scorecardresearch
 

UP Elections: सपा और बीजेपी के ल‍िए चुनौती बने छोटे दल, देखें गठबंधन के साइड इफेक्ट!

UP Elections: सपा और बीजेपी के ल‍िए चुनौती बने छोटे दल, देखें गठबंधन के साइड इफेक्ट!

बीजेपी ने 2017 में छोटे दलों का गठबंधन तैयार करके यूपी में भगवा लहराया तो अखिलेश ने भी इस बार दर्जनभर से ज्यादा सहयोगी इकट्ठा कर लिए. अखिलेश ने टीम तो बना ली लेकिन अब समाजवादी पार्टी में हालात एक अनार सौ बीमार जैसे हो गए हैं. समाजवादी पार्टी की एक-एक सीट पर समाजवादी, सहयोगी और दलबदलू दावा ठोक रहे हैं. इसी से सवाल खड़ा होता है कि क्या गठबंधन की राजनीति को साध पाएंगे अखिलेश यादव? वहीं रविवार को बीजेपी के मोर्चे में शामिल सभी दलों के साथ बैठक हुई, जिसमें 9 दलों ने हिस्सा लिया. बताया जाता है कि इस बैठक में अपना दल और निषाद पार्टी को ही तवज्जो दी गई जिससे बाकी दल नाराज हो गए. देखें ये वीडियो.

Ahead of the UP elections, political parties are putting in their best possible efforts. When BJP formed a coalition of smaller parties in 2017, Akhilesh also gathered more than a dozen allies this time. But now the situation in the Samajwadi Party has become worrisome. This raises the question of whether Akhilesh Yadav will be able to handle coalition politics? On Sunday, a meeting was held with all the parties involved in the BJP front, in which 9 parties participated. It is said that in this meeting, attention was given to Apna Dal and Nishad Party, which made the rest of the parties displeased. Watch this video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें