scorecardresearch
 

UP Elections: जब हम सड़क पर संघर्ष कर रहे थे, तब अखिलेश और मायावती घर से नहीं निकलेः प्रियंका गांधी

UP Elections 2022: प्रियंका गांधी ने कहा कि लड़की हूं लड़ सकती हूं अभियान अब घर-घर चलाया जा रहा है. कांग्रेस पार्टी नई ऊर्जा से भरी हुई है. वह बोलीं कि सिर्फ धर्म और जातिवाद पर नहीं, बल्कि शिक्षा और अन्य वास्तविक मुद्दों पर भी बात की जानी चाहिए.

X
प्रियंका गांधी (फाइल फोटो) प्रियंका गांधी (फाइल फोटो)
40:09
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 'चुनाव में वास्तव के मुद्दे उठाये जाएं'
  • 'नेताओं को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए'

UP Elections 2022: यूपी में विधानसभा चुनाव आते ही सभी पार्टियों ने दमखम लगाना शुरू कर दिया है. इस बीच कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि मैंने यूपी संगठन में 1.5 साल काम किया. जब मैं यूपी आई तो यहां ग्राम स्तर पर कोई संगठन नहीं था. हमने कई कार्यकर्ताओं को ट्रेनिंग दी है. उन्होंने कहा कि हमने लामबंदी का तरीका बदल दिया है.

प्रियंका गांधी ने कहा कि लड़की हूं लड़ सकती हूं अभियान अब घर-घर चलाया जा रहा है. कांग्रेस पार्टी नई ऊर्जा से भरी हुई है. इस दौरान उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव और मायावती उन्नाव और सोनभद्र मामले में घर से बाहर नहीं निकले थे, लेकिन हमने इन मुद्दों को उठाया, हम सड़क पर थे. हमारे करीब 1800 पार्टी कार्यकर्ता जेल में रहे.

'कई मुद्दों पर होनी चाहिए बात'

प्रियंका ने कहा कि हम चाहते हैं कि चुनाव में वास्तव में मुद्दा उठाया जाए. नेताओं को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए.  मैं यह नहीं कह रहा हूं कि धर्म और जातिवाद ऐसे मुद्दे हैं जिन पर बात नहीं की जानी चाहिए, बल्कि शिक्षा और अन्य वास्तविक मुद्दों पर भी बात की जानी चाहिए.

'राजनीति में महिलाओं की भागीदारी हो'

प्रियंका गांधी ने कहा कि मैंने महिलाओं का मुद्दा उठाया है तब मोदी जी ने एक महिला सम्मेलन किया है. सपा भी इस पर काम कर रही है. लेकिन भाजपा महिलाओं के लिए क्या कर रही है ये भी देखना होगा, सिर्फ शौचालय बनवाना और गैस बांटना. जबकि यूपी में रोजना रेप जैसी घटनाएं हो रही हैं. इनके लिए प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा. जबकि महिलाओं की राजनीति में अच्छी खासी भागीदारी होनी चाहिए.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें