scorecardresearch
 

लेफ्ट-TMC बंगाल के दो खराब मौसम थे, अब ये मौसम बदलेगाः बाबुल सुप्रियो

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव (India Today Conclave East 2021) के चौथे संस्करण में आयोजित POLITICS REDEFINED: People's politicians: Touching the right chord नाम के सेशन में पर्यावरण, जंगल और क्लाइमेट चेंज मंत्रालय के केंद्रीय राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो शामिल हुए.

X
India Today Conclave East 2021 में बात करते केंद्रीय राज्यमंत्री बाबुल सुप्रियो. फोटोः यासिर इकबाल
India Today Conclave East 2021 में बात करते केंद्रीय राज्यमंत्री बाबुल सुप्रियो. फोटोः यासिर इकबाल
स्टोरी हाइलाइट्स
  • टीएमसी ने बंगाल में बहुत बुरा हाल कर रखा है
  • TMC को बंगाल की खाड़ी नहीं अरब सागर में फेंकेंगे
  • बंगाल की जनता को दिलाएंगे ममता दीदी से आजादी

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव (India Today Conclave East 2021) के चौथे संस्करण में आयोजित POLITICS REDEFINED: People's politicians: Touching the right chord नाम के सेशन में पर्यावरण, जंगल और क्लाइमेट चेंज मंत्रालय के केंद्रीय राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो शामिल हुए. जब ममता बनर्जी से रथ यात्रा के बारे में पूछा गया था तो उन्होंने कहा कि मैं स्ट्रीट फाइटर हूं. बीजेपी के लोग जनता से कनेक्ट नहीं करते. इस पर बाबुल ने कहा कि अगर वो स्ट्रीट फाइटर हैं तो उन्हें जय श्रीराम, जय काली, जय हिंद जैसी चीजों को कहने से क्यों दिक्कत होती है. 

जब मैं किसी जगह जाता हूं तो लोग मुझे बताते हैं कि लोग कितने परेशान हैं. मेरी तो कार में काले ग्लास भी नहीं लगे हैं. जबकि उनके नेताओं की कार देखिए सबपर काले ग्लास लगे हैं. ये लोग मोटर व्हीकल एक्ट का पालन नहीं करते. बंगाल में अब क्लाइमेट चेंज हो गया है. लेफ्ट और टीएमसी दो खराब मौसम की तरह बंगाल पर छाए हैं. बंगाल के लोग अब ये दोनों खराब मौसम नहीं देखना चाहते. अब इस पूरे मौसम को बदलना होगा. बंगाल को नए साफ-सुथरे मौसम की जरूरत है. टीएमसी ने बंगाल में बहुत बुरा हाल कर रखा है. 

अगर किसी को मैं किसी धार्मिक वेलकम से बुलाऊं तो क्या वो बुरा है

टीएमसी कहती है कि जय श्रीराम का नारा लगाना इस चुनाव को धार्मिक मुद्दे पर ले जा रहा है. यह राम और दुर्गा के बीच की लड़ाई है. इस पर बाबुल ने कहा कि मेरा राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है. मैं संगीत की दुनिया से आया हूं. पर जब से सांसद बना हूं मैंने देखा कि टीएमसी के लोग जनता पर अत्याचार कर रहे हैं. टीएमसी और ममता केंद्र से आने वाली राशि का उपयोग भी नहीं करतीं. करती हैं तो लोगों तक उसका फायदा नहीं पहुंचता. 

बाबुल कहते हैं कि अगर मैं स्टेज पर आपको किसी धार्मिक वेलकम से बुलाउं तो क्या वह वॉर क्राई है. ये लोगों का मानना है कि वो क्या कहेंगे. क्या करेंगे. इस पर टीएमसी और ममता प्रतिबंध लगाती है. लोगों को मना करती हैं. वो न जाने क्यों इतना भड़कती हैं. ममता भगवानों के बीच एक विभाजन करना चाहती हैं. कोई किसी भी भगवान का नाम ले सकता है. उसे मान सकता है. हिंदू धर्म सिर्फ धार्मिक होना नहीं है. ये एक विचारधारा है बेहतरीन जीवन के लिए. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें