scorecardresearch
 

'जय श्रीराम' और 'जय सियाराम' में अंतर नहीं, ममताजी को अल्पज्ञान हैः कैलाश विजयवर्गीय

पश्चिम बंगाल के बीजेपी प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि ममता जी को अल्पज्ञान है. हम क्या करें. वो मानती ही नहीं कोई बात. वो समझ ही नहीं पातीं. क्योंकि 'सिया' तो 'श्री' का ही पर्यायवाची है. एक ही शब्द हैं दोनों. लेकिन ममता जी को ये बात समझ में ही नहीं आती. वो मानना ही नहीं चाहती. उन्हें ये सब नहीं पता है. 

X
India Today Conclave EAST में बोलते बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय. फोटोः यासिर इकबाल
India Today Conclave EAST में बोलते बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय. फोटोः यासिर इकबाल
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ममता बनर्जी को अल्पज्ञान है- कैलाश विजयवर्गीय
  • 'हमारा लक्ष्य फिलहाल चिड़िया की आंख पर है'
  • ओवैसी जैसे लोगों की जरूरत नहीं- विजयवर्गीय

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव (India Today Conclave East 2021) के चौथे संस्करण में आयोजित FUNDAMENTAL FACTS: Campaign Cacophony: The Art of Secular Appeasement में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और पश्चिम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय से जब पूछा गया कि इलेक्शन जीतने के लिए भगवान का नाम क्यों लिया जा रहा है, तो कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि तानाशाही, टोलाबाजी और तुष्टीकरण से बंगाल की जनता त्रस्त है. बंगाल में कोई जय श्रीराम बोलेगा मैं सोच भी नहीं सकता. जैसे वंदे मातरम था, वैसे जय श्रीराम है. इस नारे का आम मतलब नहीं है. जय श्रीराम का नारा बंगाल का इतिहास बदलेगा. 

ममत बनर्जी कहती हैं कि हमारे यहां दुर्गा मां की पूजा होती है. यहां पर जय सियाराम कहा जाता है. जय श्रीराम की परंपरा या इतिहास नहीं है. इस पर कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि ममता जी को अल्पज्ञान है. हम क्या करें. वो मानती ही नहीं कोई बात. वो समझ ही नहीं पाती. क्योंकि 'सिया' तो 'श्री' का ही पर्यायवाची है. एक ही शब्द हैं दोनों. लेकिन ममता जी को ये बात समझ में ही नहीं आती. वो मानना ही नहीं चाहती. उन्हें ये सब नहीं पता है. 

हमारा लक्ष्य फिलहाल चिड़िया की आंख पर है

बंगाल में सीएम कौन बनेगा. क्योंकि आप तो मध्यप्रदेश जाएंगे, इस पर कैलाश कहते हैं कि पहली बात ये है कि हम चिड़िया की आंख पर तीर मारने के लिए पूरी तरह से फोकस हैं. अर्जुन की तरह. हम पहले सरकार बनाना चाहते हैं. जहां हमारी सरकार नहीं होती वहां हम नेता के नाम की घोषणा नहीं करते. विधायक दल फैसला लेगा. अभी तो हम दो-तिहाई बहुमत की बात करते हैं. त्रिशंकु सरकार की स्थिति काल्पनिक है. 

कोई कहीं भी एलायंस कर ले, इससे बीजेपी को फर्क नहीं

कैलाश ने बताया कि हमें किसी भी तरह से 51 फीसदी वोट लाना है. बाकी 49 फीसदी में कौन किससे गठबंधन करता है इससे हमें कोई मतलब नहीं है. दक्षिण पश्चिम बंगाल में आपको कैसे विजय मिलेगा? इस पर कैलाश ने बताया कि हम फिर आश्चर्यजनक परिणाम देंगे. त्रिशंकु सरकार में विपक्षी एलायंस होगा तो आपको डर है कि इससे नुकसान होगा? इल पर कैलाश ने कहा कि मुझे या पार्टी को कोई डर नहीं है. हम 4 फीसदी से 17 फीसदी आए. फिर हम 40 पार पहुंच गए. अब 51 फीसदी लाना है. कोई किसी के साथ भी एलायंस करे, कोई फर्क नहीं पड़ता.  

मुकेश और रफी के गाने के साथ खत्म किया सेशन

विजयवर्गीय ने कहा कि आज इस देश का नेतृत्व मोदीजी कर रहे हैं. मोदीजी विकास के बारे में सोचते हैं. हमलोग कुछ नहीं करते ये नेतृत्व का चमत्कार है. क्या बीजेपी ओवैसी को बंगाल में ला रही है. ऐसा आरोप ममता बनर्जी लगा रही है. इस पर कैलाश ने कहा कि हमें ओवैसी जैसे लोगों की जरूरत नहीं है. हम काफी मजबूत हैं यहां पर. वो ममता जी सबसे हाथ मिला लें लेकिन हम जीतेंगे.

जय गायक बन गए कैलाश विजयवर्गीय

अपनी गायिकी के बारे में उन्होंने कहा कि मैं कोई प्रोफेशनल सिंगर हूं नहीं. कोई सीन देखकर गाना याद आ जाता है. इसके बाद कैलाश ने जुल्फें हैं जैसे... चौदहवी का चांद हो या आफताब हो...गीत गाया. इसके बाद फरमाइश हुई तो उन्होंने फिर हमें तुमसे प्यार कितना, ये हम नहीं जानते...गाना सुनाया.  

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें