scorecardresearch
 

कोरोना: पुणे के लोगों को राहत! सीरो सर्वे के नतीजों में 80 प्रतिशत लोगों में मिली एंटीबॉडीज

कोरोना महामारी के संकट के बीच पुणे को कोरोना का हॉटस्पॉट माना गया था. पुणे शहर के कुछ इलाकों में रहने वाले नागरिकों में अब हर्ड इम्युनिटी डेवलप होने की आधिकारिक रिपोर्ट सामने आई है. 

पुणे शहर के 5 इलाको के लगभग 1700 लोगों के बीच सीरो सर्वे किया गया था.(सांकेतिक तस्वीर) पुणे शहर के 5 इलाको के लगभग 1700 लोगों के बीच सीरो सर्वे किया गया था.(सांकेतिक तस्वीर)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 5 इलाकों के 1700 लोगों में किया गया था सर्वे
  • नियमों का पालन करने पर कोरोना की दूसरी लहर से बच सकता है पुणे

देशभर में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच महाराष्ट्र के पुणे शहर के लोगों के लिए राहत भरी खबर है. दरअसल, यहां के  5 इलाकों में सर्वे में शामिल लोगों में से 80 प्रतिशत से ज्यादा लोगों में प्रोटेक्टिव एंटीबॉडीज़ होने की पुष्टि हुई है. पुणे शहर के 5 इलाकों के लगभग 1700 लोगों में सीरो सर्वे किया जिसमें यहां हर्ड इम्युनिटी होने की बात सामने आई है. 

कोरोना महामारी के संकट के बीच पुणे को कोरोना का हॉटस्पॉट माना गया था. पुणे शहर के कुछ इलाकों में रहने वाले नागरिकों में अब हर्ड इम्युनिटी डेवलप होने की आधिकारिक रिपोर्ट सामने आई है. 

जुलाई-अगस्त के महीने में सावित्रीबाई फुले पुणे विद्यापीठ, आय आय एस एस ई आर, पुणे महानगरपालिका सहित और कई संस्थाओं ने मिलकर इन इलाकों में सीरो सर्वे किया था. शहर के 5 प्रभागों से लगभग 1700 नागरिकों के ब्लड सैंपल लिए गए थे.

सर्वे के लिए शहर में सबसे ज्यादा कोरोना प्रभावित 5  इलाके चुने गए जिसमें लोहिया नगर काशेवाड़ी कस्बा पेठ, भवानी पेठ का रास्ता पेठ, येरवडा और सोमवार पेठ, शामिल हैं. हरियाणा के फरीदाबाद के ट्रांसलेशन स्वास्थ्य विज्ञान एंव प्रौद्योगिक संस्थान में इन ब्लड सैंपल्स का विश्लेषण किया गया है.

देखें- आजतक LIVE TV

सर्वे के नतीजों को लेकर SPPU हेल्थ साइंस की डायरेक्टर डॉक्टर आरती नागरकर का कहना है कि अगर लोगों ने कोरोना के प्रति बनाये गए सभी नियमों का पालन सही ढंग से किया तो पुणे में कोरोना की दूसरी लहर नहीं आएगी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें