scorecardresearch
 

UP: बयानबाजों, 'दगाबाजों' और निष्क्रिय विधायकों की पहचान कर रही है सपा, कटेगा टिकट

जानकारी के मुताबिक, पार्टी ने एक चरण की स्क्रीनिंग कर ली है. अभी 6 चरण की स्क्रीनिंग बाकी है. इस प्रक्रिया के पूरे होने के बाद ही टिकटों का ऐलान किया जाएगा. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव किसी भी कीमत में जीत हासिल करने वाले उम्मीदवारों पर दांव लगाना चाहते हैं.

फाइल फोटो फाइल फोटो
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जीत हासिल करने वाले उम्मीदवारों पर दांव लगाना चाहती है सपा
  • सपा स्क्रीनिंग के बाद करेगी उम्मीदवारों का ऐलान

अगले साल उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं. इससे पहले समाजवादी पार्टी ने तैयारियां तेज कर दी हैं. पार्टी ने टिकट मांगने वाले उम्मीदवारों की स्क्रीनिंग शुरू कर दी है. बताया जा रहा कि पार्टी इस चुनाव में कई मौजूदा विधायकों के टिकट काट सकती है. 

जानकारी के मुताबिक, पार्टी ने एक चरण की स्क्रीनिंग कर ली है. अभी 6 चरण की स्क्रीनिंग बाकी है. इस प्रक्रिया के पूरे होने के बाद ही टिकटों का ऐलान किया जाएगा. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव किसी भी कीमत में जीत हासिल करने वाले उम्मीदवारों पर दांव लगाना चाहते हैं. 

निष्क्रिय नेताओं पर गिरेगी गाज

बताया जा रहा है कि कई मौजूदा विधायकों के टिकट काटे जाएंगे. सपा गलत बयानबाजी, पंचायत चुनाव में निष्क्रिय और दगाबाजी करने वाले विधायकों की पहचान कर रही है. बताया जा रहा है कि ऐसे विधायकों का टिकट कटना तय माना जा रहा है. 

अभी सपा के पास 49 विधायक हैं. वहीं, 48 एमएलसी हैं. कई विधानपरिषद के सदस्य भी विधायकी का टिकट पाना चाहते हैं. ऐसे में पार्टी ने स्क्रीनिंग के बाद टिकटों का ऐलान करने का फैसले किया है. 

दलबदलुओं पर भी सपा की नजर 

बताया जा रहा है कि इस विधानसभा चुनाव में सपा की नजर दलबदलू नेताओं पर भी है. सपा ऐसे कई नेताओं को भी इस चुनाव में टिकट देने के मूड में हैं, जो दूसरी पार्टियों से हैं और बड़े चेहरे हैं. ऐसे नेताओं का सपा में शामिल होना शुरू भी हो गया है. सपा को उम्मीद है कि चुनाव आते आते ऐसे नेताओं की संख्या में और इजाफा होगा.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×