scorecardresearch
 

MP: कांग्रेस नेता सज्जन वर्मा के बेतुका बयान पर बाल संरक्षण आयोग का नोटिस

मंगलवार को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक कार्यक्रम में कहा था कि जब लड़के के लिए शादी की उम्र 21 साल है, तो फिर लड़की के परिपक्वता की उम्र भी 21 साल होनी चाहिए.

सज्जन वर्मा को नोटिस (फाइल फोटो) सज्जन वर्मा को नोटिस (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कांग्रेस नेता सज्जन वर्मा को NCPCR का नोटिस
  • लड़कियों की परिपक्वता को लेकर शिवराज पर साधा था निशाना

राष्ट्रीय बाल संरक्षण अधिकार आयोग (NCPCR) ने सज्जन सिंह वर्मा को उनके बयान को लेकर नोटिस जारी कर दो दिनों के अंदर इस पर जवाब देने को कहा है. यह नोटिस सज्जन सिंह वर्मा के उस बयान पर आया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि डॉक्टर कहते हैं कि 15 साल के बाद ही बच्ची प्रजनन के योग्य हो जाती है. लड़कियों की शादी की उम्र 21 साल करने की क्या जरूरत है? शिवराज सिंह चौहान बड़े डॉक्टर हो गये हैं क्या? वर्मा के इस बयान की खूब आलोचना हो रही है.

इससे पहले मंगलवार को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक कार्यक्रम में कहा था कि जब लड़के के लिए शादी की उम्र 21 साल है, तो फिर लड़की के परिपक्वता की उम्र भी 21 साल होनी चाहिए.

सीएम ने कहा कि अब समाज को लड़कियों के प्रति अपनी सोच बदलनी चाहिए. लड़कियों की शादी भी 21 साल होनी चाहिए इसलिए इस पर विचार हो. लेकिन इस बीच अब सज्जन सिंह वर्मा के बयान से यह मामला गर्माता दिख रहा है. 

देखें: आजतक LIVE TV

बीते साल मध्य प्रदेश उपचुनाव के दौरान पूर्व सीएम कमलनाथ के 'आइटम' वाले बयान को लेकर इमरती देवी काफी चर्चा में रही थीं. हालांकि बाद में कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने इस बयान की निंदा की, जिसके बाद कमलनाथ को अपने बयान पर माफी मांगनी पड़ी थी. 

वहीं कांग्रेस के सीनियर नेता और पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने 'आइटम' वाले बयान को लेकर कहा था कि अगर कमलनाथ के इस बयान से कांग्रेस को नुकसान हुआ है तो फिर इमरती देवी चुनाव क्यों हारी? इमरती देवी जलेबी बन गई हैं. अब एक बार फिर सज्जन सिंह वर्मा ने महिलाओं को लेकर विवादित बयान दिया है.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें