scorecardresearch
 

शिवराज मेरे भाई, उनके CM बने रहने के लिए कहीं से चुनाव लड़ने को तैयार: उमा भारती

रायसेन में आयोजित आम सभा में उमा भारती ने स्वयं चुनाव लड़ने की इच्छा जताई. उन्होंने चुनावी सभा में कहा कि शिवराज सिंह उनके भाई हैं और उन्हें मुख्यमंत्री बने रहने के लिए अगर कहीं से मुझे चुनाव लड़ना पड़ा तो मैं इसके लिए तैयार हूं.

उमा भारती उमा भारती
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सक्रिय राजनीति में आ सकती हैं उमा भारती
  • आम सभा में चुनाव लड़ने की इच्छा जताई
  • एक दूसरे के विरोधी रहे हैं शिवराज और उमा भारती

मध्य प्रदेश की राजनीति में इन दिनों तरह-तरह के रंग देखने को मिल रहे हैं. मंगलवार को मध्यप्रदेश की राजनीति में कभी एक दूसरे के घोर विरोधी रहे शिवराज सिंह चौहान और उमा भारती एक दूसरे की तारीफ के पुल बांधते नजर आए. इतना ही नहीं, रायसेन की सभा के बाद मध्यप्रदेश में उमा भारती के सक्रिय राजनीति में दोबारा आने की भी अटकलें अब तेज हो गई हैं. रायसेन में आयोजित आम सभा में उमा भारती ने स्वयं चुनाव लड़ने की इच्छा जताई. उन्होंने चुनावी सभा में कहा कि शिवराज सिंह उनके भाई हैं और उन्हें मुख्यमंत्री बने रहने के लिए अगर कहीं से मुझे चुनाव लड़ना पड़ा तो मैं इसके लिए तैयार हूं. 

दूसरी ओर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी उमा भारती की खूब तारीफ की. उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के कार्यकाल के समय पंचज्ज (जल, जमीन, जंगल) योजना को दोबारा शुरू करने का भी ऐलान किया. उन्होंने उमा भारती के त्याग, तपस्या और बलिदान की जमकर तारीफ की. यह चुनावी सभा सांची विधानसभा में आने वाले उपचुनाव को लेकर आयोजित की गई थी. इस सभा में मध्यप्रदेश की भविष्य की राजनीति किस दिशा में जाएगी, इसका भी एक इशारा देखने को मिल गया. 

अब जब ज्योतिरादित्य सिंधिया बीजेपी की राजनीति में प्रदेश में सक्रिय हैं, ऐसे में शिवराज सिंह अपने वर्चस्व को बचाने के लिए उमा भारती की मदद लेते दिख रहे हैं. मंगलवार को प्रदेश में उन्होंने दो सभा एक साथ की और दोनों ही जगह उन्होंने एक दूसरे की कार्ययोजनाओं की जमकर प्रशंसा की. हालांकि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान उमा भारती को चुनाव लड़ाए जाने के सवाल को टाल गए लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के आरोप पर उन्होंने तीखा कटाक्ष किया. ब्यावरा से कांग्रेस विधायक गोवर्धन सिंह दांगी के कोरोना से मौत के मामले में कमलनाथ के आरोपों पर उन्होंने कहा कि कोरोना काल में इस तरह की गंदी राजनीति नहीं करनी चाहिए. 

मुख्यमंत्री ने रायसेन जिले में 292 करोड़ के विकास कार्यों के शिलान्यास और भूमि पूजन भी किए. इस दौरान उनके साथ हाल ही में कोरोना को मात देकर घर लौटे प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी, पूर्व कैबिनेट मंत्री डॉ गौरीशंकर शेजवार, रामपाल सिंह सहित क्षेत्रीय सांसद उमाशंकर भार्गव भी मौजूद रहे. कार्यक्रम से पहले तेज बारिश ने आयोजन स्थल पर अफरा-तफरी का माहौल बना दिया. इस बिगड़े मौसम के दौरान मुख्यमंत्री को अपना हेलीकॉप्टर लैंड कराना पड़ा जिसका जिक्र मुख्यमंत्री ने खुद मंच से किया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें