scorecardresearch
 

बिहार चुनाव: दूसरे चरण की 94 सीटों पर आज से नामांकन, आरजेडी का मजबूत दुर्ग

बिहार चुनाव के दूसरे चरण के 17 जिलों की 94 विधानसभा सीटों के लिए 9 अक्टूबर से 16 अक्टूबर तक कैंडिडेट अपना नामांकन दाखिल कर सकेंगे जबकि 16 अक्टूबर को नाम वापस लेने की तारीख तय है. वहीं, दूसरे चरण के लिए 3 नवंबर को वोट डाले जाएंगे जबकि नतीजे 10 नवंबर को आएंगे.

तेजस्वी यादव और नीतीश कुमार तेजस्वी यादव और नीतीश कुमार
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बिहार के दूसरे चरण का नामांकन 16 अक्टूबर तक
  • दूसरे चरण में 17 जिलों की 94 विधानसभा सीटें हैं
  • नीतीश सरकार के तीन मंत्रियों की साख दांव पर होगी

बिहार विधानसभ चुनाव के दूसरे चरण के लिए शुक्रवार से नामांकन प्रक्रिया शुरू हो रही है. दूसरे चरण के 17 जिलों की 94 विधानसभा सीटों के लिए 9 अक्टूबर से 16 अक्टूबर तक कैंडिडेट अपना नामांकन दाखिल कर सकेंगे जबकि 16 अक्टूबर को नाम वापस लेने की तारीख तय है. वहीं, दूसरे चरण के लिए 3 नवंबर को वोट डाले जाएंगे जबकि नतीजे 10 नवंबर को आएंगे. यह चरण बिहार की सत्ता की दशा और दिशा तय करेगा. 

17 जिलों की सीटों पर चुनाव 
बिहार विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में भी 17 जिलों की 94 विधानसभा सीटों पर चुनाव होने हैं. पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, सीतामढ़ी, शिवहर, मधुबनी, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज, सिवान, सारण, वैशाली, समस्तीपुर, बेगूसराय, खगड़िया, भागलपुर, नालंदा और पटना जिले की विधानसभा सीटें शामिल हैं. 

आरजेडी की साख दांव पर होगी
दूसरे चरण में आरजेडी की साख दांव पर लगी है तो नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के तीन मंत्रियों की किस्मत का भी फैसला होना है. इस चरण में पटना, मिथिलांचल, कोसी और सारण प्रमंडल की सीटों पर नीतीश कुमार की पार्टी का दबदबा रहा है. पिछले चुनाव में इन्हीं इलाकों में आरजेडी भी बड़ी पार्टी बन कर उभरी थी, लेकिन बदले हुए राजनीतिक समीकरण के चलते तेजस्वी यादव के कंधों पर आरजेडी के दुर्ग को बचाए रखने की चुनौती होगी. 

2015 में किसके पास कितनी सीटें
दूसरे चरण की 94 विधानसभा सीटों में एनडीए के पास सबसे ज्यादा सीटें हैं, लेकिन आरजेडी सबसे बड़ी पार्टी है. 2015 के विधानसभा चुनाव में इन 94 विधानसभा सीटों में से 29 सीट जेडीयू को मिली थी जबकि आरजेडी 30 सीटें जीतने में कामयाब रही थी. वहीं, बीजेपी को 19, कांग्रेस को 6, सीपीआई को एक, एलजेपी को एक और दो निर्दलीय विधायक जीते थे. पिछले चुनाव में महागठबंधन ने 65 सीटों पर जीत हासिल की थी. हालांकि, चंपारण इलाके में महागठबंधन पर बीजेपी भारी पड़ी थी और एक तरफा जीत दर्ज की थी.  

नीतीश के तीन मंत्रियों की साख दांव पर
नीतीश कुमार सरकार के तीन मंत्रियों की भी साख दांव पर होगी, अगर दोबारा से चुनावी मैदान में उतरते हैं. इनमें मधुबन सीट से बीजेपी विधायक व सहकारिता मंत्री राणा राणा रंधीर, गौड़ा बोराम से जेडीयू व मंत्री विधायक मदन सहनी और पटना साहिब से बीजेपी विधायक व मंत्री नंद किशोर यादव हैं. इस तरह से बीजेपी कोटे के दो और जेडीयू कोटे से एक मंत्री की साख दांव पर होगी. 
 

दूसरे चरण की 94 सीटें
बिहार चुनाव के दूसरे चरण में 17 जिलों की इन 94 विधानसभा सीटें हैं. इनमें नौतन, चनपटिया, बेतिया, हरसिद्धि (एससी), गोविंदगंज , केसरिया कल्याणपुर, पिपरा, मधुबन, श्योहर, सीतामढ़ी, रुन्नीसैदपुर, बेलसंद, मधुबनी, राजनगर (एससी), झंझारपुर, फूलपरास, कुशेश्वर अस्थान (एससी), गौरा बौराम, बेनीपुर, अलीनगर, दरभंगा ग्रामीण, मीनापुर, कांति, बरुराज, पारू, साहेबगंज, बैकुंठपुर, बरौली, गोपालगंज, कुचाइकोट, भोरे (एससी), हथुआ, सीवान, ज़िरादेई, दरौली (एससी), रघुनाथपुर, दरौंदा, बरहरिया और गोरियाकोठी हैं. 

इसके अलावा महराजगंज, एकमा, मांझी, बनियापुर, तरैया, मरहौरा, छपरा, गरखा (एससी), अमनौर, परसा, सोनपुर, हाजीपुर, लालगंज, वैशाली, राजा पाकर (एससी), राघोपुर, महनार, उजियारपुर, मोहिउद्दीननगर, विभूतिपुर, रोसेरा (एससी), हसनपुर, चेरिया-बरियारपुर, बछवारा, तेघरा, मटिहानी, साहेबपुर कमाल, बेगूसराय, बखरी (एससी), अलौली (एससी), खगड़िया, बेलदौर, परबत्ता, बिहपुर, गोपालपुर, पीरपैंती (एससी), भागलपुर, नाथनगर, अस्थावन, बिहारशरीफ, राजगीर (एससी), इस्लामपुर, हिलसा, नालंदा, हरनौत, बख्तियारपुर, दीघा, बांकीपुर, कुम्हरार, पटना साहिब, फतुहा, दानापुर, मनेर, फुलवारी (एससी) पर 3 नवंबर को मतदान होंगे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें