scorecardresearch
 
यूपी विधानसभा चुनाव

प्रियंका, गीता, दर्शना, रेखा.... BJP की महिला नेता जो UP चुनाव में निभाएंगी बड़ा रोल

बीजेपी महिला चेहरे
  • 1/11

मिशन 2022 में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) महिला वोटरों तक पहुंचने के लिए महिला नेताओं को सक्रिय भूमिका में रखकर कई अहम ज़िम्मेदारी दे सकती है. आइए आपको बताते हैं कि कौन हैं यूपी से आने वाले महिला चेहरे जिनकी संगठन से लेकर सरकार तक में भागीदारी है और चुनाव की दृष्टि से उनको बड़ी ज़िम्मेदारी दी जा सकती है-

स्मृति ईरानी
  • 2/11

स्मृति ईरानी

अमेठी में राहुल गांधी को हराकर सबसे बड़े राजनीतिक क़िले को ध्वस्त करने वाली स्मृति ईरानी केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्री के रूप में चुनाव में न सिर्फ़ बड़ी ज़िम्मेदारी निभाने वाली हैं, बल्कि अपने अलग अन्दाज़ की वजह से स्टार प्रचारक के रूप में भी पार्टी उनको जिम्मेदारी देगी. गांधी परिवार की पॉलिटिक्स के ख़िलाफ़ मुखर रहने वाली स्मृति ईरानी के ज़रिए अब बीजेपी प्रियंका गांधी की यूपी में सक्रियता का जवाब भी देना चाहती है.

साध्वी निरंजन ज्योति
  • 3/11

साध्वी निरंजन ज्योति

फ़तेहपुर से सांसद और केंद्रीय राज्यमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी की टीम में शामिल साध्वी निरंजन ज्योति की पृष्ठभूमि और उनका निषाद जाति से आना उनकी बड़ी ख़ासियत है. दूसरी बार सांसद बनीं निरंजन ज्योति पहले विधायक भी रह चुकी हैं. उनकी अपने क्षेत्र में पकड़ और उनकी वेषभूषा से पार्टी को चुनाव में काफ़ी मदद मिलने वाली है.

स्वाति सिंह
  • 4/11

स्वाति सिंह

योगी सरकार में राज्य मंत्री स्वाति सिंह का राजनीति में सफ़र बहुत पुराना नहीं है, पर अपने पति दयाशंकर सिंह के एक बयान के बाद जिस तरह बसपा के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने अमर्यादित रूप से उनके ख़िलाफ़ बात की उससे विधानसभा चुनाव में उनको पार्टी में मौक़ा दिया. सरकार बनने के बाद स्वाति सिंह को मंत्री भी बनाया गया. उनको चुनाव के लिए दौरे और प्रचार में मंच पर अहम चेहरे के तौर पर बीजेपी पेश कर सकती है.

रीता बहुगुणा जोशी
  • 5/11

रीता बहुगुणा जोशी

प्रयागराज से सांसद रीता बहुगुणा जोशी का यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री हेमवती नंदन बहुगुणा की बेटी होना उनका राजनीतिक आधार बनाता है तो उनका लम्बा राजनीतिक अनुभव भी बीजेपी के लिए चुनाव में उनको बड़ी ज़िम्मेदारी दिला सकता है. इलाहाबाद के मेयर से सांसद तक के सफ़र में रीता जोशी ने कई बार अपने जुझारूपन का सबूत दिया है, कांग्रेस से बीजेपी में आने के बाद वो विधायक और सांसद बनीं. ब्राह्मण वर्ग और पढ़े लिखे चेहरे के तौर पर उनको देखा जाता है.

गीता शाक्य
  • 6/11

गीता शाक्य

राज्यसभा सांसद गीता शाक्य को चुनावी समर से पहले यूपी में महिला मोर्चा की ज़िम्मेदारी देकर पार्टी ने तय कर दिया है कि उनको चुनाव में बड़े स्तर पर प्लानिंग और ख़ास तौर पर महिला वोटर्स को जोड़ने में अहम भूमिका निभानी होगी. उनके अध्यक्ष बनने के बाद ज़िलों और मंडलों की टीम के गठन और ज़िलों में महिला मोर्चा की कार्यसमिति कर पार्टी ये संदेश देने वाली है कि महिलाओं को जोड़ने में पार्टी कोई कोर कसर नहीं रखेगी. चुनाव में उनका काम मुख्य रूप से संगठन और ख़ास तौर पर महिलाओं से सम्पर्क अभियान का होगा. 

प्रियंका रावत
  • 7/11

प्रियंका रावत

बाराबंकी की पूर्व सांसद और वर्तमान में यूपी बीजेपी की महामंत्री प्रियंका रावत को संगठन में अहम भूमिका में रखा गया है. महामंत्री होने के नाते हर मीटिंग और अहम अभियानों की रूपरेखा बनाते समय प्रियंका रावत की अहम भूमिका होती है. वर्तमान में यूपी में संगठन के सबसे सक्रिय चेहरों में से एक प्रियंका रावत की प्लानिंग में सक्रिय भूमिका हो सकती है. 

रेखा वर्मा 
  • 8/11

रेखा वर्मा 

बीजेपी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और धौरहरा से सांसद रेखा वर्मा उत्तराखंड की प्रभारी हैं, लेकिन यूपी के चुनाव में भी पार्टी उनके चेहरे का लाभ के सकती है. ओबीसी वोट बैंक को इस बार पार्टी साधने की कोशिश कर रही है. ऐसे में पार्टी ने कुछ क्षेत्रों में रेखा वर्मा को भी सक्रिय कर सकती है.

दर्शना सिंह
  • 9/11

दर्शना सिंह

दर्शना सिंह महिला मोर्चा की पूर्व अध्यक्ष हैं. पार्टी ने उनका कार्यकाल पूरा होने पर उनको राष्ट्रीय टीम में भेजा है. हालांकि शांत स्वभाव की दर्शना सिंह पूर्वांचल के ज़िलों में महिलाओं को एकजुट कर पार्टी के पक्ष में मोड़ने में अहम रोल में आ सकती हैं.

नीलिमा कटियार
  • 10/11

नीलिमा कटियार

बीजेपी की काफ़ी सक्रिय नेता और प्रदेश मंत्री रहीं प्रेमलता कटियार की बेटी नीलिमा कटियार योगी सरकार में मंत्री हैं. अपनी मां की राजनीतिक विरासत को सम्भाल रहीं नीलिमा कटियार ने हाल ही में अपने क्षेत्र में प्रबुद्ध सम्मेलन कराकर और कई शहर के प्रबुद्ध लोगों को पार्टी के पक्ष में लाकर इस बात का संकेत दे दिया है कि चुनाव में पार्टी उनपर भरोसा कर सकती है. कानपुर की कल्याणपुर सीट से पहली बार विधायक और योगी सरकार के विस्तार में मंत्री बनी नीलिमा ने संगठन में भी कार्यसमिति सदस्य से लेकर प्रदेश मंत्री और महामंत्री तक के पद पर रही हैं.
 

उमा भारती
  • 11/11

उमा भारती

उमा भारती अपने राजनीतिक अनुभव और अन्दाज़ की वजह से चर्चा में रही हैं. फ़िलहाल सक्रिय राजनीति से दूर हैं लेकिन गाय, गंगा के मुद्दों पर बेहद सक्रिय हैं. यूपी चुनाव में हिंदुत्व के मुद्दों पर सक्रिय बीजेपी किस तरह से उनके अनुभव का लाभ लेगी ये देखने वाली बात है.