scorecardresearch
 

Congress list: यूपी में प्रियंका ने सिर्फ पीड़ितों पर ही नहीं, दिग्गजों पर भी खेला दांव

यूपी चुनाव में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सिर्फ पीड़ित महिलाओं और उनके परिवार के सदस्यों पर ही दांव नहीं लगाया बल्कि अपने दिग्गज और मजबूत नेताओं को भी टिकट देकर चुनावी मैदान में उतारा है. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू से लेकर सीएलपी लीडर आरधना मिश्रा और अजय राय जैसे भारी भरकम नेताओं को टिकट दिए हैं. 

अजय कुमार लल्लू, प्रियंका गांधी, आरधना मिश्रा अजय कुमार लल्लू, प्रियंका गांधी, आरधना मिश्रा
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कांग्रेस ने अपने मौजूदा विधायकों के टिकट दिए
  • रामपुर सीट पर नवाब काजिम अली लड़ेंगे चुनाव
  • प्रदेश अध्यक्ष से सीएलपी लीडर तक चुनाव लड़ रहे

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने अपने 125 सीटों के लिए अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं, जिनमें 50 टिकट महिलाओं को दिए गए हैं. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सिर्फ पीड़ित महिलाओं और उनके परिवार के सदस्यों पर ही दांव नहीं लगाया बल्कि अपने दिग्गज और मजबूत नेताओं को भी टिकट देकर चुनावी मैदान में उतारा है. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू लेकर सीएलपी लीडर आरधना मिश्रा और अजय राय जैसे भारी भरकम नेताओं को टिकट दिए हैं. 

लुईस खुर्शीद और अजय राय को मिला टिकट

कांग्रेस ने पूर्व केंद्रीय मंत्री और चुनाव घोषणापत्र कमेटी के अध्यक्ष सलमान खुर्शीद की पत्नी लुईस खुर्शीद को फर्रुखाबाद सीट से प्रत्याशी बनाया है तो प्रमोद तिवारी की बेटी आरधना मिश्रा को रामपुर खास से एक फिर टिकट दिया. आरधना मिश्रा इस सीट से दो बार से विधायक हैं और तीसरी बार किस्मत आजएंगी. वाराणसी के पिंडरा सीट से पूर्व विधायक अजय राय को प्रत्याशी बनाया गया है. अजय राय पिछली बार इसी सीट से चुनाव लड़े थे. 

अजय लल्लू और सुहैल अंसारी को टिकट

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को कुशीनगर की तमकुहीराज सीट से टिकट दिया है. अजय लल्लू दो बार से इस सीट से जीत दर्ज कर रहे हैं. कानपुर कैंट सीट से विधायक सुहेल अंसारी को फिर से कांग्रेस ने प्रत्याशी बनाया है, 2017 में सपा-कांग्रेस गठबंधन में जीते थे. किदवई सीट से कांग्रेस ने अपने दिग्गज नेता अजय कपूर को उतारा है तो आर्य नगर सीट से प्रमोद जायसवाल को प्रत्याशी बनाया है. 

देवरिया की रुद्रपुर सीट से कांग्रेस ने पूर्व विधायक अखिलेश प्रताप सिंह को टिकट दिया है. ऐसे ही इलाहाबाद नार्थ सीट से अनुग्रह नारायण सिंह को प्रत्याशी बनाया है. अनुग्रह नारायण दो बार के विधायक हैं और पिछले चुनाव में हार गए थे. कांग्रेस ने फाफामऊ सीट से दुर्गेश पांडेय को प्रत्याशी बनाया है. इलाहाबाद साउथ से अल्पना निषाद और बारा सुरक्षित सीट से मंजू संत को प्रत्याशी बनाया है. बाराबंकी से पूर्व सांसद रहे पीएल पुनिया के बेटे तनुज पुनिया को कांग्रेस ने जैदपुर सुरक्षित सीट से प्रत्याशी बनाया है. 

अमेठी-रायबरेली की एससी सीट पर प्रत्याशी

गांधी परिवार के गढ़ कहे जाने वाले रायबरेली और अमेठी की दो-दो सीटों पर कांग्रेस ने प्रत्याशी घोषित किए हैं. रायबरेली की बछरावां सुरक्षित सीट पर सुशील पासी और सलोन सुरक्षित सीट पर अर्जुन पासी को प्रत्याशी बनाया है. अर्जुन पासी पूर्व विधायक शिव बालक पासी के बेटे हैं. वहीं, अमेठी के तिलाई सीट से इस बार कांग्रेस ने मुस्लिम कैंडिडेट के बजाय वैश्य  समाज से आने वाले प्रदीप सिंघल को प्रत्याशी बनाया है, जो अमेठी के पार्टी जिला अध्यक्ष हैं. जगदीशपुर सीट पर विजय पासी को टिकट दिया है. 

रामपुर सीट पर नवाब काजिम अली

देवरिया जिले के भाटपार रानी सीट से केशव चंद यादव को टिकट दिया है. निजामाबाद सीट से अनिल यादव को प्रत्याशी बनाया है जबकि फरेंदा सीट से वीरेंद्र चौधरी के प्रत्याशी बनाया, जो पिछले चुनाव में महज दो हजार वोटों से हार गए थे. वहीं, रामपुर सीट से नवाब काजिम अली को प्रत्याशी बनाया है, जो पूर्व सांसद नूरबानों के बेटे हैं. आजम खान के धुर विरोधी माने जाते हैं और पिछले चुनाव में आजम खान के बेटे से स्वार सीट पर हार गए थे. इससे पहले कई बार विधायक रह चुके हैं.  रामपुर जिले की बिलासपुर सीट से पूर्व विधायक संजय कपूर को प्रत्याशी बनाया है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×