scorecardresearch
 

चेरिया बरियारपुरः JDU का हैट्रिक पर जोर, मंजू वर्मा फतह कर पाएंगी किला?

बहरहाल, अभी जदयू और एलजेपी दोनों ही एनडीए के अंग हैं. लिहाजा, 2020 के विधानसभा चुनावों में चेरिया बरियारपुर से एनडीए का उम्मीदवार होगा जिसका मुकाबला महागठबंधन के प्रत्याशी से होगा.

चेरिया बरियापुर सीट पर हैट्रिक लगाने पर जदयू की नजर (फोटो-Getty Images) चेरिया बरियापुर सीट पर हैट्रिक लगाने पर जदयू की नजर (फोटो-Getty Images)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 2010-2015 में जेडीयू को मिली थी लगातार जीत
  • राजद फिर से यहां से जीतने की करेगी कोशिश
  • एनडीए बनाम महागठबंधन के बीच होगा मुकाबला

बिहार में बेगूसराय लोकसभा क्षेत्र के तहत आने वाली चेरिया बरियारपुर विधानसभा सीट पर राष्ट्रीय जनता दल (RJD) और जेडीयू के बीच मुकाबला है. आरजेडी से राजवंशी महतो और जेडीयू से कुमारी मंजू वर्मा चुनाव मैदान में हैं. वहीं एलजेपी ने राखी देवी, रोलोसपा ने सुदर्शन सिंह को टिकट दिया है. इस सीट पर 3 नवंबर को हुई पोलिंग के दौरान 60.45% मतदान दर्ज किया गया. चुनाव के नतीजे 10 नवंबर 2020 को आएंगे.

चेरिया बरियारपुर विधानसभा सीट पर जेडीयू लगातार दो बार से जीत हासिल कर रही है. जेडीयू की उम्मीदवार कुमारी मंजू वर्मा ने 2015 में जीत हासिल की थी. पिछले चुनाव में इन्होंने तब के एनडीए प्रत्याशी लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के दिग्गज नेता और चेरिया बरियारपुर के पूर्व विधायक अनिल चौधरी को मात दी थी. 

बहरहाल, अभी जेडीयू और एलजेपी दोनों ही एनडीए के अंग हैं. लिहाजा, 2020 के विधानसभा चुनावों में यहां से एनडीए का उम्मीदवार होगा जिसका मुकाबला महागठबंधन के प्रत्याशी से होगा. 

क्या जदयू लगाएगी हैट्रिक

कुमारी मंजू वर्मा ने 2015 में 69,795 (50.4%) मतों से जीत हासिल की थी जबकि दूसरे स्थान पर रहे एलजेपी के अनिल चौधरी को 40,059 (28.9%) वोट मिले थे. भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के मोहम्मद अब्दुल हफीज खान 8,092 (5.8%) मतों के साथ तीसरे स्थान पर रहे थे.

2010 के विधानसभा चुनावों में जेडीयू के टिकट पर कुमारी मंजू वर्मा ने जीत हासिल की थी. उन्होंने एलजेपी के अपने निकटतम प्रत्याशी अनिल चौधरी को मात दी थी. मंजू वर्मा को 32,807 (28.7%) वोट मिले थे जबकि अनिल चौधरी को 31,746 (27.8%) वोट मिले थे. एलजेपी के अनिल चौधरी ने अक्टूबर 2005 में राजद की कुमारी साबित्री को मात दी थी जबकि फरवरी 2005 के चुनावों में उन्होंने राजद की उम्मीदवार राधा कृष्ण को हराया था.

चेरिया बरियारपुर का चुनावी इतिहास

इससे पहले, 2000 के चुनावों में आरजेडी के अशोक कुमार ने जदयू के अनिल चौधरी को शिकस्त दी थी. वहीं 1995 के चुनावों में जनता दल के राम जीवन सिंह ने कांग्रेस के सुखदेव महतो को पराजित किया था. 1990 चुनावों में सुखदेव महतो निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़े, लेकिन उन्हें जनता दल के राम जीवन सिंह के हाथों हार का सामना करना पड़ा.  

कांग्रेस के हरिहर महतो ने सीपीआई के सुखदेव महतो को 1985 के विधानसभा चुनावों में हराया था. दिलचस्प बात ये है कि सुखदेव महतो 1980 के चुनावों में सीपीआई के टिकट पर चुनाव लड़े थे और कांग्रेस (आई) के प्रत्याशी हरिहर महतो को शिकस्त दी थी. हरिहर महतो 1977 के चुनावों में कांग्रेस उम्मीदवार बने और जनता पार्टी के प्रत्याशी जुबैर आजमी जाफरी को हराया था.

जातीय ताना-बाना

जनगणना 2011 के मुताबिक चेरिया बरियारपुर विधानसभा क्षेत्र की कुल आबादी 392722 है. इसमें अनुसूचित जाति और जनजाति का अनुपात 16.74 और 0.01 फीसदी है. चेरिया बरियारपुर विधानसभा क्षेत्र में 2019 की मतदाता सूची के मुताबिक 242454 मतदाता है. 2015 के विधानसभा चुनावों में 59.85% मतदान हुआ था.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें