्रम में बीजेपी कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन (फोटो-PTI) त्रिवेंद्रम में बीजेपी कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन (फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सचिवालय में आग लगने को बताया साजिश
  • कोझिकोड में कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज
  • सबूत मिटाने के लिए आग की साजिश का आरोप

केरल में गोल्ड स्मगलिंग मामले में राजनीतिक विरोध प्रदर्शन तेज होता जा रहा है. केरल में कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के कार्यकर्ताओं ने राज्य में मंगलवार को कई जगह विरोध प्रदर्शन किए. इस दौरान पुलिस की लाठीचार्ज में कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं को चोट भी आई है. 

तिरुवनंतपुरम में सचिवालय में आग लगने की घटना के खिलाफ कोझिकोड में प्रदर्शन कर रहे यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया. कांग्रेस कार्यकर्ता कोझिकोड पुलिस प्रमुख के कार्यालय की ओर मार्च कर रहे थे, उस दौरान पुलिस ने उन्हें रोका. बाद में पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया. इसमें कई कांग्रेस कार्यकर्ता घायल हो गए. बाद में घायलों को अस्पताल ले जाया गया. 

कांग्रेस-बीजेपी ने आरोप लगाया कि आग की घटना गोल्ड स्मगलिंग मामले में सबूत नष्ट करने की साजिश थी.


कौन है स्वप्ना सुरेश, जिसका नाम गोल्ड स्मगलिंग में आने से हिली केरल सरकार

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार बीजेपी के कुम्मनम राजशेखरन ने सचिवालय में आग लगने की घटना पर कहा कि हम पूरी तरह से जांच की मांग करते हैं. अपराधियों के खिलाफ फौरन एक्शन लिया जाना चाहिए. हमें संदेह है कि सचिवालय के प्रोटोकॉल कार्यालय में रखी फाइलों को नष्ट करने के लिए आग की घटना को जानबूझकर अंजाम दिया गया. 


केरल गोल्ड स्मगलिंग केसः NIA का दावा- मुख्यमंत्री कार्यालय से मिले कनेक्शन

कुम्मनम राजशेखरन ने कहा कि हमें डर है कि ऐसे तत्व हैं जिन्होंने जांच (केरल गोल्ड स्मगलिंग केस) को प्रभावित करने के लिए आग की घटना को अंजाम दिया होगा. प्रोटोकॉल ऑफिस में बहुत महत्वपूर्ण फाइलें हैं. इसकी सुरक्षा के इंतजाम नहीं हैं. अगर सुरक्षा व्यवस्था दुरुस्त होती, तो ऐसा नहीं होता.

गौरतलब है कि यूएई वाणिज्य दूतावास की पूर्व कर्मचारी स्वप्ना सुरेश और दो अन्य लोगों के खिलाफ तिरुवनंतपुरम में 30 किलो गोल्ड स्मगलिंग मामले में केस दर्ज किया गया है. यह घटना 5 जुलाई तिरुवनंतपुरम एयरपोर्ट की है. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की कस्टडी में स्वप्ना सुरेश ने पूछताछ में बताया कि विभिन्न बैंकिंग और गैर बैंकिंग चैनल के जरिये निवेश करके इस अपराध को अंजाम दिया गया. हवाला नेटवर्क की अधिकारी पहले से ही जांच कर रहे हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें