scorecardresearch
 

कृषि बिल के खिलाफ SC में याचिका, कांग्रेस सांसद ने की कानून वापस लेने की मांग

केरल से कांग्रेस सांसद टीएन प्रतापन ने सुप्रीम कोर्ट में कृषि अधिनियम को चुनौती दी है. संसद द्वारा पिछले सप्ताह पारित किए गए किसानों से जुड़े बिल को वापस लेने के लिए रिट याचिका दायर की गई है.

कृषि बिल के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन जारी (फाइल फोटो-PTI) कृषि बिल के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन जारी (फाइल फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कांग्रेस सांसद टीएन प्रतापन ने दाखिल की याचिका
  • किसानों से जुड़े नए कानून को दी गई चुनौती
  • देशभर में किसान कर रहे हैं बिल का विरोध

कृषि बिल के खिलाफ सड़क पर प्रदर्शन जारी है. इस बीच यह मसला सुप्रीम कोर्ट में पहुंच गया है. केरल से कांग्रेस सांसद टीएन प्रतापन ने सुप्रीम कोर्ट में कृषि अधिनियम को चुनौती दी है. संसद द्वारा पिछले सप्ताह पारित किए गए किसानों से जुड़े बिल को वापस लेने के लिए रिट याचिका दायर की गई है.

कांग्रेस सांसद टीएन प्रतापन ने मूल्य आश्वासन और फार्म सेवा अधिनियम, 2020 के किसान (सशक्तीकरण और संरक्षण) समझौते के खिलाफ याचिका दाखिल की है. टीएन प्रतापन ने धारा 32 की धारा 2, 3, 4, 5, 6, 7, 13, 14, 18 और 19 की संवैधानिकता को चुनौती दी है. उनका कहना है कि यह संविधान के अनुच्छेद 14, 15 और 21 का उल्लंघन है.

सुप्रीम कोर्ट के समक्ष टीएन प्रतापन के वकील आशीष जॉर्ज, एडवोकेट जेम्स पी थॉमस और एडवोकेट सीआर रेखेश शर्मा पेश होंगे. इस बीच राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा कृषि विधेयकों पर हस्ताक्षर करने और उन्हें कानून बनाने के एक दिन बाद, पंजाब युवा कांग्रेस ने इंडिया गेट इलाके में एक ट्रैक्टर को आग के हवाले कर अपना विरोध जताया.

शहीद भगत सिंह की जयंती पर सुबह लगभग 7.15 बजे विवादास्पद कृषि कानूनों का विरोध करने के लिए पंजाब युवा कांग्रेस के लगभग 10-15 कार्यकर्ता एक ट्रक से राष्ट्रीय राजधानी पहुंचे. कार्यकर्ताओं ने ट्रक से एक ट्रैक्टर को उतारा और उसमें आग लगा दी. इंडियन यूथ कांग्रेस ने अपने एक ट्वीट में कहा कि अगर बहरों को सुनाना है, तो आवाज बहुत तेज होनी चाहिए.

इंडियन यूथ कांग्रेस के ट्वीट में कहा गया, 'शहीद भगत सिंह की स्मृति के सम्मान में, पंजाब युवा कांग्रेस ने इंडिया गेट पर एक ट्रैक्टर को जलाकर किसानों के प्रति भाजपा सरकार के उदासीन रवैये का विरोध किया. सोते हुए सरकार को जगाओ. इंकलाब जिंदाबाद.' घटना को राष्ट्रपति भवन से कुछ मीटर की दूरी पर अंजाम दिया गया.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें