scorecardresearch
 

खगड़ियाः हैट्रिक लगाने वाली जदयू को रोक पाएगी आरजेडी? इस बार बने नए समीकरण

खगड़िया विधानसभा सीट पर 2015 में जदयू की पूनम यादव 64,767 (46.4%) मतों के साथ जीत हासिल करने में सफल रहीं थीं. उन्होंने अपने निकटतम प्रत्याशी हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के राजेश कुमार को हराया था.

आरजेडी के लिए नए समीकरण में चुनौती (फाइल फोटो-Getty Images) आरजेडी के लिए नए समीकरण में चुनौती (फाइल फोटो-Getty Images)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 2005 से लगातार जीत रही जदयू
  • पूनम यादव तीन बार से हैं MLA
  • राजद के लिए नए समीकरण में चुनौती

खगड़िया विधानसभा सीट पर कांग्रेस और जेडीयू के बीच मुकाबला है. कांग्रेस ने छत्रपति यादव और जेडीयू ने पूनम देवी यादव को अपना उम्मीदवार बनाया है. वहीं रालोसपा ने मोहम्मद फारूक अहमद, एलजेपी ने रेणु कुमार को टिकट दिया है. इस सीट पर तीन नवंबर को मतदान होंगे जबकि 10 नवंबर को नतीजे आएंगे.

खगड़िया विधानसभा सीट पर तीन बार से लगातार जेडीयू का कब्जा बना हुआ है. इस सीट पर 2005 से जदयू का कब्जा बना हुआ है. 2015 के चुनाव में हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (सेक्युलर) दूसरे स्थान पर रही थी. लेकिन इस बार चूंकि हिंदुस्तानी अवाम पार्टी एनडीए का हिस्सा है तो उसकी स्थिति और मजबूत रहने की संभावना है.

क्या थे 2015 के नतीजे

2015 में जदयू की पूनम यादव 64,767 (46.4%) मतों के साथ जीत हासिल करने में सफल रहीं थीं. उन्होंने अपने निकटतम प्रत्याशी हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के राजेश कुमार को हराया था. राजेश कुमार को 39,202 (28.1%) मतों के साथ दूसरे स्थान से संतोष करना पड़ा था. जन अधिकार पार्टी के मनोहर कुमार यादव 12,791 (9.2%) मतों के साथ तीसरे स्थान पर रहे थे.

चुनावी इतिहास

इसी तरह 2010 के चुनाव में जदयू की पूनम यादव जीत हासिल करने में कामयाब रही थीं. उन्होंने अपनी निकटतम प्रतिद्वंदी लोक जनशक्ति पार्टी की सुशीला देवी को 48,841 (42.9%) मतों के साथ शिकस्त दी थी. सुशीला देवी को 21,988 (19.3%) मतों के साथ दूसरे स्थान पर रहना पड़ा था. निर्दलीय उम्मीदवार धर्मेंद्र कुमार तीसरे स्थान पर रहे थे जिन्हें 15,237 (13.4%) वोट मिले थे. इसके पहले के चुनाव में 2005 में भी जदयू की टिकट पर पूनम यादव जीत हासिल करने में कामयाब रही थीं.

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के उम्मीदवार योगेंद्र सिंह ने 2000 के विधानसभा चुनावों में जीत हासिल की थी जबकि 1995 के चुनावों में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की उम्मीदवार चंद्रमुखी देवी जीतने में कामयाब रही थीं. 1990 वाले चुनाव में निर्दलीय उम्मीदवार रणवीर यादव जीते थे. 1985 में कांग्रेस के सत्यदेव सिंह, 1980, 1977 और 1972 में राम शरण यादव क्रमशः जनता पार्टी, निर्दलीय और भारतीय जनसंघ के उम्मीदवार के तौर पर लगातार जीत हासिल करते रहे.

संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के टिकट पर राम बहादुर आजाद 1969 और 1967 में चुनाव जीते. 1962, 1957 और 1951 में कांग्रेस ने इस सीट प जीत हासिल की. कांग्रेस के टिकट पर केदार नारायण सिंह आजाद 1962, 1957 चुनाव जीते जबकि 1951 वाले चुनाव में  द्वारिका प्रसाद ने जीत हासिल की.

सामाजिक ताना-बाना
 
जनगणना 2011 के मुताबिक खगड़िया विधानसभा क्षेत्र की कुल आबादी 364803 है जिसमें 86.46% लोग गांव जबकि 13.54% जनसंख्या शहरों में रहती है. इसमें अनुसूचित जाति और जनजाति की हिस्सेदारी क्रमशः 13.56 और 0.06 फीसदी है. 2015 के विधानसभा चुनावों में 59.05% मतदान हुआ था.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें